मुख्य समाचार:

चीन के धोखे पर गुस्से में व्यापारी, फिल्मी हस्तियों और क्रिकेटर्स से की खास अपील

CAIT ने चीनी सेना द्वारा भारतीय सैनिकों पर हमले की निंदा करते हुए कहा कि भारत के व्यापारी लद्दाख में LAC के ताजा घटनाक्रम से काफी आक्रोशित और गुस्से में हैं.

Updated: Jun 17, 2020 9:01 PM
Boycott China: CAIT APPEALS TO INDIAN CELEBRITIES To STOP ENDORSEMENTS OF CHINESE BRANDS, INDIAN TRADERS PLEDGE TO BOYCOTT CHINESE IMPORTS DESPITE LOSS OF BUSINESSImage: Reuters

कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) ने चीनी सेना द्वारा भारतीय सैनिकों पर हमले की निंदा करते हुए कहा कि भारत के व्यापारी लद्दाख में एलएसी (लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल) के ताजा घटनाक्रम से काफी आक्रोशित और गुस्से में हैं. इसके साथ ही कैट के चीनी उत्पादों का बहिष्कार और भारतीय वस्तुओं को बढ़ावा देने वाले राष्ट्रीय अभियान को और अधिक तेज करने का फैसला किया है.

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने भारतीय फिल्म स्टार्स और क्रिकेट स्टार्स द्वारा चीनी ब्रांड्स के बड़े पैमाने पर एंडोर्समेंट करने पर भी गंभीर चिंता जताई है. उन्होंने फिल्मी सितारों दीपिका पादुकोण, आमिर खान, विराट कोहली, रणवीर सिंह, सारा अली खान, रणबीर कपूर, विकी कौशल, जो विभिन्न चीनी मोबाइल उत्पादों की ब्रांडिंग करते हैं, से अपील की कि वे चीनी ब्रांड्स की ब्रांडिंग करना बंद करें और राष्ट्र की भावनाओं का सम्मान करें.

चीनी कंपनियों को दिए ठेके रद्द करे सरकार

इसके अलावा कैट ने सरकार से चीनी कंपनियों को दिए गए ठेकों को तुरंत रद्द करने और भारतीय स्टार्टअप्स में चीनी कंपनियों द्वारा किए गए निवेश को वापस करने के नियमों को बनाने जैसे कुछ तत्काल कदम उठाने का भी आग्रह किया है. भरतिया ने सरकार से चीन पर एक मजबूत स्थिति बनाने का आग्रह किया है और चीनी कंपनियों को दिए गए सभी सरकारी अनुबंधों को तुरंत रद्द करने का आग्रह किया है. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों से चीनी कंपनियां विभिन्न सरकारी अनुबंधों में बहुत कम दरों पर बोली लगा रही हैं और इस तरह से वे कई सरकारी परियोजना में निविदाओं को प्राप्त करने में सफल हुई हैं. बीसी भरतिया ने कहा कि सरकार को लागत में मामूली अंतर होने के बावजूद भारतीय कंपनियों को यह अनुबंध देने चाहिए.

कारोबारी ‘जंग’ में चीन को मिलेगी शिकस्त! भारतीय व्यापारी 2021 तक देंगे 1 लाख करोड़ का झटका, बनाया मेगा प्लान

टेक स्टार्टअप में चीनी प्रभुत्व तत्काल हो खत्म

भरतिया एवं खंडेलवाल ने भारतीय तकनीकी स्टार्टअप में चीनी निवेश के तेजी से विकास पर कहा कि टेक स्टार्टअप सेगमेंट में चीनी प्रभुत्व को खत्म करने की तत्काल आवश्यकता है. पेटीएम, Udaan, बिग बास्केट, मिल्क बास्केट, फ्लिपकार्ट, स्विगी जैसे कई भारतीय स्टार्टअप में चीन की कंपनियों ने पैसा लगाया है. यह पूरी तरह से भारतीय खुदरा बाजारों पर कब्जा करने के लिए चीन के एक भयावह डिजाइन के अलावा कुछ नहीं है. उन्होंने कहा कि सरकार को चीनी निवेश पर प्रतिबंध लगाने के लिए नियमों को लाना चाहिए. साथ ही इन तकनीकी दिग्गजों को चीनी निवेश वापस करने की सलाह भी देनी चाहिए.

नुकसान झेलने को भी तैयार

भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि हाल के घटनाक्रमों और भारत के प्रति चीन के लगातार रवैये के मद्देनजर, भारतीय व्यापारियों ने संकल्प लिया है कि चीनी आयात को कम करके चीन को एक बड़ा सबक सिखाएं. कैट ने कहा है कि दिसम्बर 2021 तक चीन से आयात 1 लाख करोड़ रुपये कम करने के लक्ष्य को हासिल करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे, फिर भले ही व्यापारियों को नुकसान उठाना पड़े. व्यापारियों के लिए राष्ट्र हित से पहले कुछ नहीं होगा और उन्होंने आंदोलन के साथ एकजुटता से खड़े होने का फैसला किया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. चीन के धोखे पर गुस्से में व्यापारी, फिल्मी हस्तियों और क्रिकेटर्स से की खास अपील

Go to Top