Reliance Clean Energy Portfolio: मुकेश अंबानी का रिलायंस समूह करेगा ब्रिटिश बैट्री कंपनी का अधिग्रहण, जानिए कितनी अहम है ये डील

Reliance Clean Energy Portfolio: रिलायंस समूह की सोलर इकाई ने ब्रिटिश कंपनी फैराडियन के 100 फीसदी शेयर खरीदने के सौदे पर दस्तखत कर दिए हैं.

Billionaire Mukesh Ambani company Reliance buys British battery firm Faradion
मुकेश अंबानी ने इस सौदे को लेकर कहा कि इससे भारत की एनर्जी स्टोरेज क्षमता और मजबूत और सुरक्षित होगी.

Reliance Clean Energy Portfolio: दिग्गज कारोबारी मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के स्वामित्व वाले रिलायंस समूह के क्लीन एनर्जी पोर्टफोलियो में इजाफा हुआ है. रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries Limited) की सहायक कंपनी रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड ने ब्रिटेन की बैट्री बनाने वाली कंपनी फैराडियन (Faradion) के अधिग्रहण का ऐलान किया है. इस सौदे के तहत रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर ब्रिटिश कंपनी के 100 फीसदी शेयर 10 करोड़ पौंड (10 हजार करोड़ रुपये) में खरीदेगी. मुकेश अंबानी ने कहा है कि इस सौदे से भारत की एनर्जी स्टोरेज क्षमता और मजबूत होगी.

Year End 2021: सेंसेक्स और निफ्टी से भी तेज चढ़े ये शेयर, निवेशकों की 2400 फीसदी तक बढ़ गई पूंजी, लिस्ट से चेक करें अपना पोर्टफोलियो

सौदे के तहत 250 करोड़ रुपये का अतिरिक्त निवेश

सौदे के तहत बाजार पूंजीकरण (Market Capitalisation) के आधार पर देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) की सोलर इकाई ने ब्रिटिश कंपनी के 100 फीसदी शेयर खरीदने के लिए डेफिनिटव एग्रीमेंट पर दस्तखत किए हैं. इस सौदे के तहत रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर 10 हजार करोड़ डॉलर में फैराडियन को पूरी तरह खरीद लेगी. इसके बाद रिलायंस समूह उसमें 2.5 करोड़ ब्रिटिश पौंड (250 करोड़ रुपये) का अतिरिक्त निवेश भी करेगा. कंपनी द्वारा जारी बयान के मुताबिक यह निवेश कॉमर्शियल रोल-आउट को बढ़ाने के लिए ग्रोथ कैपिटल के रूप में किया जाएगा.

IDFC First Bank में होगा आईडीएफसी का विलय, बोर्ड ने प्रस्ताव को दी मंजूरी

इस सौदे से रिलायंस को क्या हैं फायदे?

ब्रिटिश कंपनी फैराडियन के पास सोडियम आयन बैटरी तकनीक का पेटेंट है और यह बैटरी तकनीक के लिहाज से दुनिया की दिग्गज कंपनियों में शामिल है. रिलायंस द्वारा जारी बयान के मुताबिक फैराडियन की सोडियम-आयन तकनीक अन्य बैटरी तकनीक से बेहतर है, खासतौर से लीथियम ऑयन और लेड-एसिड तकनीक के मुकाबले. इस तकनीक का सबसे बड़ा फायदा ये है कि इसमें कोबाल्ट, लीथियम, कॉपर और ग्रेफाइट पर निर्भर नहीं होना पड़ता है. इसमें इस्तेमाल होने वाला सोडियम धरती पर मौजूद मिनरल्स में छठा सबसे अधिक उपलब्धता वाला तत्व है. भारत में तेजी से इलेक्ट्रिक गाड़ियों का चलन बढ़ रहा है और मोबाइल का भी यहां बहुत बड़ा बाजार है. ऐसे में फैराडियन की पेटेंट की गई तकनीक के दम पर रिलायंस का इस बाजार में दबदबा बढ़ सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News