सर्वाधिक पढ़ी गईं

चने में जोरदार तेजी, 3 साल में हुआ सबसे महंगा; क्यों बढ़ रहे हैं भाव

चने के भाव में इस समय जो तेजी दिख रही है, उसकी एक वजह इस बार बुवाई में करीब 15 दिनों की देरी है.

October 13, 2020 8:09 AM
CHICKPEAS PRICE UP UNEXPECTED MAY DOWN AFTER SOWING DATA RELEASEचने के भाव में अनुमान से ज्यादा बढ़ोतरी हो रही है.

कोविड 19 के चलते देश आर्थिक दबाव के इस दौर में वह आम आदमी के खाने की थाली भी महंगी होती जा रही है. आलू, प्याज, टमाटर, सरसों के बाद अब चने में भी जोरदार उछाल देखने को मिल रहा है. हर तरह के दाल के भाव इस समय तेजी से ऊपर उठ रहे हैं. चना की बात करें तो यह करीब 3 साल के हाई पर है. हाजिर बाजार में चने का भाव 5300 रुपये प्रति क्विंटल के पार चल रहा है. माना जा रहा है कि त्योहारी मांग बढ़ने से चने का भाव आने वाले दिनों में 5800-5850 रुपये तक पहुंच सकते हैं.

चने की कीमतों में अनुमान से ज्यादा बढ़ोतरी

केडिया एडवाइजरी के मैनेजिंग डायरेक्टर अजय केडिया ने बताया कि चना में यह जो तेजी दिख रही है, वह उम्मीद से अधिक है. दो-तीन महीने पहले भी चना की कीमतों में बढ़ोतरी का रुख दिख रहा था लेकिन इस समय की बढ़ोतरी उम्मीद से अधिक है और अब त्यौहारी सत्र चल रहा है जिसके कारण कुछ समय तक और इसके भाव नरम पड़ने की उम्मीद नहीं है.

आयात शुल्क से भाव नियंत्रित कर सकती है सरकार

अगर चने के भाव में उछाल बहुत अधिक हुआ तो सरकार चने के आयात शुल्क में कटौती कर इसके आयात को बढ़ावा दे सकती है. इससे चने की आवक बढ़ेगी और इसके भाव टूटेंगे.

बुवाई पर निर्भर करेगा चने की कीमत

चने के भाव में इस समय जो तेजी दिख रही है, उसकी एक वजह इस बार बुवाई में करीब 15 दिनों की देरी है. 15 दिनों की देरी की वजह से चने के भाव लगातार बढ़ रहे हैं. अजय केडिया के मुताबिक इस बार बंपर बुवाई की उम्मीद है और तब जाकर चने के भाव में नरमी आएगी. बुवाई की फसल आने में मार्च आ जाएगा, फिर इसका चने के भाव में नरमी से क्या लेना-देना है, इसका जवाब देते हुए अजय केडिया ने कहा कि बुवाई बंपर होने की परिस्थिति में जिन लोगों के पास चने का स्टॉक रखा है, वो उसे बाहर निकालेंगे जिससे चने की आवक बढ़ेगी और चने के भाव टूटेंगे. हालांकि चने की बुवाई सामान्य या उससे कम होने की परिस्थिति में भाव में ज्यादा कमी की उम्मीद नहीं की जा सकती है.

बुवाई के आंकड़े आने पर गिर सकती है कीमतें

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2019-20 के लिए उत्पादन चौथे अग्रिम आंकड़ों के मुताबिक 1.14 करोड़ टन चना उत्पादित हुआ है जबकि पिछली बार 2018-19 में यह आंकड़ा 99.4 लाख टन था. आंकड़ों के मुताबिक 2019-20 में चने का उत्पादन पिछले सत्र की तुलना में बहुत अधिक नहीं बढ़ा है. अक्टूबर-नवंबर के बीच चने की बुवाई के आंकड़े सामने आएंगे. उसके आंकड़े सामने आने के बाद इसके भाव टूट सकते हैं. केडिया एडवाइजरी के मैनेजिंग डायरेक्टर अजय केडिया के मुताबिक बंपर बुवाई की सूरत में चने के भाव 4400-4500 तक टूट सकते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. चने में जोरदार तेजी, 3 साल में हुआ सबसे महंगा; क्यों बढ़ रहे हैं भाव

Go to Top