मुख्य समाचार:

1 साल में निफ्टी बनाएगा नया रिकॉर्ड! कोरोना संकट के बाद ये 19 शेयर बढ़ा सकते हैं आपकी दौलत

देश में कोरोना संकट ऐसे समय में आया, जब पहले से ही यहां कुछ घरेलू और ग्लोबल फैक्टर की वजह से सुस्ती चल रही थी.

April 27, 2020 8:33 AM
COVID-19, Nifty Outlook, Nifty EPS, after corona crisis these stocks may outperform, where should you invest, after corona crisis your wealth may increaseदेश में कोरोना संकट ऐसे समय में आया, जब पहले से ही यहां कुछ घरेलू और ग्लोबल फैक्टर की वजह से सुस्ती चल रही थी.

देश में कोरोना संकट ऐसे समय में आया, जब पहले से ही यहां कुछ घरेलू और ग्लोबल फैक्टर की वजह से सुस्ती चल रही थी. फिलहाल कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन ने देश के शेयर बाजार की कमर तोड़ दी है. अर्थव्यवस्था को लेकर बढ़ी अनिश्चितता में बाजार में भारी करेक्शन देखने को मिला. ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर का मानना है कि कि अभी इसका असर रहेगा, लेकिन कोरोना संकट के बाद तस्वीर तेजी से बदलेगी. अर्थव्यवस्था में रिकवरी के संकेत मिलते हैं तो अगले एक साल में निफ्टी 12659 का स्तर छू सकता है. ब्रोकरेज ने मौजूदा समय में मजबूत बैलेंसशीट और हाई प्रमोटर क्वालिटी वाले ऐसे कंपनियों के शेयर चुनने की सलाह दी है, जिनमें कोई निगेटि इश्यू न हो. साथ ही ये कंपनियां ब्रांड और टेक्नोलॉजी में भी मजबूत हों.

मौजूदा समय में निगेटिव फैक्टर

प्रभुदास लीलाधर के मुताबिक लॉकडाउन के चलते कंपनियों में कारखाने या कंस्ट्रक्शन साइट बंद हुए हैं, जिन्हें सही से शुरू होने में अभी 2 से 3 महीने लगेंगे. इससे जहां प्रोडक्शन बंद हुआ है, वहीं बड़ी संख्या में लोगों की नौकरियां गई हैं. निजी कंपनियों में काम करने वाले तमाम कर्मचारियों को सैलरी कट का सामना करना पड़ रहा है. इससे खरीदने की क्षमता पर असर अभी दिखेगा.

लॉकडाउन के चलते हार्वेस्टिंग में देरी से एग्रो इनकम भी कमजोर रहने की उम्मीद है. सप्लाई चेन टूटने से MSME सेक्टर पर दबाव बहुत ज्यादा बढ़ा है. वहीं ग्लोबल ग्रोथ पर निगेटिव असर से लिक्विडिटी की समस्या बढ़ रही है.

लॉकडाउन में फाइनेंशियल सेक्टर पर भी असर पड़ा है. एनपीए बढ़ने का डर है, जिससे एसेट क्ववालिटी खराब होगी. क्रेडिट ग्रोथ और जमा दोनों पर ही असर हो रहा है.

लॉकडाउन के चलते सरकार का टैक्स कलेक्शन कमजोर हुआ है. वहीं FY21 में फिस्कल डेफिसिटी GDP की 5.8 फीसदी रहने की आशंका है, जबकि सरकार का टारगेट 3.5 फीसदी है.

मौजूदा समय में पॉजिटिव संकेत

क्रूड आयल की कीमतों में इस साल अबतक 60 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. इससे जहां कई देशों की अर्थव्यवस्था को झटका लगा है, भारत के लिए यह पॉजिटिव फैक्टर है. इससे सरकार को मिड टर्म में अपने चालू खाते पर घाटा को 1-1.5 फीसदी तक कम करने में मदद मिलेगी.

RBI ने हाल ही में सिस्टम में लिक्विडिटी बढाने के कई उपाय किए हैं. रेपो रेट में कटौती हुई, टीएलआरटीओ पार्ट 2 शुरू किया गया. रिवर्स रेपो रेट भी कम किया गया है. इससे सिस्टम में लिक्विडिटी बढ़ेगी.

पिछले साल भारत में बेहतर मॉनसून रहा था. जिस वजह से गेहूं की फसल चावल की फसल से ज्यादा हुई है. इससे कुछ रूरल इलाकों में स्पेंडिंग बढ़ने की उम्मीद है. वहीं इस साल भी मानसून बेहतर रहने का अनुमान है.

किन सेक्टर में आगे दिखेगी ग्रोथ

प्रभुदास लीलाधर के अजय बोडके का कहना है कि FY 19-20 के लिए निफ्टी EPS में 8-10 फीसदी की कमी आ सकती है. वहीं आगे U शेप में रिकवरी की उम्मीद है. FY 20-21 में अर्निंग ग्रोथ मॉडरेट दिख सकता है. आगे के लिए मजबूत बैलेंसशीट और हाई प्रमोटर क्वालिटी वाले ऐसे कंपनियों के शेयर चुनने की सलाह है, जिनमें कोई निगेटि इश्यू न हो. साथ ही ये कंपनियां ब्रांड और टेक्नोलॉजी में भी मजबूत हों.

उनका कहना है कि कुछ निजी बैंक हैं जो कैपिटल के रूप में मजबूत हैं और रिस्क को बेहतर तरीके से मैनेज कर सकते हैं, उनके अगले 18 से 24 महीनों में आउटपरफॉर्म करने की उम्मीद है. टेलिकॉम सेक्टर पर वह ओवरवेट हैं. वहीं मौजूदा समय में फार्मा शेयर बेहतर विकल्प बनकर उभरे हैं. इंश्योरेंस सेक्टर में मजबूत कंपनियों के शेयरों के साथ सीमेंट शेयरों को भी अभी पोर्टफोलियो में शामिल करने का समय है. रूरल फोकस वाली आटो कंपनियों में ग्रोथ देखने को मिल सकती है. कंज्यूमर ड्यूरेबल और FMCG में वैल्युएशन का ध्यान रखकर ही निवेश करना चाहिए. वहीं सीमेंट इंडस्ट्री भी बेहतर विकल्प हैं.

किन शेयरों पर दांव लगाने की सलाह

लॉर्जकैप: एचडीएफसी बैंक, इंफोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, मारुति सुजुकी, बजाज फाइनेंस, एल एंड टी, अल्ट्राटेक सीमेंट, ब्रिटानिया, डॉ रेड्डी और पेट्रोनेट एलएनजी.

मिडकैप: कंसाई नेरोलैक पेंट्स, इप्का लैब, बेयरक्रॉप साइंस, चोलामंडलम इन्वेसटमेंट, क्रॉम्पटन ग्रीव्स कंज्यूमर्स.

स्मालकैप: केएनआर कंस्ट्रक्शन, कल्पतरू पावर ट्रांसमिशन, जेके लक्ष्मी सीमेंट, आईनॉक्स लीजर

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. 1 साल में निफ्टी बनाएगा नया रिकॉर्ड! कोरोना संकट के बाद ये 19 शेयर बढ़ा सकते हैं आपकी दौलत

Go to Top