मुख्य समाचार:

कॉरपोरेट बांड फंड: कम रिस्क और ज्यादा फायदा, चेक करें 5 साल में कितना हुआ 1 लाख का निवेश

सेबी के नियम के अनुसार कॉरपोरेट बांड फंड के लिए जरूरी है कि वे कॉर्पस का 80 फीसदी निवेश ज्यादा रेटिंग वाले बांड में करें.

February 21, 2020 2:36 PM
best corporate bond mutual fund to invest, best debt mutual fund for investment, corporate bond return, check mutual funds performance and return top debt mutual fund investment idea, top mutual fund idea, सेबी के नियम, कॉरपोरेट बांड फंड, corporate FDसेबी के नियम के अनुसार कॉरपोरेट बांड फंड के लिए जरूरी है कि वे कॉर्पस का 80 फीसदी निवेश ज्यादा रेटिंग वाले बांड में करें.

Debt Mutual Fund, Corporate Bond: सेबी के नियम के अनुसार कॉरपोरेट बांड फंड (Corporate Bond Fund) के लिए यह जरूरी है कि वे अपने कॉर्पस का कम से कम 80 फीसदी निवेश ज्यादा रेटिंग वाले बांड में करें. फंड हाउसेज अपनी रकम का ज्यादातर हिस्सा उन कॉरपोरेट बॉन्ड में निवेश करते हैं, जिनकी रेटिंग AAA या इससे भी अच्छी होती है. इसलिए इनमें निवेशकों के लिए जोखिम कम हो जाता है. म्यूचुअल फंड एक्सपर्ट भी डेट म्यूचुअल फंड के निवेशकों को कॉरपोरेट बॉन्ड फंड में अपने पोर्टफोलियो का 10 से 15 फीसदी हिस्सा निवेश करने की सलाह दे रहे हैं.

5 साल में 9.24% तक रिटर्न

पिछले 5 साल का रिटर्न देखें तो कॉरपोरेट बॉन्ड फंड ने निवेशकों को निराश नहीं किया है. कई ऐसे फंड हैं, जिनका रिटर्न 8.50 से 9 फीसदी सालाना के बीच रहा है. अच्छी बात यह है कि इन स्कीम में जहां रिस्क कम है, वहीं लंबी अवधि में बेहतर रिटर्न मिल रहा है. BPN फिनकैप कंसल्टेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के CEO और डायरेक्टर एके निगम का कहना है कि ब्याज दरें निचले स्तरों पर बनी हुई हैं. आगे भी इसमें बढ़ोत्तरी की उम्मीद नहीं है. वहीं, पिछले दिनों जिस तरह से बांड यील्ड में गिरावट आई है, आगे स्माल सेविंग्स स्कीम पर ब्याज दरें और कम हो सकती हैं. ऐसे में डेट मार्केट को फायदा मिल सकता है. कॉरपोरेट बांड का फायदा यह है कि इससे डेट मार्केट में अनिश्चितता से निपटने में मदद मिलती है.

कॉरपोरेट बॉन्ड फंड उनके लिए बेहतर है, जो 3 से 5 साल के लिए निवेश का नजरिया रखते हों. वहीं, बाजार में ज्यादा जोखिम नहीं लेना चाहते हैं. हालांकि यह ध्यान रखने वाली बात है कि ज्यादा रेटिंग वाली कंपनियों की रेटिंग भी फ्यूचर में कम हो सकती है. ऐसी कंपनियां भी पेमेंट में डिफाल्ट कर सकती हैं.

5 साल: टॉप फंडों में निवेश की वैल्यू

फ्रैंकलिन इंडिया कॉरपोरेट डेट फंड

5 साल में रिटर्न: 9.24 फीसदी
5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू: 1.56 लाख
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 7.63 लाख
रिस्क: एवरेज

लांच डेट: 1 जनवरी 2013
लांच के बाद रिटर्न: 9.85 फीसदी

मिनिमम इन्वेस्टमेंट: 10,000 रुपये
मिनिमम SIP: 500 रुपये

एसेट्स: 1,436 करोड़ (31 जनवरी, 2020)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.32% (31 जनवरी, 2020)

HDFC कॉरपोरेट बांड फंड

5 साल में रिटर्न: 8.75 फीसदी
5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू: 1.52 लाख
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 7.47 लाख
रिस्क: एवरेज

लांच डेट: 1 जनवरी 2013
लांच के बाद रिटर्न: 8.92 फीसदी

मिनिमम इन्वेस्टमेंट: 5,000 रुपये
मिनिमम SIP: 500 रुपये

एसेट्स: 12,501 करोड़ (31 जनवरी, 2020)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.30% (31 जनवरी, 2020)

सुंदरम कॉरपोरेट बांड फंड

5 साल में रिटर्न: 8.72 फीसदी
5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू: 1.52 लाख
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 7.50 लाख
रिस्क: एवरेज

लांच डेट: 1 जनवरी 2013
लांच के बाद रिटर्न: 8.36 फीसदी

मिनिमम इन्वेस्टमेंट: 5,000 रुपये
मिनिमम SIP: 250 रुपये

एसेट्स: 997 करोड़ (31 जनवरी, 2020)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.28% (31 जनवरी, 2020)

ICICI प्रू कॉरपोरेट बांड फंड

5 साल में रिटर्न: 8.66 फीसदी
5 साल में 1 लाख के निवेश की वैल्यू: 1.52 लाख
5 साल में 10 हजार मंथली SIP की वैल्यू: 7.44 लाख
रिस्क: एवरेज

लांच डेट: 1 जनवरी 2013
लांच के बाद रिटर्न: 8.99 फीसदी

मिनिमम इन्वेस्टमेंट: 5000 रुपये
मिनिमम SIP: 1000 रुपये

एसेट्स: 12,074 करोड़ (31 जनवरी, 2020)
एक्सपेंस रेश्यो: 0.25% (31 जनवरी, 2020)

सोर्स: वैल्यू रिसर्च

(नोट: हम यहां एक्सपर्ट से बातचीत और फंड के प्रदर्शन के आधार पर जानकारी दे रहे हैं. यह निवेश की सलाह नहीं है. बाजार में जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश के पहले एडवाइजर से सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. कॉरपोरेट बांड फंड: कम रिस्क और ज्यादा फायदा, चेक करें 5 साल में कितना हुआ 1 लाख का निवेश

Go to Top