मुख्य समाचार:

कोरोना संकट: चीन से सप्लाई ठप, खत्म होने की कगार पर बफर स्टॉक; ट्रेडर्स ने कहा- सरकार उठाए जरूरी कदम

कोरोना वायरस की वजह से चीन से आने वाले सामान की सप्लाई पर असर हुआ है.

March 12, 2020 6:09 PM
coronavirus affects indian businessmen CAT writes to government for improving supply chainकोरोना वायरस की वजह से चीन से आने वाले सामान की सप्लाई पर असर हुआ है.

Corona Crisis: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का प्रकोप देखा जा रहा है. भारत में भी कोरोना के मामले बढ़कर कुल 73 हो चुके हैं. दुनिया भर के शेयर बाजारों में इसकी वजह से गिरावट हो रही है. अब भारत के व्यापारियों पर भी इसका असर दिखने लगा है. दरअसल, कोरोना वायरस की वजह से चीन से आने वाले सामान की सप्लाई पर असर हुआ है. इसके साथ ही कोरोना की वजह से लोग चीनी सामान को खरीदने से बच रहे हैं. कोरोना की वजह से ग्राहक और व्यापारी दोनों चीनी सामान से दूर हैं. इस सिलसिले में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने सरकार से पूरे देश में प्रभावी और स्थायी सप्लाई चैन सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया है.

चीन से कच्चे माल का उत्पादन रुका

कैट के मुताबिक, आमतौर पर आयातक 45 दिनों से लेकर 60 दिनों तक बफर स्टॉक अपने पास रखता है और उस अनुपात में नियमित अंतराल पर चीनी सामानों की खरीद की जाती है. कोरोना वायरस दिसंबर 2019 के आखिर में पाया गया और जनवरी के पहले हफ्ते में सुर्खियों में आया. इस समय तक चीन ने अपने उद्योगों को बंद कर दिया और इसके साथ लगभग 18 शहरों को भी पूरी तरह से बंद कर दिया गया, जिससे माल के उत्पादन में पूरी तरह से रोक लगी.

भारत चीनी वस्तुओं का प्रमुख आयातक है जो भारत में आपूर्ति श्रृंखला को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. अब तक 45-60 दिनों के बफर स्टॉक ने सप्लाई चैन को बनाए रखा है. हालांकि, ऐसे बफर स्टॉक अब खत्म होने जा रहे हैं और उसके बाद सप्लाई चैन बुरी तरह प्रभावित हो जाएगी.

इसके साथ कैट ने कहा कि कोरोना वायरस पर देश भर में बहुत प्रचार किया गया है जिससे पूरे देश में एक आतंक पैदा हो गया है जिसने भारतीय बाजार को बुरी तरह प्रभावित किया है क्योंकि धीरे-धीरे ग्राहक बाजारों में आने से कतरा रहे हैं जिसकी वजह से व्यापार में नुकसान होना शुरू हो गया है.

COVID-19 से 4633 मौत; कोरोना के साए में दुनियाभर के बाजार, आर्थिक मंदी की आशंका बढ़ी

कैट ने पॉलिमर नोट शुरू करने को भी कहा

इसके अलावा कैट ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी भेजकर भारत में पेपर करेंसी की जगह पर पॉलिमर नोट शुरू करने को कहा है. कैट के मुताबिक इससे देशभर में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा मिलेगा. कैट ने इससे पहले सरकार को कहा था कि विभिन्न लोगों के संपर्क में आने की वजह से पेपर करेंसी से वायरस फैल सकता है और लोगों के स्वास्थ्य के लिए यह एक खतरा है. इसी सिलसिले में कैट ने पीएम मोदी को खत भेजा है.

प्रधानमंत्री को भेजे पत्र में कैट ने कहा कि दुनिया के बड़ी संख्या में विभिन्न देशों ने आधिकारिक मुद्रा के रूप में पॉलीमर नोटों को अपनाया है और भारत सरकार के लिए यह भी सही समय है कि वह कागजी मुद्रा के स्थान पर पॉलीमर नोटों को अपनाए.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कोरोना संकट: चीन से सप्लाई ठप, खत्म होने की कगार पर बफर स्टॉक; ट्रेडर्स ने कहा- सरकार उठाए जरूरी कदम

Go to Top