मुख्य समाचार:

Lockdown: सप्लाई में लेबर्स की कमी बड़ा चैलेंज, ई-कॉमर्स कंपनियां अस्थायी भर्ती के लिए तैयार

ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म अभी भी केवल जरूरी सामानों की ही सप्लाई कर रहे हैं.

April 22, 2020 7:27 PM
COVID19: Lack of labourers is the biggest challenge in supply during corona lockdown, know what Amazon India saysImage: Reuters

कोरोनावायरस (Coronavirus) की वजह से देशभर में लागू लॉकडाउन 3 मई को खत्म हो रहा है. हालांकि, इस दौरान कुछ क्षेत्रों जैसे कंस्ट्रक्शन, IT सेक्टर, कृषि आदि में गतिविधियां 20 अप्रैल से शुरू हो गई हैं. वहीं, ई-कॉमर्स क्षेत्र अभी भी जरूरी सामानों की आपूर्ति तक ही सीमित है. पहले सरकार की ओर से ई-कॉमर्स कंपनियों को 20 अप्रैल से फोन, स्टेशनरी आइटम्स, रेफ्रिजरेटर, रेडीमेड गारमेंट, टीवी जैसे गैर-जरूरी सामानों की सप्लाई करने की अनुमति दी गई थी लेकिन बाद में सरकार ने यूटर्न लेते हुए इसे वापस ले लिया. लिहाजा ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म अभी भी केवल जरूरी सामानों की ही सप्लाई कर रहे हैं.

लॉकडाउन के इस दौर में ई-कॉमर्स क्षेत्र भी चुनौतियों का सामना कर रहा है, जिनमें सबसे अहम चुनौती वर्कर्स की कमी की है. एक शीर्ष ई-कॉमर्स कंपनी के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि इस वक्त लेबर्स की कमी के चलते सप्लाई में अवरोध उत्पन्न हो रहा है. सरकार ने कंपनियों/प्रतिष्ठानों को आदेश दिया है कि कामगारों के वेतन में लॉकडाउन में काम पर न आ पाने की स्थिति में कटौती न की जाए. उन्हें वर्किंग माना जाए और पूरी सैलरी दी जाए ताकि रोजगार पर न आ पाने के चलते उन्हें पैसों की दिक्कत न हो. अधिकारी का कहना है कि, यह कदम सराहनीय है लेकिन इससे दिक्कत यह पैदा हो रही है कि जिन वर्कर्स के कर्फ्यू पास तैयार हो चुके हैं, वे भी काम पर आने से मना कर देते हैं.

अन्य क्षेत्रों में भी रहेगी यह दिक्कत

उन्होंने बताया कि 20 अप्रैल से लॉकडाउन में जो ढील दी गई है, कई क्षेत्रों में गतिविधियां शुरू की गई हैं, उनमें लेबर को लेकर बड़ी दिक्कत आने वाली है. यह दिक्कत पूरी इंडस्ट्री की है. हमारे यहां इस वक्त 50 फीसदी वर्कर्स काम पर आ रहे हैं. वह भी तब जब अमेजन ने उन्हें एक्स्ट्रा बेनिफिट यानी इंसेंटिव की पेशकश की है.

उनका कहना है कि लेबर के मसले पर हम सरकार से लगातार बात कर रहे हैं और उनसे अपील कर रहे हैं कि जिन क्षेत्रों में आप काम शुरू कर रहे हैं, जो कंपनियां या एंप्लॉयर जरूरी चीजों/सेवाओं को उपलब्ध कराने से जुड़े हैं, उनके लिए वर्कर्स को घर बैठे-बैठे सैलरी देने के आदेश में संशोधन हो.

रतन टाटा को इस बात का है मलाल, वेबिनार में खोले राज

अस्थायी भर्ती को तैयार है कंपनियां

शीर्ष अधिकारी का कहना है कि इंडस्ट्री में इन दिनों वैसे भी लेबर्स की कमी है. ऐसे में अगर काम की आवश्यकता वाले लोग ई-कॉमर्स से जुड़ना चाहते हैं तो कंपनियां उनका स्वागत करेगी. लेकिन इसमें दिक्कत यह है कि कर्फ्यू पास पर्याप्त मात्रा में जारी नहीं हो पा रहे हैं. अगर कर्फ्यू पास जारी होने में और तेजी आती है तो भर्ती करने में तेजी आएगी क्योंकि कंपनियों को जरूरत है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Lockdown: सप्लाई में लेबर्स की कमी बड़ा चैलेंज, ई-कॉमर्स कंपनियां अस्थायी भर्ती के लिए तैयार
Tags:Amazon

Go to Top