मुख्य समाचार:

जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री में एक और फ्रॉड, ED ने जारी किया 7220 करोड़ का अब तक का सबसे बड़ा FEMA नोटिस

यह नोटिस 7220 करोड़ रुपये का है और कोलकाता के एक ज्वैलरी हाउस को जारी किया गया है.

Updated: Jul 06, 2020 9:37 PM

Enforcement Directorate has sent FEMA show cause notice of Rs 7,220 crore to a Kolkata-based jewellery house for allegedly indulging in illegal foreign exchange abroad

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अब तक का सबसे बड़ा FEMA (फॉरेन एक्सचेंज मैनेजमेंट एक्ट) कारण बताओ नोटिस जारी किया है. यह नोटिस 7220 करोड़ रुपये का है और कोलकाता के एक ज्वैलरी हाउस को जारी किया गया है. ज्वैलरी हाउस का नाम श्री गणेश ज्वैलरी हाउस (I) लिमिटेड है. ज्वैलरी हाउस और इसके प्रमोटर्स पर अवैध रूप से विदेशी मुद्रा का आदान-प्रदान करने का आरोप है.

ईडी ने फेमा कारण बताओ नोटिस एक साल की लंबी जांच के बाद और फॉरेक्स लॉ के विभिन्न सेक्शंस के तहत जारी किया है. ईडी के मुताबिक, कंपनी और इसके प्रमोटर्स पर फेमा के तहत अनाधिकृत रूप से विदेशी मुद्रा में डील करने, भारत के बाहर विदेशी मुद्रा रखने और एक्सपोर्ट प्रोसीड्स के रूप में 7220 करोड़ रुपये का अमाउंट गलत तरीके बाहर भेजने के आरोप हैं.

टॉप 100 विलफुल डिफॉल्टर्स में है कंपनी

सूत्रों के अनुसार, यह फर्म रिजर्व बैंक की टॉप 100 विलफुल बैंक लोन डिफॉल्टर्स लिस्ट में शामिल है. इसके तीन प्रमोटर भाई नीलेश पारेख, उमेश पारेख और कमलेश पारेख के खिलाफ CBI और डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यु (DRI) इंटेलीजेंस की भी जांच चल रही है. नीलेश पारेख को साल 2018 में DRI द्वारा गिरफ्तार किया गया था. ईडी ने इस ज्वैलरी हाउस और इसके प्रमोटर्स के खिलाफ साल 2018 में बैंक फ्रॉड से जुड़े मामलों के लिए मनी लॉन्ड्रिंग का केस भी फाइल किया था. फर्म पर 25 बैंकों के कंसोर्शियम के साथ 2672 करोड़ रुपये का फ्रॉड करने का आरोप था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. जेम्स एंड ज्वैलरी इंडस्ट्री में एक और फ्रॉड, ED ने जारी किया 7220 करोड़ का अब तक का सबसे बड़ा FEMA नोटिस

Go to Top