सर्वाधिक पढ़ी गईं

Amazon और Flipkart की छुट्टी करेगी स्वदेशी ई-दुकान, बिना कमीशन कारोबारी बेच सकेंगे अपना सामान

Amazon और Flipkart को टक्कर देने के लिए बनाए गए स्वदेशी पोर्टल पर चीन के किसी भी सामान की बिक्री नहीं होगी. 

Updated: Mar 11, 2021 5:51 PM
CAIT launches vendor onboarding mobile app for its e-commerce portal Bharat e Market e dukanस्वदेशी पोर्टल पर ई-दुकान बनाने के लिए कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा और कारोबार को लेकर न ही कोई कमीशन लिया जाएगा. (Image- CAIT Bharat E-Market Portal)

Amazon और Flipkart को टक्कर देने के लिए देसी ई-मार्केट मोबाइल ऐप आ गया है. कॉन्फेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स(CAIT) ने आज गुरुवार 11 फरवरी को वेंडर ऑनबोर्डिंग मोबाइल ऐप को लांच किया है. 8 करोड़ कारोबारियों और 40 हजार से अधिक ट्रेड एसोसिएशंस के संगठन कैट ने अपने आने वाले ई-कॉमर्स पोर्टल ‘Bharat e Market’ के लिए ऐप को लांच किया है. इस ऐप के जरिए सभी कारोबारी और सर्विस प्रोवाइडर्स खुद को पोर्टल पर रजिस्टर करा सकेंगे और अपनी e-dukaan खोल सकेंगे. कारोबारी संगठन कैट ने कहा कि .भारत ई मार्केट पूरी तरह से स्वदेशी है और यह सभी रूल्स एंड रेगुलेशंस को पूरा करेगा. पोर्टल के लिए न तो विदेशी निवेश स्वीकार किया जाएगा और न ही इस पर चीन के किसी सामान की बिक्री हो सकेगी. इसके अलावा कारोबारी लेन-देन को लेकर कोई कमीशन नहीं लिया जाएगा जबकि अन्य ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर 5-365 फीसदी का कमीशन देना होता है.
कैट के नेशनल प्रेसिडेंट बीसी भारतीय के मुताबिक पीएम मोदी के ‘Vocal for Local’ और’Aatmanirbhar Bharat’के तहत कैट ने स्वदेशी भारत ई-मार्केट पोर्टल तैयार किया है जो बी2बी और बी2सी बिजनस अपॉर्च्यूनिटीज प्रदान करेगा.

2022 तक Covid-19 से पहले की स्थिति में पहुंचेगी इकोनॉमी, मूडीज ने कहा- कोरोना के साथ जीना सीखना होगा

देसी पोर्टल पर किसी चाइनीज सामान की बिक्री नहीं

कैट पिछले कुछ समय लगातार विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों पर भारत की एफडीआई नीति के उल्लंघन का आरोप लगाती रही है. हालांकि विदेशी कंपनियों का कहना है कि उन्होंने किसी भारतीय कानून का उल्लंघन नहीं किया है. कैट के सेक्रेटरी जनरल प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि जिस तरीके से विदेशी कंपनियों भारतीय कानूनों का उल्लंघन करते हुए देश में कारोबार कर रही हैं, उससे एक देसी ई-कॉमर्स पोर्टल बनाना जरुरी हो गया था जो भारतीय कारोबारियों और ग्राहकों के प्रति पूरी तरह डेडिकेटेड रहे.
इस पोर्टल के लिए कोई विदेशी निवेश नहीं स्वीकार किया जाएगा और इसके यूजर्स का डेटा देश में ही सुरक्षित रहेगा. इसके अलावा इस पोर्टल पर चीन के किसी भी सामान की बिक्री नहीं होगी. खंडेलवाल का कहना है कि स्वदेशी पोर्टल पर महिला उद्यमियों, आर्टिसन्स व क्राफ्ट्समेन के प्रॉडक्ट्स को प्रमुखता दी जाएगी.

स्वदेशी पोर्टल पर कारोबारी लेन देन पर कमीशन नहीं

कैट ने दिसंबर 2021 तक पोर्टल से 7 लाख ट्रेडर्स और दिसंबर 2023 तक 1 करोड़ को जोड़ने का लक्ष्य रखा है. इन ट्रेडर्स को देसी पोर्टल से जोड़ने के लिए देश भर के 40 हजार से अधिक ट्रेड एसोसिएशंस महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे. खंडेलवाल के मुताबिक अन्य ई-कॉमर्स पोर्टल्स अपने पोर्टल पर कारोबारी लेन-देन में 5-35 फीसदी तक का शुल्क लेते हैं जबकि स्वदेशी पोर्टल पर ई-दुकान बनाने के लिए कोई चार्ज नहीं लिया जाएगा और कारोबार को लेकर न ही कोई कमीशन लिया जाएगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Amazon और Flipkart की छुट्टी करेगी स्वदेशी ई-दुकान, बिना कमीशन कारोबारी बेच सकेंगे अपना सामान

Go to Top