सर्वाधिक पढ़ी गईं

कमोडिटी महंगा होने से कंज्यूमर ड्यूरेबल्स कंपनियां बढ़ाएंगी दाम! स्टॉक में कैसे करें कमाई

Consumer Durables Stocks: कमोडिटी की कीमतें बढ़ने से कंज्यूमर ड्येरेबल्स सेक्टर को इनपुट कास्ट बढ़ने का सामना करना पड़ रहा है.

December 17, 2020 7:47 AM
Consumer Durables SectorConsumer Durables Sector: कमोडिटी की कीमतें बढ़ने से कंज्यूमर ड्येरेबल्स सेक्टर को इनपुट कास्ट बढ़ने का सामना करना पड़ रहा है.

Consumer Durables: पिछले कुछ दिनों कमोडिटी की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं. ज्यादातर कमोडिटी की कीमतों में सालाना आधार पर 15 से 25 फीसदी की तेजी आई है और इनके दाम कई महीनों के हाई पर हैं. ऐसे में कंज्यूमर ड्येरेबल्स सेक्टरको इनपुट कास्ट बढ़ने का सामना करना पड़ रहा है. आने वाले दिनों में इसके चलते कई कंपनियां अपने प्रोडक्ट का दाम बढ़ा सकती हैं. वहीं इस सेक्टर को सप्लाई साइड से भी चुनौतियां मिल रही हैं. हालांकि डिमांड पहले से सुधरा है और फेस्टिव सेल्स भी उम्मीद से बेहतर रही है. एक्सपर्ट मानते हैं कि कुछ चुनौतियों के बाद भी इस सेकटर से जुड़े कुछ शेयर अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं.

कमोडिटी की कीमतों पर नजर

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल का कहना है कि कमोडिटी की कीमतों पर कंज्यूमर ड्यूरेबल्स कंपनियों की नजर है. इस साल ज्यादातर कमोडिटी की कीमतें सालाना आधार पर 15 से 25 फीसदी बढ़ चुकी हैं. कॉपर में 25 फीसदी, स्टील में 25 फीसदी से ज्यादा, एल्यूमीनियम में 14 फीसदी से ज्यादा और यहां तक कि प्लास्टिक के दाम भी लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में कंपनियों का इनपुट कास्ट बढ़ रहा है. इससे वे कंपनियां जो अपने प्रोडक्ट पौर्टफोलियों के लिए कमोडिटी पर निर्भर हैं, वे आगे दाम बढ़ा सकती हैं.

ब्रोकरेज का मानना है कि कॉपर के भाव बढ़ने से केबल्स और वायर सेग्मेंट को फायदा होगा. अभी हम कंस्ट्रक्शन के पीक फेज की ओर बढ़ रहे हैं. ऐसे में आने वाले दिनों में केबल और वायर की जोरदार डिमांड रहने की उम्मीद है. इसलिए कंपनियां दाम बढ़ाकर फायदा हासिल करना चाहेंगी. ब्रोकरेज के अनुसार इससे कंज्यूमर इलेक्ट्रिकल्स कंपनियां भी इनपुट कास्ट के दबाव को कस्टमर्स पर पास आन करेंगी. आने वाले दिनों में पंखे और लाइट महंगे हो सकते हैं.

जल्द खत्म होंगी सप्लाई की चुनौतियां

ब्रोकरेज हाउस एमके ग्लोबल का कहना है कि प्रीमियम प्रोडक्ट की फेस्टिव डिमांड उम्मीद से बेहतर रहा है जो अच्छे संकेत हैं. हालांकि एंट्री लेवल सेग्मेंट में कुछ कटेगिरी को सप्लाई साइड पर चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं क्रेडिट कार्ड कंपनियों की एग्रेसिव फाइनेंसिंग स्कीम भी इस बार गायब रही है. लेकिन कंपनियां मान रही हैं कि जल्द ही सप्लाई की चुनौतियां कम होंगी. आने वाले दिनों में फुटफाल बढ़ने की उम्मीद है, जो मॉल बेस्ड स्टोर में अभी भी कमजोर है. दूसरी ओर व्हाइट गुड्स में आनलाइन चैनल में मजबूत ग्रोथ देखने को मिली है. ब्रोकरेज के अनुसार रेफ्रिजरेटर की डिमांड 15 से 17 फीसदी वैल्यू ग्रोथ के साथ मजबूत बनी हुई है. वाशिंग मशीन, एसी और टीवी में भी डिमांड बेहतर हुई है.

शेयर को लेकर स्ट्रैटेजी

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने टॉप पिक्स में क्रॉम्पटन को शामिल किया है. इसके लिए 390 रुपये का लक्ष्य देकर निवेश की सलाह दी है. हावेल्स में न्यूट्रल रेटिंग रखी है और शेयर के लिए 850 रुपये का लक्ष्य रखा है. वोल्टास के लिए भी ब्रोकरेज ने न्यूट्रल रेटिंग देते हुए 815 रुपये का लक्ष्य दिया है. वहीं ब्लूस्टार की रेटिंग डाउनग्रेड करते हुए उसमें 680 रुपये का लक्ष्य रखा है.

(नोट: हमने यहां सलाह ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर दी है. बाजार में अपने जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश के पहले एक्सपर्ट की राय लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कमोडिटी महंगा होने से कंज्यूमर ड्यूरेबल्स कंपनियां बढ़ाएंगी दाम! स्टॉक में कैसे करें कमाई

Go to Top