सर्वाधिक पढ़ी गईं

FY21 में इक्विटी म्यूचुअल फंड्स से रिकॉर्ड निकासी, सात साल में पहली बार नेट सेलर्स हुए निवेशक

वित्त वर्ष 2020-21 में लगातार आठ महीने की निकासी के चलते सात साल में पहली बार निवेशक इक्विटी म्यूचुअल फंड के नेट सेलर्स साबित हुए हैं जबकि फंड हाउसेज का इक्विटी एयूएम बढ़कर रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया.

April 14, 2021 2:10 PM
Equity mutual funds record net outflows first time in seven years in FY21 despite 67 percent surge in AUMकोरोना महामारी से प्रभावित वित्त वर्ष 2021 में इक्विटी फंड्स के सेक्टरल एलोकेशन में भी बदलाव दिखा.

वित्त वर्ष 2020-21 में लगातार आठ महीने की निकासी के चलते सात साल में पहली बार निवेशक इक्विटी म्यूचुअल फंड के नेट सेलर्स साबित हुए हैं. इस दौरान ELSS और इंडेक्स समेत इक्विटी फंड्स से 34700 करोड़ रुपये की निकासी हुई. यह डेटा डोमेस्टिक ब्रोकरेज फर्म मोतीलाल ओसवाल ने तैयार किया है. मार्च 2020 में निफ्टी निचले स्तर पर चला गया था और उसके बाद इसमें रिकवरी दिखी तो निवेशकों ने प्रॉफिट बुकिंग की जिसके चलते नेट आउटफ्लो रहा. हालांकि निकासी के बावजूद रिटर्न में उछाल के कारण सालाना आधार पर फंड हाउसेज का इक्विटी एयूएम (एसेट अंडर मैनेजमेंट) 67 फीसदी बढ़कर 10.2 लाख करोड़ रुपये के रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया.
मोतीलाल ओसवाल की रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2021 में इक्विटी स्कीम्स की बिक्री में गिरावट आई और सालाना आधार पर यह 7 फीसदी गिरकर 2.04 लाख करोड़ रुपये रह गया. वित्त वर्ष 2020 की तुलना में वित्त वर्ष 2021 में रिडेंप्शंस में 64 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और 2.65 लाख करोड़ रुपये का रिडेंप्शंस रहा.
प्रीवियस इयर में 27 फीसदी की गिरावट के बाद वित्त वर्ष 2021 में इक्टिली एयूएम रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंच गया. इसमें मार्च 2020 की बिक्री के भी आंकड़े शामिल हैं. समग्र रूप से बात करें तो निवेशकों ने म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में निवेश जारी रखा क्योंकि बैंलेंस्ड व इक्विटी को छोड़कर शेष स्कीम्स में नेट इनफ्लो पॉजिटिव रहा.

दिग्गज निवेशक Rakesh Jhunjhunwala ने फोर्टिस हेल्थकेयर में बढ़ाई अपनी हिस्सेदारी, 2021 में अब तक इतना आ चुका है उछाल

इक्विटी फंड्स के सेक्टर एलोकेशन में बदलाव

कोरोना महामारी से प्रभावित वित्त वर्ष 2021 में इक्विटी फंड्स के सेक्टरल एलोकेशन में भी बदलाव दिखा. रिपोर्ट के मुताबिक ऑटोमोबाइल, एनबीएफसीज, सीमेंट, रीयल एस्टेट, केमिकल्स और इंफ्रास्ट्रक्चर में एलोकेशन बढ़ने के चलते डोमेस्टिक साइक्लिकल्स 160 बेसिस प्वाइंट बढ़कर 58 फीसदी हो गया. इस दौरान कंज्यूमर यूटिलिटीज और टेलीकॉम में एलोकेशन घटने के चलते डिफेंसिव्स का वेटेज 100 बेसिस प्वाइंट्स कम होकर 32.5 फीसदी रह गया. ग्लोबल साइक्लिकल्स के वेटेज में भी 60 बेसिस प्वाइंट की कमी आई और अब यह 9.5 फीसदी रह गया.

कंज्यूमर स्टॉक्स को पछाड़ दूसरे पर पहुंचा टेक्नोलॉजी स्टॉक

आमतौर पर टेक्नोलॉजी स्टॉक को डिफेंसिव माना जाता है लेकिन वेटेज में बदलाव के मामले में पिछले वित्त वर्ष सबसे बड़ा बेनेफिशियरी यही रहा. पिछले वित्त वर्ष इसमें 300 बेसिस प्वाइंट्स की बढ़ोतरी हुई और वेटेज 11.9 फीसदी पहुंच गया. अब म्यूचुअल फंड्स द्वारा सेक्टरल एलोकेशन के मामले में टेक्नोलॉजी सेक्टर दूसरे स्थान पर है. 12 महीने पहले यह तीसरे स्थान पर था. टेक स्टॉक्स ने कंज्यूमर स्टॉक्स को पछाड़ कर दूसरा स्थान कब्जाया है जिसके वेटेज में 7.4 फीसदी की गिरावट आई है. वित्त वर्ष 2021 में कमोडिटी साइकिल बूम कर रहा है, जिसके चलते मेटल्स में निवेश बढ़ा है.
(Article: Kshitij Bhargava)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. FY21 में इक्विटी म्यूचुअल फंड्स से रिकॉर्ड निकासी, सात साल में पहली बार नेट सेलर्स हुए निवेशक

Go to Top