सर्वाधिक पढ़ी गईं

रुपया 49 पैसे मजबूत होकर 71.70 के भाव पर, मोदी के इकोनॉमिक रिव्यू की संभावना से रिकवरी

रुपया 49 पैसे मजबूत होकर 71.70 प्रति डॉलर के भाव पर खुला. मोदी द्वारा जल्द आर्थिक समीक्षा बैठक किए जाने की खबर है. जिसके बाद से ही रुपये को लेकर बेहतर सेंटीमेंट देखा जा रहा है.

September 14, 2018 9:19 AM
rupee, dollar, forex market, currency, modi, economic review, recovery, रुपया, डॉलरशुक्रवार को पेट्रोल 30 पैसे और डीजल 24 पैसे प्रति लीटर तक महंगा हुआ है. अब दिल्ली में पेट्रोल की नई कीमत 81.28 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में पेट्रोल की कीमत 88.67 रुपये प्रति लीटर हो गई हैं. (Reuters)

शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपये में अच्छी रिकवरी देखने को मिली है. रुपया 49 पैसे मजबूत होकर 71.70 प्रति डॉलर के भाव पर खुला. बुधवार को रुपया 71.19 प्रति डॉलर के भाव पर बंद हुआ था. रुपये में कमजोरी और क्रूड की बढ़ती कीमतों को लेकर पीएम मोदी द्वारा जल्द आर्थिक समीक्षा बैठक किए जाने की खबर है. जिसके बाद से ही रुपये को लेकर बेहतर सेंटीमेंट देखा जा रहा है. आर्थक समीक्षा की खबर के बाद बुधवार के कारोबार में रुपया रिकॉर्ड लो 72.91 से 100 पैसे तक मजबूत होकर 71.91 प्रति डॉलर पर आ गया था. गुरूवार को फॉरेक्स मार्केट बंद था.

पिछले 10 दिनों में रुपये की चाल

-बुधवार को रुपया 72.91 का लो और 71.91 का हाई छूने के बाद 72.19 प्रति डॉलर पर बंद हुआ.
-मंगलवार को रुपया 72.69 प्रति डॉलर के नए निचले स्तर पर बंद हुआ था.
-सोमवार को रुपया 72.45 प्रति डॉलर के भाव पर बंद हुआ था.
-शुक्रवार को रुपया 72.04 प्रति डॉलर का भाव छूने के बाद 71.73 के भाव पर बंद हुआ.
-गुरुवार को 72.10 प्रति डॉलर का रिकॉर्ड निचला स्तर छूने के बाद रुपया 71.99 के भाव पर बंद हुआ.
-बुधवार को 71.95 प्रति डॉलर का स्तर छूने के बाद रुपया 71.75 प्रति डॉलर पर बंद हुआ.
-मंगलवार को रुपया 71.58 प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.
-सोमवार को रुपया 22 पैसे की भारी गिरावट के साथ 71.22 प्रति डॉलर पर बंद हुआ.
-पिछले हफ्ते शुक्रवार को रुपया 70.99 के स्तर पर बंद हुआ था.
-गुरूवार को रुपया 15 पैसे की गिरावट के साथ 70.74 के स्तर पर बंद हुआ.

इस साल 14% कमजोर हुआ रुपया

इस साल रुपये में लगातार कमजोरी देखी गई है. रुपया इस साल अबतक करीब 145 फीसदी से ज्यादा कमजोर हो चुका है. इस साल 6 जनवरी, 2018 को रुपया, डॉलर के मुकाबले 63.33 पर था, जोकि करीब 14 फीसदी लुढ़क कर आज 71.70 के स्तर पर है. दुनिया के अन्य देशों की मुद्राओं के मुकाबले भी डॉलर मजबूत हुआ है। पिछले साल रुपए में करीब 6 फीसदी की तेजी आई थी, लेकिन इस बार कई फैक्टर रहे हैं, जिससे रुपये पर दबाव बढ़ा है.

रुपये में गिरावट के बड़े कारण

-बांड यील्ड बढ़ने से रुपये पर दबाव है.
-दुनियाभर की दूसरी करंसी के मुकाबले डॉलर लगातार मजबूत हो रहा है.
-क्रूड में तेजी बनी हुई है, जिससे करंट अकाउंट डेफिसिट बढ़ने की आशंका है.
-ट्रेड वार बढ़ने की आशंका के चलते भी डॉलर के मुकाबले रूपये पर दबाव है.
-आरबीआई का दखल भी बहुत काम नहीं आ रहा है.
-घरेलू स्तर पर रेवेन्यू कलेक्शन उम्मीद से कम रहने से भी रुपये पर दबाव है.
-घरेलू स्तर पर राजनैतिक अनिश्चितता भी रुपये में कमजोरी की एक वजह है.
-यूएस फेड द्वारा ब्याज दरें बढ़ाए जाने के संकेत

और कमजोर हो सकता है रुपया

केडिया कमोडिटी के डायरेक्टर अजय केडिया का कहना है कि देखना है रुपये की कमजोरी को लेकर सरकार और आरबीआई किस तरह के कदम उठाती है. अभी क्रूड की कीमतें हाई बनी हुई हैं. जिससे क्रूड की खरीदारी के लिए इंटरनेशनल स्तर पर डॉलर की डिमांड तेज है. घरेलू स्तर पर रेवेन्यू कलेक्शन उम्मीद के मुताबिक नहीं है, वहीं राजनैतिक अस्थिरता का माहौल है. ऐसे में रुपये को सपोर्ट मिलता नहीं दिख रहा है. आने वाले कुछ हफ्तों में अगर सरकार और आरबीआई द्वारा बड़े उपाय नहीं किए गए तो रुपया 74 प्रति डॉलर का स्तर भी छू सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. रुपया 49 पैसे मजबूत होकर 71.70 के भाव पर, मोदी के इकोनॉमिक रिव्यू की संभावना से रिकवरी

Go to Top