scorecardresearch

BFSI Q1FY23: जून तिमाही में 40% तक बढ़ सकता है बैंकों का मुनाफा, निवेश के लिए चुनें बेस्ट स्टॉक

बैंकिंग सेक्टर में क्रेडिट डिमांड मजबूत है और क्रेडिट कास्ट पर कंट्रोल हुआ है. एसेट क्वालिटी बेहतर हो रही है. बैंक के डिपॉजिट और एडवांस में ग्रोथ नजर आ रही है.

BFSI Q1FY23: जून तिमाही में 40% तक बढ़ सकता है बैंकों का मुनाफा, निवेश के लिए चुनें बेस्ट स्टॉक
FY23 की जून तिमाही बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर के लिए बेहतर साबित हो सकती है. (image: pixabay)

Banking & Financial Stocks: वित्त वर्ष 2023 की जून तिमाही बैंकिंग और फाइनेंशियल सेक्टर के लिए बेहतर साबित हो सकती है. हाल ही में बैंकों ने जून तिमाही के लिए जो डाटा जारी किए हैं, वे मजबूत नजर आ रहे हैं. ब्रोकरेज हाउस और एक्सपर्ट का भी कहना है कि कोविड 19 से उबरकर अब बैंकिंग एंड फाइनेंशिसल सेक्टर का बिजनेस पटरी पर आ रहा है. क्रेडिट डिमांड मजबूत है और क्रेडिट कास्ट पर कंट्रोल हुआ है. एसेट क्वालिटी बेहतर हो रही है. बैंक के डिपॉजिट और एडवांस में ग्रोथ नजर आ रही है. जून तिमाही में प्राइवेट बैंकों के नतीजे ज्यादा दमदार रहने की उम्मीद है. बैंकों का मुनाफा सालाना आधार पर 40 फीसदी तक बढ़ सगता है. आने वाले दिनों में SBI, Axis bank, ICICI Bank, HDFC Bank, IndusInd Bank जैसे शेयरों में बेहतर रिटर्न मिल सकता है.

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल बैंकिंग एंड फाइनेंशियल सेक्टर में 17 जून 2022 तक क्रेडिट ग्रोथ में सालाना आधार पर 12.1 फीसदी उछाल देखने को मिला था. रिटेल और SME दोनों सेग्मेंट में मजबूती देखने को मिल रही है. कॉरपोरेट सेग्मेंट में भी रिवाइवल है. FY23/FY24 में लोन ग्रोथ 12%/13.5% YoY रहने का अनुमान है. स्लीपेजेज कंट्रोल रहने का अनुमान है. एसेट क्वरालिटी में भी सुधार की उम्मीद है. बैंको की बैलेंसशीट जून तिमाही में मजबूत रहने वाली है.

TCS Q1FY23 Preview: डबल डिजिट में बढ़ सकता है टीसीएस का मुनाफा, सैलरी हाइक से मार्जिन पर रहेगा दबाव

ब्रोकरेज हाउस का कहना है कि बैंकिंग सेक्टर का PAT 1QFY23 में सालाना आधार पर 26 फीसदी बढ़ सकता है. वहीं निजी बैंक सालाना आधार पर PAT में 40 फीसदी तक ग्रोथ दिखा सकते हैं. हालांकि पीएसयू बैंकों का PAT ग्रोथ 6 फीसदी रहने का अनुमान है. PPOP में मामूली गिरावट देखने को मिल सकती है.

प्राइवेट बैंकों का NII ग्रोथ ओवरआल सालाना आधार पर 18 फीसदी रहने का अनुमान है. जबकि सरकारी बैंकों का NII ग्रोथ 13.5 फीसदी रहने का अनुमान है. ओवरआल प्राइवेट और पीएसयू बैंकों की अर्निंग ग्रोथ सालाना आधार पर 29 फीसदी और 26 फीसदी रह सकती है.

(Source: Motilal Oswal)

ब्रोकरेज हाउस ICICI सिक्योरिटीज

ब्रोकरेज हाउस आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज के अनुसार बैंकों का फोकस ग्रोथ पर है और Q1FY23E में बैंकों की एसेट क्वालिटी और बेहतर रहने की उम्मीद है. स्लीपेजेज और क्रेडिट कास्ट पर कंट्रोल देखने को मिल रहा है. रेपो रेट में बढ़ोतरी के बाद बैंकों द्वारा रिटेल डिपॉजिट रेट में बढ़ोतरी करनी पड़ी है, लेंडिग रेट भी बढ़े हैं. ब्रोकरेज का कहना है कि गवर्नमेंट सिक्योरिटीज कॉरपोरेट बॉन्ड यील्ड में उछाल और इसके परिणामस्वरूप ट्रेजरी गेंस पर दबाव से सेक्टर की आय में कमी आने का अनुमान है.

कास्ट स्ट्रक्चर ऊंचा रहने का अनुमान है, वहीं एडवांस ग्रोथ तिमाही आधार पर 2-4 फीसदी QoQ पर सस्टेन रह सकता है. Q1FY23 के लिए ब्रोकरेज का अनुतान है कि बैंकों के लिए नेट इंटरेसट मार्जिन यानी NII में सालाना आधार पर 17 फीसदी ग्रोथ देखने को मिल सकती है. आपरेटिंग प्रॉफिट ग्रोथ फ्लैट रहने का अनुमान है. वहीं क्रेडिट कास्ट में कमी आने और लोअर बेस के चलते अर्निंग ग्रोथ को सपोर्ट मिलेगा.

(Source: ICICI Securities)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 08-07-2022 at 11:48:22 am

TRENDING NOW

Business News