मुख्य समाचार:

हाइब्रिड म्यूचुअल फंडों ने 1 साल में दिया 17% तक रिटर्न, जानें क्यों निवेशक दिखा रहे हैं भरोसा

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड में सितंबर तमें निवेशकों ने 4757 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

October 10, 2019 1:52 PM
Hybrid Mutula Fund, best mutual funds performers, हाइब्रिड म्यूचुअल फंड, mutual fund, equity, gold and debt, AMFI, return in hybrid funds, invest in mutual funds, MFहाइब्रिड म्यूचुअल फंड में सितंबर तमें निवेशकों ने 4757 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

Hybrid Mutual Fund: अनिश्चितता की स्थिति में जहां निवेशक म्यूचुअल फंड में एक मुश्त निवेश से बच रहे हैं, हाइब्रिड म्यूचुअल फंड पर उनका भरोसा बना हुआ है. एसोसिएशन आफ म्यूचुल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के आंकड़ों के अनुसार सितंबर महीने में हाइब्रिड म्यूचुअल फंड कटेगिरी में 4757 करोड़ रुपये का इनफ्लो देखा गया. सितंबर में डेट फंडों की बजाए निवेशकों ने हाइब्रिड फंड्स को ज्यादा पसंद किया है. एक्सपर्ट का कहना है कि जब बाजार में अनिश्चितता को लेकर निवेशक कन्फ्यूज हैं, हाइब्रिड फंड उन्हें निवेश पर जोखिम से सुरक्षा देते हैं. एक तो यह पोर्टफोलियो को डाइवर्सिफाई करता है, वहीं इसमें रिस्क कम होता है.

एक साथ इक्विटी, डेट और गोल्ड में निवेश का मौका

हाइब्रिड म्यूचुअल फंड 3 तरह के एसेट क्लास में निवेश कर सकते हैं. इनमें इक्विटी, डेट और गोल्ड शामिल हैं. फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि अगर निवेशक कंजर्वेटिव हैं और बाजार के उतार चढ़ाव का जोखिम नहीं लेना चाहते हैं तो लंबी अवधि को ध्यान में रखकर एग्रेसिव हाइब्रिड स्कीमों में पैसा लगा सकते हैं. इन फंडों पर टैक्स लाभ भी मिलता है. एक साल से कम समय पर भुनाने पर डेट फंडों पर 30 फीसदी और इन फंडों पर 15 फीसदी टैक्स लागू होता है. इक्विटी के अलावा डेट और गोल्ड में निवेश करने से बाजार का जोखिम यहां कम हो जाता है. म्यूचुअल फंड की ये कटेगिरी सुरक्षित और स्थिर रिटर्न दे सकती है. सेबी ने इन्हें 6 कटेगिरी में बांट दिया है, जिससे निवेश पहले से आसान हो गया है.

1 साल के टॉप परफॉर्मर

फंड                                                 रिटर्न

Axis ट्रिपल एडवांटेज फंड                  17.40%
DSP इक्व्टिी एंड बांड फंड                 16.30%
SBI इक्विटी हाइब्रिड फंड                  15.90%
बरोडा कन्जर्वेटिव हाइब्रिड फंड           15.40%

3 साल के टॉप परफॉर्मर

फंड                                                    रिटर्न

ICICI प्रूडेंशियल एसेट एलोकेटर           9.5%
SBI इक्विटी हाइब्रिड फंड                      9.0%
मिराए एसेट हाइब्रिड इक्विटी फंड         8.84%
टाटा रिटायरमेंट सेविंग्स फंड                8.62%

हाइब्रिड फंड की अलग-अलग ​कटेगिरी

एग्रेसिव हाइब्रिड फंड: म्यूचुअल फंड की इस कटेगिरी में 65 से 80 फीसदी निवेश इक्विटी में होता है. वहीं, 20 से 35 फीसदी निवेश डेट में किया जाता है.

बैलेंस्ड हाइब्रिड फंड और एग्रेसिव हाइब्रिड फंड: बैलेंस्ड हाइब्रिड फंड अपने कुल एसेट का करीब 40 से 60 फीसदी इक्विटी या डेट इंस्ट्रूमेंट्स में निवेश करते हें. ये स्कीम आर्बिट्राज में निवेश नहीं कर सकती हैं.

डायनेमिक एलोकेशन या बैलेंस्ड एडवांटेज फंड: म्यूचुअल फंड की ये स्कीम कुल निवेश का 100 फीसदी इक्विटी या डेट में निवेश कर सकती है. यह अपने निवेश का प्रबंधन डायनेमिक तरीके से करती है.

मल्टी एसेट एलोकेशन फंड: म्यूचुअल फंड की इस कटेगिरी में इक्विटी, डेट और गोल्ड तीनों तरह के एसेट क्लास में निवेश किया जा सकता है. इसमें 65 फीसदी निवेश इक्विटी में, 20 से 25 फीसदी निवेश डेट में और 10 से 15 फीसदी निवेश गोल्ड में किया जाता है.

आर्बिट्राज फंड्स: इन्हें अपने कुल एसेट का कम से कम 65 फीसदी इक्विटी या इक्विटी से जुड़े साधनों में निवेश करना होता है.

इक्विटी सेविंग्स फंड्स: म्यूचुअल फंड की ये स्कीम इक्विटी, डेट और आर्ब्रिट्राज में निवेश करती है. कुल एसेट का कम से कम 65 फीसदी शेयरों में निवेश करना होगा. इसी तरह कम से कम 10 फीसदी निवेश डेट में करना होता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. हाइब्रिड म्यूचुअल फंडों ने 1 साल में दिया 17% तक रिटर्न, जानें क्यों निवेशक दिखा रहे हैं भरोसा

Go to Top