मुख्य समाचार:

Barcode Inventor: बारकोड ने कैसे बदली रिटेल की दुनिया, जानें कब हुआ अविष्कार

हम बिलिंग काउंटर पर जाते हैं और प्रोडक्ट पर लगे बारकोड के स्कैन से निर्धारित बिल का भुगतान कर देते हैं.

December 13, 2019 4:02 PM
how barcode was born and how it changed retailहम बिलिंग काउंटर पर जाते हैं और प्रोडक्ट पर लगे बारकोड के स्कैन से निर्धारित बिल का भुगतान कर देते हैं. (Image: Reuters)

Barcode Inventor: हम जब भी किसी स्टोर या मॉल में जाते हैं, कोई चीज खरीदते हैं, उसे लेकर बिलिंग काउंटर पर जाते हैं और उस प्रोडक्ट पर लगे बारकोड के स्कैन से निर्धारित बिल का भुगतान कर देते हैं. मंगलवार को इंजीनियर और वैज्ञानिक George Laurer का 94 साल की उम्र में North Carolina में निधन हो गया. वह 1973 में इस यूनिवर्सल प्रोडक्ट कोड (UPC) या बारकोड के को-डेवलपर थे. यह एक ऐसा अविष्कार था जिसने कारोबार के काम करने के तरीके को पूरी तरह बदल दिया.

बारकोड के अविष्कार से पहले

इस अविष्कार से पहले स्टोर के मालिक कर्मचारियों को हर प्रोडक्ट को लेबल करने का काम देते थे. Laurer ने 2010 में वाशिंगटन पोस्ट को दिये अपने इंटरव्यू में बताया कि 1970 के दशक के दौरान कीमतें आसमान छू रहीं थीं और स्टोर्स में मौजूद सभी प्रोडक्ट्स पर प्राइस टैग लगाने की जरुरत पड़ती थी. तब Laurer ने Norman Joseph Woodland के साथ मिलकर बारकोड का अविष्कार किया. Woodland की मौत साल 2012 में हुई.

कैसे विकसित हुआ बारकोड का आइडिया ?

बारकोड Woodland के दिमाग की उपज थी जिसे सफलतापूर्वक डेवलेप करने का श्रेय Laurer को जाता है. 1950 के दशक के दौरान Woodland ने बारकोड सिम्बलोजी पर आधारित सिस्टम को बनाने के बारे में सोचा जिससे प्रोडक्ट और उसकी कीमत को एक मशीन के द्वारा पढ़ा जा सके. इसे Bulls-Eye बारकोड कहा गया. शुरुआत में Woodland ने इसके लिये प्रेरणा Morse Code से ली थी दो एक विख्यात कैरेक्टर-इनकोडिंग स्कीम थी. यह टेलिकॉम में काम करती थी.

Woodland का आइडिया अच्छा था लेकिन वह इसे विकसित नहीं कर पाये क्योंकि 1950 के दशक में लेजर और कंप्यूटिंग तकनीक की कीमत बहुत ज्यादा थी. दो दशक बाद 1970s में Laurer ने इसे विकसित किया. उस समय वे IBM के साथ काम कर रहे थे.

Laurer ने इसमें आयताकार सिस्टम का इस्तेमाल किया क्योंकि Bull’s-Eye में concentric circles थे जो इसे जटिल बनाते थे. उन्होंने स्कैनर को स्ट्रिप के साथ विकसित किया. सबसे पहला बारकोड ट्रांजैक्शन Wrigley की Juicy Fruit chewing gum के पैक पर हुआ.

Stock Markets Tips: शेयर बाजार में कैसे कमाएं पैसा, निवेश करते समय इन बातों का रखें ध्यान

बारकोड के अविष्कार के बाद

इतने सालों के बाद, बारकोड ने दुनिया भर में रिटेल इंडस्ट्री के काम करने के तरीके को बदल दिया है. बारकोड हजारों प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाता है और इससे बहुत सुविधा होती है. इससे बिलिंग में आसानी होती है और इसमें गलती होने की गुंजाइश कम रहती है. रिटेल स्टोर्स के मालिक इससे अपने सामान को बेहतर तरीके से ट्रैक कर पाते हैं.

बारकोड के आने के बाद 1970 और 1980 के दशक के दौरान बड़े रिटेलर्स का कारोबार बढ़ा है. बारकोड के अविष्कार की 25वीं सालगिरह पर Laurer ने एक इंटव्यू में बताया कि जब भी वह सामान के कोड को स्कैन करते हुए देखते हैं, तो उन्हें यकीन नहीं होता कि यह इतने अच्छे तरीके से काम कर रहा है.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Barcode Inventor: बारकोड ने कैसे बदली रिटेल की दुनिया, जानें कब हुआ अविष्कार

Go to Top