मुख्य समाचार:

रिकवरी के संकेत! अब थोड़ा बदल दें SIP की स्ट्रैटेजी, लांग टर्म में बढ़ती जाएगी दौलत

शेयर बाजार की जहां रिटर्न सुधरा है, वहीं ​पिछले एक महीने में इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीम में भी रिटर्न बेहतर हुआ है.

Updated: Jun 11, 2020 12:30 PM
systematic investment plan, SIP, change your SIP strategy, generating wealth in long term through SIP, choose asset allocation SIP, debt fund SIP, largecap fund SIP, multicap funds, smallcap funds, COVID-19 challenges, mutual fund investors, safe investment​पिछले एक महीने में इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीम में रिटर्न बेहतर हुआ है. ज्यादातर कटेगिरी में पॉजिटिव रिटर्न मिला है.

Mutual Fund SIP: पिछले एक महीने के प्रदर्शन पर नजर डालें तो बाजार COVID-19 के दौर से बाहर निकलता दिख रहा है. शेयर बाजार की जहां रिटर्न सुधरा है, वहीं ​पिछले एक महीने में इक्विटी म्यूचुअल फंड स्कीम में भी रिटर्न बेहतर हुआ है. इक्विटी सेग्मेंट के ज्यादा कटेगिरी में पॉजिटिव रिटर्न मिला है. यहां तक सेक्टोरल कटेगिरी में रिटर्न डबल डिजिट में चला गया है. निवेशक एक बार फिर शेयर बाजार की तुलना में सुरक्षित माने जाने वाले म्यूचुअल फंड में पैसा लगा रहे हैं. एक्सपर्ट का कहना है कि रिकवरी के इस दौर में सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान (SIP) से निवेश बेहतर विकल्प है. लेकिन इसके लिए मौजूदा दौर में निवेशकों को अपनी स्ट्रैटेजी में कुछ बदलाव लाना जरूरी है.

लांग टर्म: एसेट अलोकेशन SIP चुनें

BPN फिनकैप कंस्लटेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि अगर लांग टर्म यानी 5 से 10 साल के लिए SIP करने का प्लान है तो अभी के दौर में एक जगी ही पैसा लगाना समझदारी नहीं है. बल्कि इसकी जगह एसेट अलोकेशन SIP की रणनीति बनानी चाहिए. इसके लिए भी अलग अलग उम्र के आधार पर अलग अलग स्कीम में अलोकेशन होना चाहिए. मसलन अगर आपको महीने का 20 हजार रुपये एसआईपी के जरिए निवेश करना हो तो इसे लॉर्जकैप, मल्टीकैप, लॉर्ज एंड मिडकैप और डेट फंड स्कीम में बांट देना चाहिए. इससे आपको पोर्टफोलियो बैलेंस रहेगा और एक जगह अगर रिस्क है तो दूसरी जगह के रिटर्न से नुकसान की भरपाई होगी.

अगर युवा निवेशक है

अगर युवा निवेशक हैं और आपके पास रिस्क लेने की क्षमता है तो अलोकेशन बराबर होना चाहिए. यानी 20 हजार में 5000 रुपये के बराबर 4 हिस्से कर इन्हें लॉर्जकैप, मल्टीकैप, लॉर्ज एंड मिडकैप और डेट फंड स्कीम में एसआईपी करनी चाहिए.

मिडिल एज ग्रुप है

अगर आप 40 से 50 साल के बीच के निवेशक हैं तो आपका यह अलोकेशन 40:60 के अनुपात में हो सकता है. यानी आपको 8000 रुपये डेट फंड में और 4000—4000 रुपये लॉर्जकैप, मल्टीकैप, लॉर्ज एंड मिडकैप में डालने चाहिए

50 से पार है उम्र

50 या 55 की उम्र के निवेशक हैं तो डेट फंड में 60 फीसदी रकम एसआईपी से लगाए. बाकी की रकम इक्विटी की अलग अलग स्कीम में एसआईपी करें.

शॉर्ट टर्म निवेश का लक्ष्य है तो

अगर 2-3 साल के लिए SIP करनी है तो मौजूदा स्थिति में डेट कटेगिरी में अल्ट्रा शॉर्ट टर्म, लिक्विड, कॉरपोरेट बांड और शॉर्ट टर्म फंड में निवेश करना चाहिए. शॉर्ट टर्म निवेश का लक्ष्य रखने वालों को अभी डेट फंड का चुनाव करना चाहिए जो बाजार में अनिश्चितता से सुरक्षा दे सकते हैं. इक्विटी मार्केट में अभी दबाव है और इसे पूरी तरह से पटरी पर आने में कुछ समय लगेगा. दूसरी ओर अभी ब्याज दरों में कटौती और स्माल सेविंग्स स्कीम में ब्याज दरें घटने से डेट मार्केट को फायदा होगा. डेट सेग्मेंट में ज्यादातर कटेगिरी का रिटर्न 1 साल के दौरान बेहतर हुआ है. ऐसे में 2 से 3 साल का लक्ष्य है तो इस सेग्मेंट में एसआईपी शुरू कर अपने शॉर्ट टर्म गोल पूरे किए जा सकते हैं.

1 साल का लक्ष्य: लो ड्यूरेशन फंड
2 साल का लक्ष्य: कॉरपोरेट बांड
3 साल का लक्ष्य: शॉर्ट ड्यूरेशन फंड

(नोट: हमने यहां एक्सपर्ट से बात चीत के आधार पर जानकारी दी है. बाजार के जोखिम को देखते हुए निवेश के पहले एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. रिकवरी के संकेत! अब थोड़ा बदल दें SIP की स्ट्रैटेजी, लांग टर्म में बढ़ती जाएगी दौलत

Go to Top