मुख्य समाचार:

SEBI के इस नियम से बंद करनी पड़ी 6 म्यूचुअल फंड स्कीम, निवेशकों के अटके करोड़ों: फ्रैंकलिन टेम्पलटन

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने मार्केट रेगुलेटर सिक्युरिटी एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया (SEBI) के एक नियम पर बड़ा सवाल उठाया है.

May 7, 2020 3:44 PM
Franklin Templeton, Franklin Templeton global chief blame SEBI rule ti hit 6 debt scheme, investment limit in unlisted NCDs, सिक्युरिटी एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया, AAA rating in bond, high yield marketफ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने मार्केट रेगुलेटर सिक्युरिटी एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया (SEBI) के एक नियम पर बड़ा सवाल उठाया है.

फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड ने मार्केट रेगुलेटर सिक्युरिटी एक्सचेंज बोर्ड आफ इंडिया (SEBI) के एक नियम पर बड़ा सवाल उठाया है. फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने हाल ही में अपनी 6 बंद हुई स्कीम के पीछे सेबी के एक नियम को जिम्मेदार ठहराया है. फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने कहा है कि सेबी के एक नियम की वजह से हमें ऐसा करना पड़ा और निवेयाकों के करीब 28 हजार करोड़ रुपये उन स्कीम में अटके हुए हैं. आखिर आप भी जानना चाहेंगे वह कौन सा नियम है, जिस पर फंड हाउस ने सवाल उठाए हैं.

क्या है सेबी का वह नियम

कंपनी के ग्लोबल सीईओ जेनिफर एम जॉनसन ने सेबी के उस नियम पर सवाल उठाए हैं, जिसमें सेबी ने म्यूचुअल फंड हाउस के लिए यह अनिवार्य कर दिया था कि वह अपनी स्कीम के कुल फंड का 10 फीसदी से ज्यादा अनलिस्टेड नॉन-कंवर्टिबल डिबेंचर्स (NCDs) में नहीं लगा सकते हैं. जॉनसन ने कहा कि वे तब ये एसेट्स बेचना चाहते थे लेकिन इस नियम की वजह से खरीदार नहीं मिल पा रहे थे. यह नियम पिछले साल अक्टूबर में लाया गया था.

भारत में निवेश के लिए रेटिंग प्रमुख है

एक कॉन्फ्रेंस कॉल पर जॉनसन ने कहा कि सेबी के इस नियम के बाद उनके फंड का करीब एक तिहाई हिस्सा बेकार हो गया क्योंकि सर्कुलर के बाद अनलिस्टेड एनसीडी में ट्रेड नहीं हो सकता था. जॉनसन ने कहा कि भारत में एएए रेटिंग से नीचे किसी प्रोडक्ट में निवेश सेफ नहीं माना जाता है. ज्यादातर निवेशक रेटिंग देखकर ही निवेया का निर्णय लेते हैं. हाई यील्ड मार्केट भारत में अभी काफी छोटा है.

पिछले महीने फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने बंद की थी स्कीम

फ्रैंकलिन टेम्पलटन इंडिया ने घाटे के चलते पिछले महीने अपने 6 डेट फंड बंद कर दिए हैं. इससे निवेशकों के भी करीब 28 हजार करोड़ रुपए अटक गए हैं. फ्रैंकलिन टेम्पलटन ने ये फंड बेहद कम लिक्विडिटी और यील्ड में बढ़ोतरी का हवाला देते हुए बंद किए हैं. कंपनी का कहना था कि कोरोना संकट की वजह से लोगों ने तेजी से अपना पैसा निकाला है, जिससे कंपनी के पास कैश की कमी हुई है. कंपनी का यह भी कहना है कि डेट फंड्स में रकम फंसने का डर बढ़ा है. कोरोना संकट के चलते दूसरे म्यूचुअल फंड पर भी दबाव बढ़ेगा.

बंद हुईं ये 6 स्कीम

फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन लो ड्यूरेशन फंड
फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट बॉन्ड फंड
फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन शॉर्ट टर्म इनकम प्लान
फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन क्रेडिट रिस्क फंड
फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन डायनामिक एक्यूरियल फंड
फ्रैंकलिन इंडिया टेम्पलटन इनकम ऑपरच्यूनिटी फंड

एसेट बेस करीब 28 हजार करोड़

जिन 6 ओपेन एंडेड डेट स्कीम को फ्रैंकलिन टेम्पलटन इंडिया ने बंद करने का फैसला किया है उनका मिलाकर एसेट बेस करीब 28 हजार करोड़ रुपये है. यानी निवेशकों के इन स्कीम में 28 हजार करोड़ फिलहाल अटक गए हैं. हालांकि कंपनी ने चरणबद्ध तरीके से पैसा वापस करने को कहा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. SEBI के इस नियम से बंद करनी पड़ी 6 म्यूचुअल फंड स्कीम, निवेशकों के अटके करोड़ों: फ्रैंकलिन टेम्पलटन

Go to Top