सर्वाधिक पढ़ी गईं

Dhanteras 2020: सोने की शुद्धता कैसे होती है निर्धारित? धनतेरस की खरीदारी से पहले जान लें, नहीं होगा नुकसान

एकदम शुद्ध सोना यानी 24 कैरट गोल्ड के गहने नहीं बन सकते हैं. आप जो भी सोने के गहने खरीदते हैं वे आमतौर पर या तो 22 कैरट या 18 कैरट के होते हैं.

Updated: Nov 12, 2020 1:42 PM
nagpur gold fraud newsDhanteras 2020

Dhanteras 2020: धनतेरस के मौके पर भारत में आमतौर पर सोना खरीदने का चलन है. अगर आप भी आज सोना खरीदने जाने वाले हैं तो पहले यह जरूर जान लें कि सोने की शुद्धता कैसे तय होती है. इससे आपको सोने की शुद्धता के हिसाब से पैसे देने होंगे. हालांकि, एक बात पहले ही समझ लें कि एकदम शुद्ध सोना यानी 24 कैरट गोल्ड के गहने नहीं बन सकते हैं. आप जो भी सोने के गहने खरीदते हैं वे आमतौर पर या तो 22 कैरट या 18 कैरट के होते हैं . गोल्ड में जस्ता या चांदी की मिलावट कर गहने बनाए जाते हैं. आइए समझते हैं कि यह कैरट क्या है और जो गहने आप खरीद रहे हैं, उसमें कितने ग्राम सोना है. यह जानना इसलिए जरूरी है क्योंकि आप कैरट सोना खरीदते हैं लेकिन भाव ग्राम के आधार पर चुकाते हैं.

गोल्ड की शुद्धता का मानक है कैरट

कैरट गोल्ड की शुद्धता का मानक है जैसे कि एक कैरट गोल्ड का मतलब होता है कि 1/24 फीसदी गोल्ड, अब आप 22 कैरट की शुद्धता वाला गोल्ड ले रहे हैं तो उसमें (22/24)*100 यानी 91.66 फीसदी गोल्ड है. इसी तरह 24 कैरट गोल्ड के आधार पर 22 कैरट या 18 कैरट गोल्ड के भाव तय होंगे. यह कैलकुलेशन आपको जरूर करनी चाहिए. इसलिए सोने के गहने खरीदने जाने से पहले इंडियन बुलियन ज्वैलर्स एसोसिएशन (ICGA) की वेबसाइट https://ibjarates.com/ पर जाकर ताजा भाव जरूर पता कर लें. इससे आप सावधान रहेंगे. अगर ये भाव आपको पता रहेंगे तो आपसे 22 कैरट या 18 कैरट के गोल्ड आभूषण खरीदने पर उतनी ही शुद्धता के पैसे देनें होंगे जितना आप खरीद रहे हैं. आईबीजीए की वेबसाइट पर दिए गए भाव देश भर में मान्य है.

कैसे तय होती है सोने के गहनों की कीमत, ज्वेलर के पास जाने से पहले आपके लिए जानना जरूरी

आमतौर पर ज्वैलर्स 22 कैरट यानी 91.6 फीसदी शुद्धता वाले गोल्ड ज्वैलरी की बिक्री करता है. इन गहनों पर 915 हॉलमार्क होता है. 18 कैरट की ज्वैलरी में 75 फीसदी शुद्ध सोना होता है.

सोना        –     शुद्धता
24 कैरट   –       99.9
23 कैरट   –       95.8
22 कैरट   –       91.6
21 कैरट   –       87.5
18 कैरट   –       75.0
17 कैरट   –       70.8
14 कैरट   –       58.5
9 कैरट     –       37.5

सरकारी गारंटी है हॉलमार्क

हॉलमार्क सरकारी गारंटी है मतलब कि उसकी शुद्धता प्रमाणित है. हॉलमार्क एक चिन्ह होता है जिसे भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) सोने -चांदी के सिक्कों और गहनों की शुद्धता को प्रमाणित कर अंकित करते हैं. यह पांच अंक का होता है और सभी कैरट का हॉलमार्क का अलग होता है. हॉलमार्क वाले सोने के गहने पर एक नंबर लिखा होता है. हर नंबर का एक मतलब होता है.

हॉलमार्क   –   शुद्धता
375          –    37.5%
585          –    58.5%
750          –    75.0%
916          –    91.6%
990          –     99.0%
999         –      99.9%

हॉलमार्क वाले आभूषण ही खरीदें

अगर आप सोने के गहने खरीद रहे हैं तो हॉलमार्क वाले गहने ही खरीदें क्योंकि इससे आपको पता रहेगा कि गहने में कितना शुद्ध सोना है. हालांकि अगले साल 15 जनवरी से हॉलमार्क वाले गहने ही बिक पाएंगे क्योंकि केंद्र सरकार ने इससे जुड़ा नियम बना दिया है और इसका उल्लंघन करने पर सजा या जुर्माना हो सकता है. इसके अलावा पक्का बिल जरूर लें. बिल होने की स्थिति में आप इसकी बिक्री करते समय मोलभाव कर सकेंगे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Dhanteras 2020: सोने की शुद्धता कैसे होती है निर्धारित? धनतेरस की खरीदारी से पहले जान लें, नहीं होगा नुकसान

Go to Top