मुख्य समाचार:

लॉकडाउन: अगर सरकार से नहीं मिला सहयोग तो टेक्सटाइल इंडस्ट्री में जा सकती हैं 1 करोड़ नौकरियां

कोरोना वायरस के चलते लागू देशव्यापी लॉकडाउन से टेक्सटाइल सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुई है.

April 13, 2020 8:48 PM

Corona Lockdown: 1 crore job cuts likely in textile industry without govt support, says CMAI

कोरोना वायरस के चलते लागू देशव्यापी लॉकडाउन से टेक्सटाइल सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुई है. अगर सरकार की ओर से सहयोग और रिवाइवल पैकेज नहीं मिला तो इस सेक्टर में 1 करोड़ नौकरियां जा सकती हैं. यह बात क्लोदिंग मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (CMAI) ने कही है. CMAI के लगभग 3700 सदस्य हैं, जो 7 लाख से ज्यादा लोगों को नौकरी दिए हुए हैं. लगभग 80 फीसदी टेक्सटाइल इंडस्ट्री में से ज्यादातर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम एंटरप्राइजेज हैं. CMAI ने कहा कि इसके ज्यादातर सदस्यों के पास इतना रिजर्व नहीं है कि वे अगले 3-6 माह तक ऐसे ही हालात रहने पर अपने सभी कर्मचारियों को रख सकें.

CMAI के चीफ मेंटोर राहुल मेहता ने कहा कि हमारा अनुमान है कि अगर सरकार की ओर से वेतन सब्सिडी या रिवाइवल पैकेज के तौर पर कोई मदद नहीं मिलती है तो टेक्सटाइल इंडस्ट्री में लगभग 1 करोड़ नौकरियां खतरे में आ सकती हैं. मेहता ने इंडस्ट्री के लिए सरकार से वित्तीय पैकेज की मांग करते हुए कहा कि वेतन सब्सिडी जैसे हस्तक्षेप जरूरी हैं, नहीं तो बड़े पैमाने पर नौकरियां जाएंगी.

अगर बंद रही इंडस्ट्री तो पूरी वैल्यू चेन पर होगा असर

अगर गारमेंट इंडस्ट्री बंद रहती है तो इससे फैब्रिक सप्लाई इंडस्ट्री से लेकर ब्रांड और जिपर व लेबल इंडस्ट्री तक पूरी वैल्यू चेन प्रभावित होगी. मेहता ने आगे कहा कि हम टेक्सटाइल मंत्रालय की ओर से की गई कोशिशों जैसे सभी दिग्गज वैश्विक कंपनियों से भारतीय निर्यातकों के ऑर्डर कैंसिल न करने की अपील आदि की प्रशंसा करते हैं. इन कदमों से मैन्युफैक्चरर्स विशेषकर छोटे मैन्युफैक्चरर्स को सकारात्मक संकेत मिलते हैं.

एवेन्यू सुपरमार्ट: कोरोना संकट में भी मालामाल करने वाले शेयर में लोअर सर्किट, क्या अब मुनाफा वसूली का है समय

कई मैन्युफैक्चरर बंद करने की सोच रहे बिजनेस

मेहता ने यह भी कहा कि CMAI ने अपने मेंबर्स के बीच एक सर्वे किया है और लगभग 1500 प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण किया है. लगभग 20 फीसदी ने कहा कि वे लॉकडाउन खत्म होने के बाद अपना बिजनेस बंद करने के बारे में सोच रहे हैं. लगभग 60 फीसदी ने कहा कि उन्हें लगता है कि रेवेन्यु 40 फीसदी गिर सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. लॉकडाउन: अगर सरकार से नहीं मिला सहयोग तो टेक्सटाइल इंडस्ट्री में जा सकती हैं 1 करोड़ नौकरियां

Go to Top