सर्वाधिक पढ़ी गईं

अब निजी कंपनियां बनाएंगी ध्रुव हेलीकॉप्टर

'मेक इन इंडिया' पहल को बढ़ावा देने के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने शुक्रवार को निजी क्षेत्र की कंपनियों से स्वदेशी उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर (एएलएच) ध्रुव के नागरिक संस्करण के निर्माण के लिए आमंत्रित किया है.

Updated: Feb 17, 2018 11:15 AM
make in india, dhruv helicopter, hindustan aeronotics limited, indian aerospace, narendra modi, मेक इन इंडिया, ध्रुव हेलीकाप्टर, नरेंद्र मोदी, भारत‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा देने के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने शुक्रवार को निजी क्षेत्र की कंपनियों से स्वदेशी उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर (एएलएच) ध्रुव के नागरिक संस्करण के निर्माण के लिए आमंत्रित किया है. (PTI)

‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा देने के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने शुक्रवार को निजी क्षेत्र की कंपनियों से स्वदेशी उन्नत हल्के हेलीकॉप्टर (एएलएच) ध्रुव के नागरिक संस्करण के निर्माण के लिए आमंत्रित किया है. एचएएच रक्षा क्षेत्र की एक प्रमुख सरकारी कंपनी है, जिसने एएलएच को विकसित किया है. कंपनी ने एयरोस्पेस और इंजीनियरिंग उद्योग में प्रासंगिक अनुभव के साथ निजी कंपनियों से ‘रुचि की अभिव्यक्ति’ आमंत्रित करने के लिए एक नोटिस जारी किया है.

एचएएल ने एक बयान में कहा, “एचएएल भारतीय साझीदार की तलाश में है, जो इंजीनियरिंग/एयरोस्पेस उद्योग (विनिर्माण और विधानसभा सहित) में पांच साल का अनुभव रखने की क्षमता रखता हो, कंपनी का कुल मूल्य कम से कम 2,000 करोड़ रुपये का हो और 2,500 करोड़ रुपये का न्यूनतम कारोबार हो. साथ ही जो कुशल और योग्य कर्मी रखने के अलावा भारत में पंजीकृत या भारतीय हितधारकों द्वारा बहुमत रखने वाले और एचएएल के साथ सामरिक सहयोग में प्रवेश करने के लिए तैयार हों.”

एचएएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक टी. सुवर्णा राजू ने कहा, “देश के नागरिक परिचालन में हेलीकॉप्टरों की बढ़ती जरूरतों को ध्यान में रखते हुए, यह एचएएल के लिए एक बड़ा सौदा होगा जो ओईएम और लाइसेंसदाता है.” एचएएल एएलएच-ध्रुव की डिजाइन प्राधिकरण और मूल उपकरण निर्माता (ओईएम) है.

बयान में कहा गया, “कंपनी अब एक विश्वसनीय भारतीय साझेदार (आईपी) विकसित करने की उम्मीद कर रही है जो कि कम समय की अवधि में सिविल क्षेत्र में विभिन्न ग्राहकों की संभावित मांग को पूरा कर सके. चयनित भारतीय साझीदार को ग्राहकों को उत्पाद के पूरे जीवनकाल (20 साल) के लिए सहायता प्रदान करनी होगी, जिससे दीर्घकालिक व्यावसायिक संबंध सुनिश्चित हो सके.” एक प्रौद्योगिकी प्रदाता के रूप में, एचएएल चयनित व्यावसायिक साझेदार के लिए लाइसेंस के माध्यम से एलएएच-ध्रुव (सिविल) के उत्पादन के लिए तकनीक का हस्तांतरण प्रदान करेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. अब निजी कंपनियां बनाएंगी ध्रुव हेलीकॉप्टर

Go to Top