सर्वाधिक पढ़ी गईं

6 माह में 18% टूटा सोना, एक्सपर्ट ने कहा- निवेश का मौका; 6 माह में 6000 रु/10 ग्राम हो सकता है फायदा

Gold Prices Outlook: रिकॉर्ड हाई से सोने में 18 फीसदी गिरावट आई है.

February 20, 2021 8:12 AM
Gold Prices OutlookGold Prices Outlook: रिकॉर्ड हाई से सोने में 18 फीसदी गिरावट आई है.

Gold Prices Outlook: सोने में इस साल दबाव बना हुआ है. सोना आज भी एमसीएक्स पर कमजोर होकर 46000 रुपसे प्रति 10 ग्राम से नीचे फिसल गया है. सोना अपने 8 महीने के लो के करीब ट्रेड कर रहा है. रिकॉर्ड हाई से सोने में 18 फीसदी गिरावट आई है. पिछले साल अगस्त में सोना 56726 के करीब अपने रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया था. यानी 6 महीने के दौरान इसमें 10500 रुपये प्रति 10 ग्राम या 18 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. एक्सपर्ट का कहना है कि सोने में इतनी बड़ी गिरावट निवेश का अच्छा मौका लाई है. ऐसे कई फैक्टर हैं, जो सोने के भाव को आगे गाइड कर सकते हैं. मौजूदा भाव से अगले 6 महीने में कम से कम 6000 रुपये प्रति 10 ग्राम की तेजी दिख रही है. एक्सपर्ट ने 6 महीने के लिए 52500 रुपये का लक्ष्य दिया है.

सोने में क्यों आ रही है गिरावट

  • US ट्रीजरी यील्ड में तेजी देखने को मिल रही है और यह अपने 11 महीने के हाई पर पहुंच गया है.
  • कोरोना वायरस के मामले दुनियाभर में कम होने के साथ साथ इकोनॉमिक रिकवरी देखने को मिल रही है.
  • कोविड 19 वेक्सीनेशन के चलते इक्विटी मार्केट में तेजी का रुख है.
  • यूएस में एक और भारी भरकम राहत पैकेज देने की बात चल रही है. इससे इक्विटी को सपोट्र मिल रहा है.
  • यूएस डॉलर पिछले दिनों मजबूत हुआ है.
  • दिसंबर तिमाही में गोल्ड डिमांड सालाना आधार पर 28 फीसदी गिरकर 783.4t रहा है जो साल 2008 के दूसरी तिमाही के बाद से सबसे कमजोर है.

क्यों सोने में दिख रही है तेजी?

एक्सपर्ट का कहना है कि मौजूदा गिरावट से सोना खरीदने का अच्छा मौका नजर आ रहा है. एक तो सोना 10 हजार के डिस्काउंट पर चल रहा है और यह भाव आकर्षक हुआ है. वहीं, शेयर बाजार का हाई वैल्युएशन, कोविड 19 का नया वैरिएंट, लिक्विडिटी जैसे फैक्टर सोने की कीमतों को ड्राइव करेंगे.

  • लॉकडाउन खत्म होने के बाद से दुनियाभर के इक्विटी बाजारों में तेजी रही है. कई प्रमुख इंडेक्स अपने रिकॉर्ड हाई के करीब हैं. पिछले कुछ महीनों में उनमें 20 से 50 फीसदी तक तेजी आई है. ऐसे में इक्विटी बाजारों का वैल्युएशन अब महंगा दिख रहा है. दूसरी ओर यूरोप सहित कुछ देशों में नए तरह के कोरोना वायरस के मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना वायरस की एक और लहर का डर बना हुआ है. ये फैक्टर सोने के पक्ष में है.
  • यूएस में राजनैमिक अस्थिरता के चलते 31 दिसंबर 2020 को डॉलर इंडेक्स 90 से नीचे फिसल गया था. यूएस में इकोनॉमी को फिर पूरी तरह से नॉर्मल होने में अभी समय लगेगा. ऐसे में डॉलर पर अभी दबाव देखने को मिल सकता है. यह सोने के लिए पॉजिटव है.
  • सेंट्रल बैंक के रिजर्व मैनेजमेंट में सोना एक बड़ा रोल अदा करता है. साल 2020 में सेंट्रल बेंकों द्वारा सोने की खरीददारी में सालाना आधार पर 60 फीसदी की कमी आई है. लेकिन दिसंबर तिमाही से इसमें तेजी देखने को मिल रही है. दुनियाभर के सेंट्रल बैंक सोना खरीदने का संकेत दे रहे हैं. इससे सोने को सपोर्ट मिलेगा.
  • 10 साल के बॉन्ड यील्ड बढ़े हैं, लेकिन ज्यादातर देशों के सेंट्रल बैंक ने इसमें अपसाइड मूवमेंट रोकने के उपाय किए हैं. ऐसे में आगे बॉन्ड यील्ड की तेजी लिमिटेड रह सकती है.

सोना कितना होगा महंगा

आगे 6 महीने की बात करें तो सोना मौजूदा लेवल से 6000 रुपये प्रति 10 ग्राम महंगा हो सकता है. इस दौरान सोना 52500 रुपये/10 ग्राम के लवेल तक पहुंच सकता है. वहीं अगले 2 महीने की बात करें तो सोने को 1783 डॉलर प्रति आउंस पर सपोर्ट है. इस लेवल से उपर अगर बाउंस आता है तो सोना 1856 से 1885 डॉलर प्रति आउंस जा सकता है. एमसीएक्स पर यह 49200 रुपये का लेवल छू सकता है. हालांकि सपोर्ट लेवल टूटने पर अगले 2 महीने में सोने में 45500 रुपये तक की कमजोरी भी देखने को मिल सकती है.

(नोट: यह जानकारी केडिया एडवाइजरी की रिपोर्ट और मिलवुड केन इंटरनेशनल के फाउंडर और CEO, निश भाट से मिली जानकारी पर आधारित है.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. 6 माह में 18% टूटा सोना, एक्सपर्ट ने कहा- निवेश का मौका; 6 माह में 6000 रु/10 ग्राम हो सकता है फायदा

Go to Top