सर्वाधिक पढ़ी गईं

CAMS IPO: खुल रहा है इस साल का सबसे बड़ा आईपीओ, क्या आपको करना चाहिए निवेश

CAMS IPO News: आज 21 सितंबर यानी सोमवार को इस साल का सबसे बड़ा कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज (कैम्स) का आईपीओ खुल रहा है.

Updated: Sep 21, 2020 11:26 AM
CAMS, CAMS IPO, should you subscribe CAMS IPO, CAMS IPO price band, IPO market in FY21, IPO in September, primary market, कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज, कैम्स, stock marketCAMS IPO: आज 21 सितंबर यानी सोमवार को इस साल का सबसे बड़ा कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज (कैम्स) का आईपीओ खुल रहा है.

CAMS IPO: आज 21 सितंबर यानी सोमवार को इस साल का सबसे बड़ा कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज (कैम्स) का आईपीओ खुल रहा है. कैम्स इस इश्यू से 2,242 करोड़ रुपये जुटाने जा रही है. सेबी के आदेशानुसार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) इस इश्यू के जरिए कैम्स में अपनी पूरी 37.4 फीसदी हिस्सेदारी बेचने वाला है. कैम्स म्यूचुअल फंडों से जुड़ी रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट सेवाएं देती है. इस इश्यू में 23 सितंबर तक निवेश किया जा सकता है.

एंकर निवेशकों से जुटाए 666.57 करोड़

कंप्यूटर एज मैनेजमेंट सर्विसेज (कैम्स) ने 35 एंकर निवेशकों से 666.57 करोड़ रुपये जुटाए हैं.
एंकर निवेशकों को 1,230 रुपये प्रति शेयर के भाव पर शेयर बांटे गए हैं. स्मॉलकैप वर्ल्ड फंड ने एंकर निवेशकों की हिस्सेदारी के 9 फीसदी शेयर खरीदे हैं. एंकर निवेशकों सूची में सिंगापुर सरकार, अबू धाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी का नाम शामिल हैं. इन सभी को 4.5 फीसदी हिस्सेदारी दी गई है. साथ ही कुल 13 घरेलू म्यूचुअल फंडों की 30 स्कीमों ने एंकर निवेशकों की 36.46 फीसदी हिस्सेदारी अपने नाम की है.

प्राइस बैंड

कंपनी के शेयरों के लिए 1229-1230 रुपये का भाव रखा गया है. निवेशकों को कम से कम एक लॉट यानी 12 शेयरों की बोली लगनी है. रिटेल निवेशक 13 लॉट से अधिक शेयरों के लिए बोली नहीं लगा सकते. एसेट लाइट बिजनेस मॉडल और बाजार में मजबूत पकड़ अपने क्षेत्र में लीडिंग पोजिशन पर है.

सेबी के आदेशानुसार, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) इस इश्यू के जरिए कैम्स में अपनी पूरी 37.4 फीसदी हिस्सेदारी या 1,82,46,600 शेयर बेचने वाली है. इस इश्यू का प्रबंधन कोटक महिंद्रा कैपिटल, एचडीएफसी बैंक, आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज और नोमुरा फाइनेंशियल एडवाइजरी करने वाली हैं.

क्या है कैम्स का बिजनेस

कैम्स भारत में एसेट मैनेजमेंट कंपनियों (एएमसी) के लिए रजिस्ट्रार और ट्रांसफर एजेंट सेवाएं देती है. कैम्स के पास बाजार की 70 फीसदी हिस्सेदारी है. इसकी सेवाओं का फायदा टॉप 15 में से 9 म्यूचुअल फंड उठा रहे हैं. वित्त वर्ष 2017-18 से वित्त वर्ष 2019-20 के दौरान कंपनी का रेवेन्यू 6.6 फीसदी की वार्षिक दर से बढ़कर 699.6 करोड़ रुपये और नेट प्रॉफिट 8.8 फीसदी बढ़कर 173.4 करोड़ रुपये रहा है.

सैमको सिक्योरिटीज के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट निराली शाह का कहना है कि कंपनी का बिजनेस मॉडल मजबूत हैं. कंपनी का म्यूचुअल फंड RTA इंडस्ट्री में मार्केट शेयर 70 फीसदी है. कंपनी की बैलेंसशीट क्लीन है. आपरेटिंग मार्जिन भी मजबूत है. म्यूचुअल फंड्स के लिए एयूएम में बढ़ोतरी के साथ ग्रोथ जुड़े होने के कारण, कंपनी लगातार आगे आने वाले रिटर्न जेनरेट करने की ओर अग्रसर है. निवेशकों को सिर्फ ग्रोथ की धीमी गति को देखते हुए सतर्क करने की सलाह है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. CAMS IPO: खुल रहा है इस साल का सबसे बड़ा आईपीओ, क्या आपको करना चाहिए निवेश
Tags:IPO

Go to Top