सर्वाधिक पढ़ी गईं

Bank Q2 Preview: इन बैंक शेयरों पर रखें नजर, नतीजों के बाद दे सकते हैं जोरदार रिटर्न

Banking Sector Q2 Preview: वित्त वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही के लिए अर्निग सीजन शुरू हो चुका है. बाजार के निगाहें प्रमुख रूप से बैंकिंग सेक्टर पर लगी होंगी.

October 13, 2020 7:47 AM
banking stocksBanking Sector Q2 Preview: वित्त वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही के लिए अर्निग सीजन शुरू हो चुका है.

Banking Sector Q2 Preview: वित्त वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही के लिए अर्निग सीजन शुरू हो चुका है. बाजार के निगाहें प्रमुख रूप से बैंकिंग सेक्टर पर लगी होंगी. बैंकिंग सेक्टर पर कोविड 19 के चलते पहली तिमाही में अचछा खास दबाव देखने को मिला था. इस सेक्टर में रिकवरी को लेकर बाजार और निवेशकों दोनों की नजरें टिकी हैं. फिलहाल एक्सपर्ट का मानना दूसरी तिमाही में एसेट क्वालिटी और कमाई पर दबाव देखने को मिलेगा. अभी बैंकिंग सेक्टर का फोकस पोस्ट मोरेटोरियम कलेक्शन और रीसट्रक्चरिंग को लेकर डायरेक्शन पर रहने वाला है. हालांकि एनपीए को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश से एनपीए को लेकर कुछ चिंता कम हुई है. लेकिन प्रोविजनिंग अभी भी हाई बनी रहेगी.

ब्रोकरेज हाउस प्रभुदास लीलाधर का अनुमान है कि दूसरी तिमाही में नेट इंटरेस्ट इनकम में 15 फीसदी की सालाना ग्रोथ आ सकती है. इसमें प्राइवेट बैंक की NII ग्रोथ 17 फीसदी और सरकारी बैंकों की 14 फीसदी रहने का अनुमान है. PPOP ग्रोथ सालाना आधार पर 12 फीसदी (13% प्राइवेट बैंक, 11% सरकारी बैंक) रह सकती है. PAT ग्रोथ में भी सालाना आधार पर रिकवरी देखने को मिल सकती है. ब्रोकरेज ने अपनी टॉप पिक्स में HDFC बैंक, ICICI बैंक और कोटक बैंक को रखा है. मजबूत कैपिटल बेस और डिपॉजिट में तेजी का फायदा इन्हें सबसे ज्यादा मिलने की उम्मीद है.

लोन ग्रोथ से ज्यादा उम्मीद नहीं

दूसरी तिमाही में लोन ग्रोथ से ज्यादा उम्मीद नहीं है. इस दौरान यह सालाना आधार पर 6-7% से 5-6% पर आ सकता है. वहीं, एसेट क्वालिटी को लेकर तस्वीर साफ नहीं है. मोरेटोरियम के बाद रिकवरी और लोन रीस्ट्रक्चरिंग पर यह सब निर्भर करेगा.

कोर परफॉर्मेंस म्यूट रहने का अनुमान

दूसरी तिमाही में कोर परफॉर्मेंस म्यूट रहने का अनुमान है. लोअर ट्रीजरी गेन के चलते PPOP में
सालाना आधार पर 12% ग्रोथ दिख सकती है. वहीं तिमाही आधार पर यह 3% घट सकता है. फी इनकम एक्टिविटी भी कम रहने की वजह से कोर परफॉर्मेंस कमजोर दिख रहा है.

कैपिटल लेवल पर बेहतर स्थिति

कैपिटल लेवल पर सिथति बेहतर दिख रही है. बैंकों ने वित्त वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही में 25000 करोड़ और पहली छमाही में 52000 करोड़ जुटाए हैं. लोअर कैपिटल कंजम्पशन की वजह से भी बैंकों का कैपिटल लेवल बेहतर दिख रहा है.

बैंक शेयरों में कैसे बनाएं स्ट्रैटेजी

Axis बैंक

रेटिंग: HOLD
लक्ष्य: 480 रुपये
करंट प्राइस: 468 रुपये

HDFC Bank

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 1265 रुपये
करंट प्राइस: 1234 रुपये

ICICI बैंक

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 462 रुपये
करंट प्राइस: 402 रुपये

इंडसइंड बैंक

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 680 रुपये
करंट प्राइस: 623 रुपये

कोटक बैंक

रेटिंग: ACCU
लक्ष्य: 1389 रुपये
करंट प्राइस: 1320रुपये

फेडरल बैंक

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 67 रुपये
करंट प्राइस: 53 रुपये

साउथ इंडियन बैंक

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 11 रुपये
करंट प्राइस: 7 रुपये

IDFC बैंक

रेटिंग: SELL
लक्ष्य: 21 रुपये
करंट प्राइस: 32 रुपये

बैंक आफ बड़ौदा

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 65 रुपये
करंट प्राइस: 44 रुपये

PNB

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 40 रुपये
करंट प्राइस: 29 रुपये

SBI

रेटिंग: BUY
लक्ष्य: 276 रुपये
करंट प्राइस: 198 रुपये

(सलाह: प्रभुदास लीलाधर)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Bank Q2 Preview: इन बैंक शेयरों पर रखें नजर, नतीजों के बाद दे सकते हैं जोरदार रिटर्न

Go to Top