मुख्य समाचार:

शेयर बाजार के लिए इस साल का सबसे खराब दिन, इन 5 वजहों से आई बड़ी गिरावट

सोमवार को शेयर बाजार में क्यों आई गिरावट

Updated: Apr 22, 2019 4:10 PM
Stock Market, Biggest Fall, शेयर बाजार में गिरावट, BSE, NSE, Sensex, Nifty, Intraday, Stocksसोमवार को शेयर बाजार में क्यों आई गिरावट

Stock Market Fall: सोमवार को शेयर बाजार में बड़ी गिरावट रही है. कारोबार के अंत में सेंसेक्स 495 अंक गिरकर 38645 के स्तर पर बंद हुआ है. वहीं निफ्टी भी करीब 158 अंक टूटकर 11600 के नीचे 11598 के स्तर पर बंद हुआ. निफ्टी में यह 4 महीने की सबसे बड़ी इंट्राडे गिरावट है. आज के कारोबार में सबसे ज्यादा गिरावट बैंक शेयरों में देखी गई है. बैंक निफ्टी 500 अंक से ज्यादा कमजोर हुआ जो इंडेक्स में दिसंबर 2018 के बाद सबसे ज्यादा गिरावट है. आखिर क्या हुआ कि बाजार में आई इतनी बड़ी गिरावट…..

क्रूड की कीमतों में तेजी जारी

ब्रेंट क्रूड की कीमतों में इस साल लगातार तेजी बनी हुई है. इस साल अबतक क्रूड 32 फीसदी से ज्यादा महंगा हो चुका है. सोमवार को ब्रेंट क्रूड 3 फीसदी की तेजी के साथ 73 डॉलर प्रति बैरल पार कर गया. एक्सपर्ट मान रहे हें कि ओपेक देशों द्वारा उत्पादन में कटौती जारी रहा तो यह 78 डॉलर के भाव तक पहुंच जाएगा. फिलहाल एक दिन में क्रूड में 3 फीसदी की तेजी से बाजार का सेंटीमेंट प्रभावित किया.

रुपये में कमजोरी

आज कारोबार के शुरू में रुपये में 40 पैसे से ज्यादा की गिरावट आई थी. क्रूड की कीमतों में तेजी ने रुपये का सेंटीमेंट खराब किया. डॉलर की मांग बढ़ने से भी रुपये में कमजोरी आई. रुपये में कमजोरी बढ़ने से डोमेस्टिक और फॉरेन इन्वेस्टर्स में सतर्क रुख देखने को मिला.

RIL सहित हैवीवेट शेयरों में बिकवाली

सोमवार के कारोबार में आरआईएल में 3 फीसदी तक गिरावट आई. आरआईएल में कमजोरी आने से एनर्जी शेयर भी टूट गए. वहीं बड़े सरकारी और प्राइवेट बैंकों में भी बिकवाली रही.
आरआईएल के अलावा यस बैंक, इंडसइंड बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, ICICI बैंक, HDFC और एक्सिस बैंक जैसे हैवीवेट शेयरों में 2 फीसदी से 7 फीसदी तक गिरावट रही है.

घरेलू स्तर पर बढ़ी चिंता

क्रूड की कीमतें बढ़ने से मैक्रो लेवल पर भी कंसर्न बढ़ा है. क्रूड की कीमतें इसी तरह से बढ़ी और रुपया स्टेबल रहा तो सरकार की बैलेंसशीट बिगड़ने का खतरा है. बता दें कि भारत अपनी जरूरतों का 82 फीसदी क्रूड इंपोर्ट करता है. वहीं क्रूड महंगा होने से देश में महंगाई बढ़ने का भी डर बना है, जिससे इकोनॉमी पर असर होता है.

ट्रंप प्रशासन की चेतावनी

ट्रंप प्रशासन ने चीन, भारत और अपने सहयोगी देशों जापान, दक्षिण कोरिया और तुर्की को यह कहा है कि अगर उन्होंने ईरान से तेल का आयात जारी रखा तो उन्हें भी अमेरिकी प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा. 3 अमेरिकी अधिकारियों ने बताया कि विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ सोमवार को यह घोषणा कर सकते हैं कि प्रशासन 5 देशों को प्रतिबंधों में छूट नहीं देगा. इस छूट की अवधि दो मई को समाप्त हो रही है.

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. शेयर बाजार के लिए इस साल का सबसे खराब दिन, इन 5 वजहों से आई बड़ी गिरावट

Go to Top