सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच आर्थिक मोर्चे पर राहत, लगातार सातवें महीने अप्रैल में 1 लाख करोड़ से अधिक जीएसटी संग्रह

कोरोना महामारी के बीच अप्रैल 2021 में लगातार सातवें महीने में GST Collection 1 लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया है.

Updated: May 01, 2021 7:34 PM
GST collections hit record high in April 2021 amid corona second waveअप्रैल 2021 में लगातार सातवें महीने 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक की जीएसटी ही नहीं कलेक्ट हुई बल्कि इसमें लगातार बढ़ोतरी भी हुई है.

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच आर्थिक मोर्चे पर राहत की खबर है. अप्रैल 2021 में लगातार सातवें महीने में GST Collection 1 लाख करोड़ रुपये के स्तर को पार कर गया है. वित्त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 2021-22 के पहले महीने में 1.41 लाख करोड़ रुपये का जीएसटी संग्रह हुआ. गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसची) कलेक्शंस प्रत्यक्ष रूप से आर्थिक गतिविधियों को प्रदर्शित करता है. अप्रैल 2021 में मार्च 2021 के मुकाबले 14 फीसदी अधिक जीएसटी संग्रह हुआ. मार्च 2021 में जीएसटी कलेक्शन 1.23 लाख करोड़ रुपये था.
पिछले साल अप्रैल की बात करें तो देश भर में लॉकडाउन के चलते रेवेन्यू रिकॉर्ड निचले स्तर 32,172 करोड़ रुपये पर पहुंच गया था. आर्थिक गतिविधियां बढ़ने पर अक्टूबर 2020 से जीएसटी कलेक्शन 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक होने लगा और तब से लगातार सातवें महीने अप्रैल 2021 में इसने 1 लाख करोड़ रुपये का स्तर पार किया है.

रूसी वैक्सीन Sputnik-V की पहली खेप भारत में, दिल्ली में बढ़ा लॉकडाउन; 18+ के वैक्सीनेशन के लिए ये रही राज्यों की तैयारी

जीएसटी कलेक्शन में लगातार हुई बढ़ोतरी

अप्रैल 2021 में लगातार सातवें महीने 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक की जीएसटी ही नहीं कलेक्ट हुई बल्कि इसमें लगातार बढ़ोतरी भी हुई है. मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक लगातार जीएसटी कलेक्शन में बढ़ोतरी इकोनॉमिक रिकवरी का स्पष्ट संकेत है. मंत्रालय के मुताबिक फर्जी बिल के खिलाफ निगरानी और जीएसटी, इनकम टैक्स व कस्टम आईटी सिस्टम्स समेत अन्य कई स्रोतों से मिले डेटा के एनालिसिस के अलावा प्रभावी टैक्स एडिमिनिस्ट्रेशन के चलते टैक्स रेवेन्यू में लगातार बढ़ोतरी हुई है.
अप्रैल में 1,41,384 करोड़ की जीएसटी कलेक्ट हुई जिसमें सेंट्रल जीएसटी 27,837 करोड़ रुपये, स्टेट जीएसटी 35,621 रुपये और आईजीएसटी 68,481 करोड़ रुपये (गुड्स इंपोर्ट पर 29,599 करोड़ रुपये समेत) और सेस 9445 करोड़ रुपये (गुड्स इंपोर्ट पर 981 करोड़ रुपये) शामिल हैं.

बड़ी राहत: FY20 का ITR भरने से चूक गए या गलती हो गई तो न घबराएं, 31 मई तक अभी भी है मौका

अगले महीने कम हो सकता है टैक्स कलेक्शन

टैक्स विशेषज्ञों का मानना है कि अप्रैल में जो जीएसटी संग्रह हुई है, वह मार्च की आर्थिक गतिविधियों का मापक है. अप्रैल में चूंकि देश के कई हिस्सों में कोरोना की दूसरी लहर के चलते लॉकडाउन/नाईट कर्फ्यू लगाया गया जिसके चलते आने वाले महीनों में जीएसटी संग्रह में गिरावट रह सकती है. डेयट इंडिया सीनियर डायरेक्टर एमएस सैनी का मानना है कि मार्च में बढ़ी आर्थिक गतिविधियों के चलते अप्रैल में जीएसटी कलेक्शन बढ़ा लेकिन अप्रैल में रिस्ट्रिक्शंस के चलते अगले महीने संग्रह कम हो सकता है. शार्दुल अमरचंद मंगलदास एंड कंपनी के पार्टनर रजत बोस के मुताबिक मार्च वित्त वर्ष का अंतिम महीना होता है जिसमें अधिकतर कंपनियां अपने बुक्स बंद करती हैं और इनवाइस बढ़ाती हैं जिसके चलते जीएसटी संग्रम में बढ़ोतरी हुई.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कोरोना महामारी की दूसरी लहर के बीच आर्थिक मोर्चे पर राहत, लगातार सातवें महीने अप्रैल में 1 लाख करोड़ से अधिक जीएसटी संग्रह

Go to Top