मुख्य समाचार:
  1. आ रहा है 3500 करोड़ का भारत-22 ETF, आपके पास भी है निवेश का मौका

आ रहा है 3500 करोड़ का भारत-22 ETF, आपके पास भी है निवेश का मौका

ETF: केंद्र सरकार 14 फरवरी को भारत-22 एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) की अतिरिक्त बिक्री पेशकश करेगी.

February 12, 2019 1:47 PM
Bharat 22 ETF, Additional Sale, Government Raise Fund, Bharat-22 Exchange Traded Fund, Single Day Sale, Institutional, Retail Investors, Participate, भारत-22 एक्सचेंज ट्रेडेड फंड, भारत-22 ETFBharat 22 ETF

केंद्र सरकार 14 फरवरी को भारत-22 एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) की अतिरिक्त बिक्री पेशकश करेगी. सरकार का इसके जरिए 3500 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य है. अधिकारियों ने मंगलवार को यह जानकारी दी है. उन्होंने कहा कि यह बिक्री पेशकश सिर्फ 1 दिन के लिए खुलेगी और उसी दिन इंस्टीट्यूशनल और रिटेल इन्वेस्टर्स इसमें भाग ले सकते हैं.

निर्गम का आकार 3500 करोड़

एक अधिकारी ने जानकारी दी कि निर्गम का आकार 3500 करोड़ रुपये तय किया गया है. साथ ही अतिरिक्त अभिदान का विकल्प भी रखा गया है. सरकार ने भारत-22 ETF से अब तक 22,900 करोड़ रुपये जुटाए हैं. इसमें 14,500 करोड़ रुपये नवंबर 2017 में और 8,400 करोड़ रुपये जून 2018 में जुटाए गए. माना जा रहा है कि अतिरिक्त बिक्री पेशकश के जरिए करंट फिस्कल के लिए सरकार का 80 हजार करोड़ का विनिवेश लक्ष्य पूरा करने में मदद मिलेगी.

भारत-22 ETF में ओएनजीसी, इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम, कोल इंडिया और नाल्को जैसे केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम भी शामिल हैं. भारत इलेक्ट्रॉनिक्स, इंजीनियर्स इंडिया, NBCC, NTPC, NHPC, SJVNL, GAIL, PGCIL और NLC इंडिया भी इसमें शामिल हैं. इसमें 3 सरकारी बैंकों में SBI, इंडियन बैंक और बैंक आफ बड़ौदा हैं.

दूसरी ETF आफरिंग

यह मौजूदा फिस्कल में दूसरी ETF आफरिंग होगी. पिछले साल नवंबर में सरकार ने CPSE ETF के जरिए 17300 करोड़ रुपये जुटाए थे. इसमें 11 पब्लिक सेक्टर इंटरप्राइजेज शामिल थे. यह डोमेस्टिक ETF से जुटाया गया सबसे बड़ा फंड था.

निवेश का सुरक्षित विकल्प

असल में एक्सपर्ट ETF को निवेश का सुरक्षित विकल्प बताते हैं, क्योंकि यह निवेशकों को शेयर बाजार की अस्थिरता से बचाता है. भारत ईटीएफ-22 में PSU कंपनियां भी होती हैं, जिनमें ओएनजीसी, आईओसी, SBI, बीपीसीएल, कोल इंडिया और नाल्को जैसी कंपनियां शामिल हैं. इसके अलावा Axis बैंक, ITC और L&T जैसी बड़ी निजी कंपनियां हैं.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop