मुख्य समाचार:

4 माह में सोना 5798 रुपये महंगा, रिटर्न चार्ट बता रहा है कि अभी आने वाले हैं और अच्छे दिन

कोरोना संकट में जहां कैपिटल मार्केट की हालत खराब है, सोना सेफ हैवन बनकर उभरा है.

May 4, 2020 8:46 AM
Gold YTD returm approx 15%, gold outlook, return history of gold, return chart of gold, which month is best for gold, gold safe heaven, corona crisis, सोना सेफ हैवनकोरोना संकट में जहां कैपिटल मार्केट की हालत खराब है, सोना सेफ हैवन बनकर उभरा है.

साल 2019 में करीब 25 फीसदी रिटर्न देने के बाद सोने ने इस साल भी निवेशकों की चांदी कराई कराई है. कोरोना संकट में जहां कैपिटल मार्केट की हालत खराब है, सोना सेफ हैवन बनकर उभरा है. 1 जनवरी से 30 अप्रैल तक सोने ने करीब 5800 रुपये प्रति 10 ग्राम या करीब 15 फीसदी रिटर्न दे दिया है. सोने में यह तेजी देखकर आपको शायद यह लग रहा होगा कि अब सोने में निवेश करना फायदेमंद नहीं होगा. लेकिन सोने की 10 सालों की रिटर्न हिस्ट्री देखें तो अभी तो इसके अच्छे दिन आने बाकी है. मई में सोने पर दबाव रह सकता है, लेकिन उसके बाद 3 महीने बेहतर रह सकते हैं. खासतौर से रिटर्न देने के मामले में अगस्त पिछले 10 साल में सोने के लिए सबसे बेहतर साबित हुआ है. सोना अगस्त के अंत तक 48000 रुपये तक पहुंच सकता है.

पिछले 10 साल में सोने में रिटर्न

साल              रिटर्न
2011           31.85%
2012          12.92%
2013          -8.09%
2014          -5.86%
2015          -6.64%
2016          -10.08%
2017            5.67%
2018           8.24%
2019           24.58%
2020          14.83%

2011 से 2019: मई से अगस्त के बीच प्रदर्शन

पिछले 10 साल की रिटर्न हिस्ट्री देखें तो मई से अगस्त तक के बीच सिर्फ मई में सोने पर दबाव देखने को मिला है. जून, जुलाई और अगस्त में सोने में पिछले 10 साल में औसतन पॉजिटिव रिटर्न मिला है. हालांकि इनमें सबसे  बेहतर अगस्त साबित हुआ है.

साल 2011 से 2019 तक की बात करें तो अगस्त में औसतन 7.51 फीसदी रिटर्न मिला है जो अन्य हर महीनोे के मुकाबले सबसे ज्यादा है. वहीं मई में पिछले 10 साल में औसत रिटन निगेटिव में 0.58 फीसदी रहा है. जून और जुलाई में औसत रिटर्न 1.18 फीसदी और 0.66 फीसी रहा है.

वित्त वर्ष 2019 में 34 फीसदी रिटर्न

वित्त वर्ष 2019 की बात करें तो सोने में करीब 34 फीसदी या 11000 रुपये की तेजी आई है. 31 मार्च 2019 को सोना 31998 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर बंद हुआ. वहीं, 31 मार्च 2020 को सोने की क्लोजिंग 43000 रुपये के करीब हुई. 30 अप्रैल को सोना 44906 रुपये प्रति 10 ग्राम पर बंद हुआ. वहीं 1 मई को यह 621 रुपये बढ़कर 45527 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर पहुंच गया.

सोने में जारी रहेगी तेजी

केडिया एडवाइजरी के डायरेकटर अजय केडिया का कहना है कि सोने को लेकर इस साल सेंटीमेंट अच्छे हैं. कोरोना महामारी की वजह से अर्थव्यवस्था पर दबाव लंबा रहेगा. अर्थव्यवस्था में रिकवरी कब लौटेगी, इसे लेकर अनिश्चितता है. इसी वजह से ग्लोबल इक्विटी मार्केट में बिकवाली अभी भी देखी जा रही है. जिस तरह से 2008 की मंदी के दौरान सोने में बड़ी गिरावट के बाद जमकर तेजी आई. वहीं स्थिति इस बार भी दिख रही है. केडिया के अनुसार मौजूदा समय में निवेयाक अपने पोर्टफोलियो में 10 फीसदी सोना शामिल कर सकते हैं. लॉकडाउन के चलते फिजिकल बॉइंग संभव नहीं है. ऐसे में सॉवरेन बांड, गोल्ड ईटीएफ और एमसीएक्स फ्यूचर बेहतर विकल्प हैं.

तेजी के पीछे 10 बड़ी वजह

1. ग्लोबल स्तर पर सेंट्रल बैंकों ने ब्याज दरें घटाई हैं.
2. कोरोना वायरस के चलते मंदी की आशंका से बड़े देश अपने अर्थव्यवस्था में पैसे डाल रहे हैं.
3. कोरोना संकट में इक्विटी मार्केट पर दबाव जारी है.
4. लॉकडाउन में सोना सेफ हैवन साबित हो रहा है.
5. ग्लोबल इकोनॉमी रीसेयान के दौर में है.
6. VIX इंडेक्स अभी भी हाई है. ऐसे में सोना सेफ हैवन होगा.
7. ETF में रिकॉर्ड निवेश हुआ है.
8. सेंट्रल बैंक भी सोना खरीद रहे हैं.
9. इंटरनेशनल मार्केट में सोने में तेजी है.
10. लॉकडाउन में गोल्ड माइंस और रिफाइनरी बंद होने से कीमतों को सपोर्ट मिल रहा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. 4 माह में सोना 5798 रुपये महंगा, रिटर्न चार्ट बता रहा है कि अभी आने वाले हैं और अच्छे दिन

Go to Top