सर्वाधिक पढ़ी गईं

ITR Filling : इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय इन गलतियों से बचें, वरना मिल सकता है आयकर का नोटिस

इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय सही आईटीआर फॉर्म चुनना जरूरी है. अगर आप इसमें गलती करते हैं तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपका फॉर्म प्रोसेस नहीं करेगा. टैक्सपेयर को अपनी कैटेगरी के हिसाब से इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म चुनना होगा.

July 3, 2021 12:04 AM
"Since January 2019 till June 2021, the total amount paid to Infosys is Rs 164.5 crore under this project," Minister of State for Finance Pankaj Chaudhary said in a written reply to the Lok Sabha."Since January 2019 till June 2021, the total amount paid to Infosys is Rs 164.5 crore under this project," Minister of State for Finance Pankaj Chaudhary said in a written reply to the Lok Sabha.

इनकम टैक्स रिटर्न भरने की डेडलाइन इस बार बढ़ा कर 30 सितंबर, 2021 तक कर दी गई है. आईटीआर भरने के लिए अभी लगभग तीन महीने का समय है. लेकिन कुछ टैक्सपेयर्स आखिरी वक्त तक इंतजार करते हैं और चक्कर में गलतियां कर बैठते हैं. गलत आईटीआर रिजेक्ट हो सकता है.लिहाजा यह जानना जरूरी है कि इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय में किन गलतियों से बचा जाना चाहिए.

1. गलत फॉर्म चुनने से बचें

इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय सही आईटीआर फॉर्म चुनना जरूरी है. अगर आप इसमें गलती करते हैं तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट आपका फॉर्म प्रोसेस नहीं करेगा. टैक्सपेयर को अपनी कैटेगरी के हिसाब से इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म चुनना होगा. अगर आपकी आय वेतन से हो रही है और यह 50 लाख रुपये सालाना से कम है और कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं है तो आईटीआर 1 ( ITR 1) आपके लिए मुफीद होगा वहीं अगर आपकी आय बिजनेस या किसी दूसरे प्रोफेशन से हो रही है तो आपको आईटीआर-3 ( ITR-3) चुनना होगा. अगर गलत फॉर्म भरते हैं तो डिफेक्ट नोटिस मिल सकता है. इसे एक टाइम लिमिट में ठीक करना होता है.

2. गलत असेसमेंट ( Assessment Year) न लिखें

इनकम टैक्स रिटर्न फॉर्म में सही असेसमेंट ईयर भरना जरूरी है. अगर गलत असेसमेंट ईयर भरते हैं तो दोहरा टैक्स लग सकता है. साथ ही पेनाल्टी भी लग सकती है. इसलिए सही असेसमेंट ईयर भरना जरूरी है.

3. निजी जानकारियां सही तरीके से भरें

इनकम टैक्स रिटर्न भर में नाम, पता, मेल आईडी , फोन नंबर, पैन और जन्म तारीख वगैरह सही होना चाहिए. आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि पैन में जो जानकारी है उसे ही आईटीआर फॉर्म में भरना होगा. अपने बैंक की जानकारी भी सही होनी चाहिए. अकाउंट नंबर, IFSC कोड वगैरह भी सही लिखें ताकि रिफंड मिलने में देरी न हो.

क्या है Nifty Microcap 250 Index? रिटेल इनवेस्टर के लिए कितना उपयोगी है ये

4. ढाई लाख से ऊपर की आय पर रिटर्न फाइल करना जरूरी

आपका एम्पलॉयर और बैंक सैलरी और इंटरेस्ट रेट पर टीडीएस लगाते हैं. ढाई लाख रुपये से अधिक की वार्षिक आय पर इनकम टैक्स रिटर्न फाइलल करना जरूरी है. आपको यह बताना होता है कि कौन सा टैक्स डिडक्ट हुआ. इनकम टैक्स रिटर्न में आपको टीडीएस क्रेडिट क्लेम करना होगा.

5. आय के सभी स्रोतों का जिक्र न करना बड़ी गलती

अगर आपके प्राथमिक आय से आय का कोई और दूसरा स्रोत है तो आपको इसका खुलासा करना होगा. टैक्सपेयर्स को सेविंग अकाउंट इंटरेस्ट, फिक्स्ड डिपोजिट इंटरेस्ट, हाउस प्रॉपर्टी से रेंटल इनकम सभी सभी सभी शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन्स और दूसरे स्रोत से होने वाली आय का खुलासा करना जरूरी है. चाहे इस पर टैक्स लग रहा हो या छूट मिली हुई हो, आय के सभी स्रोतों का जिक्र करना जरूरी है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. ITR Filling : इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय इन गलतियों से बचें, वरना मिल सकता है आयकर का नोटिस

Go to Top