सर्वाधिक पढ़ी गईं

डेट फंड 2020: अक्टूबर में निवेश के लिए चुनें ये स्कीम, इमरजेंसी में नहीं होगी पैसों की कमी

Debt Mutual Funds: पैसों की जरूरत अचानक कभी भी पड़ सकती है. इसके लिए इमरजेंसी फंड पर विचार करना चाहिए.

October 3, 2020 9:22 AM
festival advance for central government employees, 10000, rupay card, scheme details, utsav card, order, details, circular,The amount would be released through pre-loaded Rupay Card from SBI to be called the UTSAV card.

Emergency Fund: पिछले दिनों लॉकडाउन जैसी स्थिति में बहुत से लोगों को रुपये पैसे से जुड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है. काम धंधा बंद होने से लोगों की आमदनी बंद या घट गई, जिससे बहुत से लोगों को सेविंग्स तोड़कर या उधार लेकर खर्च करना पड़ा. हालांकि लॉकडाउन का असर कम हुआ है, लेकिन ऐसी किसी भी स्थिति के लिए खुद को तैयार रखना चाहिए. पैसों की जरूरत अचानक कभी भी पड़ सकती है. इसके लिए बेहतर फाइनेंशियल प्लानिंग के जरिए इमरजेंसी फंड पर विचार करना चाहिए. सवाल उठता है कि मौजूदा स्थिति में ऐसा फंड बनाने के लिए पैसे कहां लगाएं.

क्यों जरूरी है इमरजेंसी फंड

फाइनेंशियल प्लानिंग की बात करें तो बहुत से लोगों का भरोसा एफडी, आरडी या पीपीएफ जैसी सुरक्षित छोटी बचत योजनाओं पर होता है. लेकिन कभी भी अचानक पैसों की जरूरत पड़ी तो इन स्कीम को तोड़ने पर नुकसान होता है. वहीं जो रिटेल निवेशक शेयर बाजार या म्यूचुअल फंड में लंबी अवधि का लक्ष्य रखकर पैसा लगाते हैं, वह बिना लक्ष्य पूरा हुए कभी भी उसे बेचने की हालत में नहीं होते. ऐसे में इमरजेंसी फंड बेहद काम आता है, जिससे जब जरूरत तब पैसे निकाला जा सकता है.

एक और विकल्प है, बैंक के सेविंग अकाउंट. लेकिन यहां रिटर्न इतना कम है कि एक तरह से बढ़ रही महंगाई के दौर में यहां आपका पैसा एक तरह से उूब रहा होता है. ऐसे में एक्सपर्ट इमरजेंसी फंड रखने के लिए डेट फंड मसलन लिक्विड फंड, अल्ट्रा शॉर्ट टर्म या शॉर्ट ड्यूरेशन फंड के अलावा ओवरनाइट फंड में निवेश की सलाह देते हैं, जहां सेविंग अकाउंट की तुलना में दोगुना या इससे भी ज्यादा रिटर्न मिल सकता है.

इमरजेंसी फंड: निवेश के बेस्ट विकल्प

शॉर्ट ड्यूरेशन फंड

इसमें आमतौर पर 6 महीने के लिए पैसा लगाया जाता है. पिछले एक साल की बात करें तो डेट शॉर्ट टर्म कटेगिरी में करीब 2.5 फीसदी रिटर्न मिला है. इसमें भी पिछले 3 महीने का रिटर्न पॉजिटिव रहा है. इस कटेगिरी ने 1 साल में औसतन 8.63 फीसदी रिटर्न दिया है.

बेस्ट फंड और 1 साल का रिटर्न

ICICI प्रू शॉर्ट टर्म फंड: 11.24 फीसदी
HDFC शॉर्ट टर्म फंड: 11.13 फीसदी
Axis शॉर्ट टर्म फंड: 10.93 फीसदी
UTI शॉर्ट टर्म इनकम फंड: 10.93 फीसदी

लिक्विड फंड

ये ओपन एंडेड फंड होते हैं, जो डेट और मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट में 30 दिन से 91 दिन के लिए निवेश करते हैं. आमतौर पर इनकी मेच्योरिटी 91 दिनों की होती है. इस कटेगिरी ने 1 साल में औसतन 4.49 फीसदी रिटर्न दिया है.

बेस्ट फंड और 1 साल का रिटर्न

क्वांट लिक्विड फंड: 5.79 फीसदी
IDBI लिक्विड फंड: 5.15 फीसदी
LIC MF लिक्विड फंड: 5.00 फीसदी
टाटा लिक्विड फंड: 5.00 फीसदी

अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड

यह भी डेट फंड की ही कटेगिरी है. ये फंड डेट और मनी मार्केट इंस्ट्रूमेंट में 3 महीने के लिए निवेश करते हैं. इस कटेगिरी ने 1 साल में औसतन 5.73 फीसदी रिटर्न दिया है.

बेस्ट फंड और 1 साल का रिटर्न

ICICI प्रू अल्ट्रा शार्ट फंड: 7.93 फीसदी
ABSL सेविंग्स फंड: 7.61 फीसदी
HDFC अल्ट्रा शॉर्ट टर्म फंड: 7.11 फीसदी
कोटक सेविंग्स फंड: 6.93 फीसदी

ओवरनाइट फंड

ओवरनाइट फंड एक डेट फंड है जो 1 दिन में मेच्योर होने वाले बॉन्ड में निवेश करता है. हर कारोबारी दिन की शुरुआत में बॉन्ड खरीदे जाते हैं जो अगले कारोबारी दिन मेच्योर हो जाते हैं. यह सुरक्षित इसलिए है क्योंकि यहां मेच्योरिटी 1 दिन की होती है. हालांकि 1 दिन मेच्योरिटी होने से इनमें रिटर्न कुछ कम है. इस कटेगिरी ने 1 साल में औसतन 3.79 फीसदी रिटर्न दिया है.

बेस्ट फंड और 1 साल का रिटर्न

PGIM इंडिया ओवरनाइट फंड: 4.06 फीसदी
DSP ओवरनाइट फंड: 4.04 फीसदी
केनरा रोबेको ओवरनाइट फंड: 3.95 फीसदी
बरोदा ओवरनाइट फंड: 3.94 फीसदी

(source: value research, paisabazaar.com)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. डेट फंड 2020: अक्टूबर में निवेश के लिए चुनें ये स्कीम, इमरजेंसी में नहीं होगी पैसों की कमी

Go to Top