सर्वाधिक पढ़ी गईं

FPI ने मौजूदा वित्त वर्ष में अब तक भारतीय बाजारों से निकाले 6,105 करोड़ रुपये, कोरोना महामारी वजह

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय पूंजी बाजारों से शुद्ध रूप से 6,105 करोड़ रुपये की निकासी की है.

August 1, 2021 5:16 PM
Earlier this month, a Morgan Stanley report said that India is likely to be included in the global bond indices by early next year and this could fetch $170 billion to $250 billion inflows into the bonds over the next decade.Earlier this month, a Morgan Stanley report said that India is likely to be included in the global bond indices by early next year and this could fetch $170 billion to $250 billion inflows into the bonds over the next decade.

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने मौजूदा वित्त वर्ष में भारतीय पूंजी बाजारों से शुद्ध रूप से 6,105 करोड़ रुपये की निकासी की है. महामारी और उसकी वजह से देश के विभिन्न हिस्सों में लागू लॉकडाउन के चलते विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों से निकासी कर रहे हैं. बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जुलाई के दौरान 3,077.69 अंक या 6.21 फीसदी बढ़ा है.

सेंसेक्स ने 16 जुलाई 2021 को अपना सर्वकालिक उच्चस्तर 53,290.81 अंक छुआ. 15 जुलाई को यह अपने सर्वकालिक उच्चस्तर 53,158.85 अंक पर बंद हुआ था. डिपॉजिटरी के आंकड़ों के मुताबिक, चालू वित्त वर्ष के पहले चार महीने में एफपीआई ने शेयरों से शुद्ध रूप से 6,707 करोड़ रुपये की निकासी की. इस दौरान उन्होंने ऋण या बॉन्ड बाजार में शुद्ध रूप से 602 करोड़ रुपये डाले. इस तरह उनकी शुद्ध निकासी 6,105 करोड़ रुपये रही है.

आंकड़ों के पता चलता है कि विदेशी निवेशकों ने जून को छोड़कर वित्त वर्ष के सभी महीनों में बिकवाली की. जून में उन्होंने 13,269 करोड़ रुपये डाले. अप्रैल में उन्होंने 9,435 करोड़ रुपये निकाले थे. वहीं, मई में उन्होंने 2,666 करोड़ रुपये और जुलाई में 7,273 करोड़ रुपये की निकासी की.

Market Outlook: इकोनॉमिक डेटा, कंपनियों के तिमाही नतीजों और RBI पॉलिसी से तय होगी बाजार की स्थिति

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स ?

एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा कि पहले चार महीने के दौरान उत्साहवर्धक बात यह रही कि देश में नए निवेशकों का पंजीकरण सालाना आधार पर 2.5 गुना बढ़ा है.

मॉर्निगस्टार इंडिया के एसोसिएट निदेशक-प्रबंधक शोध हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि जून से स्थानीय स्तर पर लागू लॉकडाउन के हटने की शुरुआत हुई है. कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार कमी से निवेशकों की धारणा बेहतर हुई है. उन्होंने कहा कि एफपीआई ने भारतीय शेयर बाजारों के प्रति जून के मध्य से सतर्कता वाला रुख अपनाना शुरू किया. उनका यह रुख जुलाई में भी जारी रहा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. FPI ने मौजूदा वित्त वर्ष में अब तक भारतीय बाजारों से निकाले 6,105 करोड़ रुपये, कोरोना महामारी वजह

Go to Top