मुख्य समाचार:

पेट्रोल पंप खोलना हुआ पहले से आसान, सरकार ने बदले नियम; पढ़ें डिटेल

केंद्र सरकार ने पेट्रोल पंप खोलने के नियमों में बड़ा बदलाव करते हुए नियम पहले से आसान कर दिए हैं.

Updated: Nov 27, 2019 11:14 AM
new petrol pump norms, government eases norms to open petrol pump, oil retail marketing, PSU companies in oil sector, opportunity to global companies in fuel sector, modi govt petrol pump normsकेंद्र सरकार ने पेट्रोल पंप खोलने के नियमों में बड़ा बदलाव करते हुए नियम पहले से आसान कर दिए हैं.

केंद्र सरकार ने पेट्रोल पंप खोलने के नियमों में बड़ा बदलाव करते हुए नियम पहले से आसान कर दिए हैं. सरकार ने ईंधन क्षेत्र में नई उदारीकृत खुदरा नीति जारी की है. इसके तहत ईंधन की रिटेल बिक्री के क्षेत्र में उतरने वाली कंपनियों को देशभर में कम से कम 100 पेट्रोल पंप लगाने होंगे और उनमें से 5 फीसदी पेट्रोल पंप दूरदराज इलाकों में होने चाहिये. इस बारे में सरकार ने गजट नोटिफिकेशन भी जारी किए हैं. सरकार ने पिछले महीने ही कंपनियों के लिये पेट्रोल पंप खोलने के नियमों में ढील दी थी. सरकार ने गैर-पेट्रोलियम कंपनियों को इस क्षेत्र में उतरने की अनुमति दी है.

नए नियम के तहत लाइसेंस पाने वाली कंपनी को पेट्रोल पंप का परिचालन शुरू होने के 3 साल के भीतर सीएनजी, बायो ईंधन, एलएनजी, इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग स्टेशन आदि जैसे वैकल्पिक माध्यमों में से किसी एक के मार्केटिंग की सुविधा भी लगानी होगी. इससे पहले पेट्रोल पंप के लिये लाइसेंस पाने के लिये एक कंपनी को पेट्रोलियम क्षेत्र में 2,000 करोड़ रुपये निवेश करने की जरूरत होती थी.

आवेदन शुल्क 25 लाख रुपये तय हुआ

नोटिफिकेशन के अनुसार पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स के रिटेल मार्केटिंग के लिए लाइसेंस पाने के लिये आवेदन करते समय कंपनी की न्यूनतम नेट वर्थ 250 करोड़ रुपये होना चाहिये. सरकार ने पेट्रोल पंप पाने का आवेदन शुल्क 25 लाख रुपये तय किया है.

लाइसेंस मिलने के 5 साल के भीतर कंपनी को देश भर में कम से कम 100 पेट्रोल पंप खोलने होंगे. सरकार ने इससे पहले 2002 मे पेट्रोल पंप लाइसेंस आवंटन के प्रावधानों को संशोधित किया था. इस नीति की समीक्षा उच्च स्तरीय विशेषज्ञ समिति की सिफारिश के बाद की गई है.

ग्लोबल कंपनियों के भारत आने का रास्ता साफ

सरकार के पेट्रोलियम मार्केटिंग क्षेत्र में गैर-पेट्रोलियम कंपनियों को प्रवेश देने की नीति से वैश्विक स्तर की कंपनियों जैसे की फ्रांस की टोटल एसए, सउदी अरब की आरामको, ब्रिटेन की बीपी पीएलसी और ट्राफिगुरा की मार्केटिंग कंपनी पमा एनर्जी को भारतीय बाजार में आने का रास्ता मिलेगा.

इससे पहले फ्रांस की टोटल कंपनी अदाणी समूह के साथ मिलकर नवंबर 2018 में देश में 1500 खुदरा पेट्रोल और डीजल पंप के लिये लाइसेंस का आवेदन कर चुकी है. बीपी ने भी रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ मिलकर पेट्रोल पंप खोलने के वास्ते भागीदारी की है. पुमा एनर्जी ने खुदरा लाइसेंस के लिये आवेदन किया है, जबकि अरामको क्षेत्र में उतरने के लिये बातचीत कर रही है.

अभी ज्यादातर पेट्रोल पंप सरकारी कंपनियों के

फिलहाल देश में वर्तमान में चल रहे 66,408 पेट्रोल पंपों में से ज्यादातर पंप सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों आईओसीएल, बीपीसीएल, एचपीसीएल के ही हैं. इनके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, न्यारा एनर्जी (पूर्व में एस्सार आयल) और रायल डच शेल निजी क्षेत्र की कुछ कंपनियां भी पेट्रोल पंप चला रही हैं, लेकिन उनकी मौजूदगी बहुत कम है. रिलायंस के 1,400 पेट्रोल पंप हैं, जबकि उसकी सहयोगी बीपी ने भी 3,500 पेट्रोल पंप के लिये आवेदन किया है. शेल के 167 पेट्रोल पंप ही हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. पेट्रोल पंप खोलना हुआ पहले से आसान, सरकार ने बदले नियम; पढ़ें डिटेल

Go to Top