मुख्य समाचार:

स्टार्टअप को सरकार से बड़ी राहत, वोटिंग राइट्स समेत कई नियमों मे ढ़ील

सरकार ने भिन्न मताधिकार वाले शेयर से जुड़े नियमों में ढील दी, स्टार्टअप को मिलेगा बढ़ावा

August 17, 2019 2:20 PM
Govt relaxes norms for shares with differential voting rights to boost startupsस्टार्टअप और टेक कंपनियों से मिले अनुरोधों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है.

सरकार ने स्टार्टअप कंपनियों को बढ़ावा देने के लिए भिन्न मताधिकार वाले शेयरों (डिफरेंशियल वोटिंग राइट्स) से जुड़े नियमों में ढील दी है. स्टार्टअप कंपनियों को इससे पूंजी जुटाने के दौरान कंपनी पर नियंत्रण बनाए रखने में मदद मिल सकती है. संशोधित नियमों के अनुसार अब कंपनियां पेड अप कैपिटल इशू करने बाद 74 फीसदी तक भिन्न मताधिकार वाले शेयर रख सकती हैं. पहले यह सीमा 26 फीसदी थी. कॉरपोरेट मंत्रालय ने कंपनी अधिनियम के तहत कंपनी (शेयर कैपिटल एंड डिबेंचर) नियमों में संशोधन किया है.

डिस्ट्रब्यूटेबल प्रॉफिट की शर्त को हटाया

मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी विज्ञप्ति में कहा , ” एक अन्य महत्वपूर्ण बदलाव के तहत इन शेयरों को जारी करने के लिए किसी कंपनी के तीन साल तक डिस्ट्रब्यूटेबल प्रॉफिट हासिल करने की शर्त को भी हटा दिया गया है. अगर कोई कंपनी भिन्न मताधिकार वाले शेयर जारी करना चाहती है तो इसके लिए उसका कम से कम तीन साल मुनाफे में होना जरूरी होता है. अब इस जरूरत को समाप्त कर दिया गया है.’’मंत्रालय के मुताबिक , स्टार्टअप और टेक कंपनियों से मिले अनुरोधों को देखते हुए यह कदम उठाया गया है.

ESOPs शेयर जारी करने की समयसीमा को घटाया

इसके अलावा स्टार्टअप कंपनियां उनके दस फीसदी से अधिक शेयर रखने वाले उसके प्रोमोटर्स या निदेशकों को कर्मचारी शेयर विकल्प योजना (ESOPs) शेयर भी जारी कर सकती हैं. इसमें यह देखने की बात है कि इन प्रोमोटर्स अथवा निदेशकों के पास कंपनी के शेयर उनकी स्थापना के बाद दस साल तक रखे हों तभी उन्हें ESOPs शेयर जारी किए जा सकेंगे. इससे पहले इसके लिए यह समयसीमा पांच साल थी.

स्टार्टअप्स को मजबूती

इसके अलावा, मंत्रालय ने यह भी नोट कि भारतीय प्रोमोटर्स को विदेशी निवेशकों को इक्विटी जारी करके फंड इक्ट्ठा करने के लिए उन कंपनियों के कंट्रोल को छोड़ना पड़ता था जिनके पास यूनिकॉर्न बनने की संभावनाएं हैं. आम तौर पर, यूनिकॉर्न स्टार्टअप्स होते हैं जिनका बाजार मूल्यांकन कम से कम 1 बिलियन अमेरिकी डॉलर होता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. स्टार्टअप को सरकार से बड़ी राहत, वोटिंग राइट्स समेत कई नियमों मे ढ़ील

Go to Top