मुख्य समाचार:

Mutual Fund: नए निवेशकों के लिए क्यों बेहतर विकल्प है ELSS स्कीम; देखें 1, 3 और 5 साल का रिटर्न

जॉब में नए हैं और म्यूचुअल फंड में निवेश की सोच रहे हैं तो ELSS कटेगिरी आपके लिए बेहतर हो सकती है.

November 9, 2019 9:20 AM
ELSS mutual fund is how best for new investors, म्यूचुअल फंड, इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम, invest in mutual fund tax saver scheme, tax saving mutual fundजॉब में नए हैं और म्यूचुअल फंड में निवेश करने की सोच रहे हैं तो ELSS कटेगिरी आपके लिए बेहतर हो सकती है.

Mutual Funds ELSS Scheme: जॉब में नए हैं और म्यूचुअल फंड में निवेश करने की सोच रहे हैं तो इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) कटेगिरी आपके लिए बेहतर हो सकती है. ध्यान रखना होगा कि समय के साथ ही महंगाई में तेजी से इजाफा हो रहा है. ऐसे में भविष्य के लिए कम उम्र से ही फाइनेंशियल प्लानिंग शुरू करना जरूरी होता है. इसी क्रम में टैक्सेशन भी है जो आपके बचत का एक बड़ा हिस्सा कम कर देती है. इसलिए समझदारी यह है कि निवेश करते समय ऐसा विकल्प चुनें, जिसमें टैक्स बचत का भी लाभ मिलता हो.

इनकम टैक्स एक्ट के धारा 80C के तहत सरकार कई स्कीम में निवेश पर छूट देती है. इसके लिए 5 साल की FD और म्यूचुअल फंड की कटेगिरी इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) पॉपुलर विकल्प हैं. निवेश करते समय यह ध्यान रखना जरूरी है कि कहां ज्यादा फायदा मिल सकता है. अगर पिछले 1 साल के प्रदर्शन पर निगाह डालें तो ELSS ने 21 फीसदी तक की दर से सालाना रिटर्न दिया ​है. वहीं, पिछले 5 साल में अलग अलग स्कीमों ने 13 से 14 फीसदी सीएजीआर के हिसाब से रिटर्न दिया है. वहीं, ज्यादातर प्रमुख बैंकों की 5 साल की एफडी योजनाओं पर 6.25 से 7 फीसदी तक ही ब्याज मिल रहा है.

3 साल का लॉक-इन पीरियड

सेक्शन 80C के तहत अगर छूट का लाभ लेना चाहते हैं तो म्यूचुअल फंड की कटेगिरी इक्व्टिी इक्विटी लिंक्ड सेविंग्स स्कीम्स यानी ELSS भी बेहतर विकल्प हो सकता है. एक्सपर्ट भी टैक्स सेविंग के लिए इसमें निवेश की सलाह देते हैं क्योंकि इसमें लॉक-इन पीरियड सिर्फ 3 साल का होता है. वहीं, एक्सपर्ट की निगरानी में इक्विटी में निवेश का मौका भी मिलता है, जहां ज्यादा रिटर्न की गुंजाइश रहती है.

 टॉप परफॉर्मर

Axis लांग टर्म इक्विटी फंड

एसेट्स: 20,425 करोड़ (30 सितंबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.75% (30 सितंबर, 2019)
लांच डेट: 29 दिसंबर, 2009
लांच के बाद से रिटर्न: 17.54 फीसदी

1 साल का रिटर्न: 20.41 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 14.65 फीसदी
5 साल का रिटर्न: 12.45 फीसदी

DSP टैक्स सेवर फंड

एसेट्स: 5,841 करोड़ (30 सितंबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.84% (30 सितंबर, 2019)
लांच डेट: 18 जनवरी, 2007
लांच के बाद से रिटर्न: 13.63 फीसदी

1 साल का रिटर्न: 19.10 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 10.64
5 साल का रिटर्न: 11.35 फीसदी

मिराए एसेट टैक्स सेवर फंड

एसेट्स: 2465 करोड़ (30 सितंबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 1.86% (30 सितंबर, 2019)
लांच डेट: 28 दिसंबर, 2015
लांच के बाद से रिटर्न: 17.63 फीसदी

1 साल का रिटर्न: 16.64 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 15.53 फीसदी
5 साल का रिटर्न: —

टाटा इंडिया टैक्स सेविंग्स फंड

एसेट्स: 1919 करोड़ (30 सितंबर, 2019)
एक्सपेंस रेश्यो: 2.11% (30 सितंबर, 2019)
लांच डेट: 31 मार्च, 1996
लांच के बाद से रिटर्न: 18.85 फीसदी

1 साल का रिटर्न: 17.16 फीसदी
3 साल का रिटर्न: 11.27 फीसदी
5 साल का रिटर्न: 12.55 फीसदी

 

(नोट: हमने यहां जानकारी म्यूचुअल फंड के प्रदर्शन के आधार पर दी है. यह निवेश की सलाह नहीं है. बाजार के जोखिम को देखते हुए एक्सपर्ट से सलाह के आधार पर ही निवेश करें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Mutual Fund: नए निवेशकों के लिए क्यों बेहतर विकल्प है ELSS स्कीम; देखें 1, 3 और 5 साल का रिटर्न

Go to Top