मुख्य समाचार:
  1. डाटा स्टोरेज को लेकर गूगल ने माने RBI के नियम, मांगा दो महीनों का वक्त

डाटा स्टोरेज को लेकर गूगल ने माने RBI के नियम, मांगा दो महीनों का वक्त

भारत में पेमेंट सर्विस के लिए गूगल अब RBI के स्थानीय डाटा स्टोरेज नियमों का पालन करेगा. इसके लिए गूगल ने अपनी सहमती जताई है.

September 11, 2018 10:19 PM
पेमेंट बिजनस, डेटा स्टोरेज, डेटा सुरक्षा, गूगल, google, financial transactions, data storage, Data Protection, Business News, Business News in Hindi, Latest Business News, Business Headlines, financial express hindiभारत में पेमेंट सर्विस के लिए गूगल अब RBI के स्थानीय डाटा स्टोरेज नियमों का पालन करेगा. इसके लिए गूगल ने अपनी सहमती जताई है. (Reuters)

भारत में पेमेंट सर्विस के लिए गूगल अब RBI के स्थानीय डाटा स्टोरेज नियमों का पालन करेगा. इसके लिए गूगल ने अपनी सहमती जताई है. गूगल की इस सहमती का मतलब है कि गूगल के जरिए भारत में हुए पेमेंट का डाटा भारत में ही स्टोर किया जाएगा. लेकिन, कंपनी ने इसके लिए दिसंबर तक का वक्त मांगा है.

आईटी मिनिस्ट्री के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ये जानकारी दी कि गूगल RBI के नियमों के तहत काम करने के लिए तैयार है. बता दें कि गूगल ने पिछले साल सितंबर में यूपीआई ट्रांजैक्शन एप ‘तेज’ को भारत में लॉन्च किया था जिसका अब नाम गूगल पे कर दिया गया है.

बताया जा रहा है कि आईटी एंड लॉ मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद के अगस्त में हुए अमेरिका दौरे के दौरान गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने उन्हें ये आश्वासन दिया कि गूगल RBI के नियमों के हिसाब से ही काम करेगा. लेकिन, इसके लिए दिसंबर तक का वक्त चाहिए.

बता दें कि डाटा की सुरक्षा और ट्रांजैक्शंस पर निगरानी बनाए रखने के उद्देश्य से RBI ने 6 अप्रैल को नोटिफिकेशन जारी किया था जिसमें गूगल पे जैसी सभी कंपनियों को फाइनैंशल ट्रांजैक्शन से संबंधित डाटा भारत में ही स्टोर करने को कहा गया था.  RBI ने इसके लिए अक्टूबर तक की डेडलाइन सेट की थी.

Go to Top