सर्वाधिक पढ़ी गईं

Covaxin: भारत बॉयोटेक ने WHO में जमा कराए 90% दस्तावेज, EUL के लिए स्वास्थ्य एजेंसी ने मांगी थी और जानकारी

Covaxin Emergeny Use List: भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने सरकार को जानकारी दी है कि उसने कोवैक्सीन से जुड़े 90 फीसदी दस्तावेज WHO में जमा करा दिए हैं.

May 25, 2021 9:50 AM
Covaxin Emergeny Use ListCovaxin Emergeny Use List: भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने सरकार को जानकारी दी है कि उसने कोवैक्सीन से जुड़े 90 फीसदी दस्तावेज WHO में जमा करा दिए हैं.

Covaxin Emergeny Use List: भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने सरकार को जानकारी दी है कि उसने कोवैक्सीन से जुड़े 90 फीसदी दस्तावेज WHO में जमा करा दिए हैं. ऐसा इसलिए कि वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए लिस्ट (ईयूएल) कराया जा सके. कंपनी ने कहा है कि बचे हुए 10 फीसदी दस्तावेज भी जून में जमा करा दिए जाएंगे. बता दें कि WHO ने इस वैक्सीन को सूची में शामिल करने के लिए भारत बायोटेक से और अधिक जानकारी की मांग की है. हैदराबाद की कंपनी ने 19 अप्रैल को संगठन के सामने ‘एक्सप्रेशन और इंट्रेस्ट’ दाखिल किया था. फिलहाल इस सूची में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड, मॉडर्ना, फाइजर, एस्ट्राजेनेका (2), जेनसेन (अमेरिका और नीदरलैंड्स) और सिनोफार्म/बीबीआईपी का नाम शामिल है.

कोवैक्सीन लेने वालों को विदेश जाने में परेशानी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, WHO के EUL में शामिल नहीं होने के कारण कोवैक्सीन टीका लगवाने वालों को विदेश जाने में परेशानी हो रही है. कई देशों ने अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए पॉलिसी जारी की हैं. इनके तहत कई देश उन्हीं वैक्सीन को अनुमति दे रहे हैं, जिन्हें उनके नियामकों की तरफ से मंजूरी मिल चुकी हो या वे WHO की सूची में शामिल हों.

और जानकारी की जरूरत: WHO

डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि भारत बायोटेक को अपने कोवैक्सीन टीके को आपात इस्तेमाल के लिये सूचीबद्ध कराने को लेकर और अधिक जानकारी देनी होगी. न्यूज एजेंसी के अनुसार अगर मूल्यांकन के लिए पेश हुआ प्रोडक्ट सूची में शामिल किए जाने के के मानदंडों को पूरा करता है, तो डब्ल्यूएचओ बड़े स्तर पर इसके परिणाम प्रकाशित करेगा करेगा. EUL प्रक्रिया की अवधि वैक्सीन निर्माता की तरफ से प्रस्तुत किए गए आंकड़ों की गुणवत्ता और डब्ल्यूएचओ के मानदंडों को पूरा करने वाले आंकड़ों पर निर्भर करती है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इसके बाद कंपनी को एक डोजियर दाखिल करना होगा. इस डोजियर के स्वीकार किए जाने के बाद कोवैक्सीन को अपनी सूची में शामिल करने से पहले डब्ल्युएचओ की तरफ से आंकलन किया जाएगा. इसके बाद वैक्सीन के EUL में शामिल किए जाने की प्रक्रिया शुरू हो सकती है. अब इस दौरान हर स्तर पर हफ्तों का समय लग सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Covaxin: भारत बॉयोटेक ने WHO में जमा कराए 90% दस्तावेज, EUL के लिए स्वास्थ्य एजेंसी ने मांगी थी और जानकारी

Go to Top