सर्वाधिक पढ़ी गईं

Adani Group ने कहा, हमारे विदेशी निवेशकों के एकाउंट फ्रीज नहीं, लेकिन NSDL की वेबसाइट तीनों FPI खातों को बता रही है फ्रीज

अडाणी ग्रुप की कंपनियों का कहना है कि उनके निवेशकों के एकाउंट फ्रीज़ होने की खबर गलत है, जबकि PTI के मुताबिक NSDL की वेबसाइट तीनों FPI के खातों को फ्रीज़ ही बता रही है.

Updated: Jun 14, 2021 7:35 PM
Chaudhary, however, did not disclose if any investigation was being carried out by the income tax authorities against the Adani firms, citing prohibition of disclosure of information regarding a specific taxpayer. However, he said no such investigation is going on in the Enforcement Directorate (ED) with regard to Adani group firms.Chaudhary, however, did not disclose if any investigation was being carried out by the income tax authorities against the Adani firms, citing prohibition of disclosure of information regarding a specific taxpayer. However, he said no such investigation is going on in the Enforcement Directorate (ED) with regard to Adani group firms.

अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में सोमवार की सुबह भारी गिरावट देखने को मिली. गिरावट इतनी तेज थी कि कुछ मिनट के अंदर ही इन शेयरों में लोअर सर्किट लग गया. दरअसल, इस गिरावट की वजह बनी ऐसी रिपोर्ट्स जिनमें कहा गया था कि नेशनल सिक्टोरिटीज़ डिपॉजिटरी लिमिडेट यानी NSDL ने ग्रुप की कंपनियों में भारी भरकम निवेश करने वाले तीन फॉरेन पोर्टफोलियो इनवेस्टर्स (FPI) के एकाउंट फ्रीज़ कर दिए हैं. इन रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया कि इन तीनों खातों के जरिए अडाणी समूह की कंपनियों में हजारों करोड़ रुपयों का निवेश किया गया है. यह खबर आने के साथ ही अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट शुरू हो गई.  जिसके बाद अडाणी ग्रुप ने इन खबरों को गलत और गुमराह करने वाला बताया.  ग्रुप की कंपनियों ने स्टॉक्स एक्सचेंजों में लिखकर दिया कि उनके विदेशी निवेशकों के खाते फ्रीज नहीं हुए हैं, लेकिन PTI के मुताबिक NSDL की वेबसाइट पर तीनों FPI के एकाउंट्स को फ्रीज ही बताया गया है.

कारोबार खत्म होने तक कुछ रिकवरी हुई

हालांकि दिन का कारोबार खत्म होने तक अडाणी ग्रुप के शेयरों में रिकवरी देखने को मिली. फिर भी बाजार बंद होने के समय अडाणी एंटरप्राइजेज के शेयर 5.7% की गिरावट के साथ 1,510 रुपये प्रति शेयर पर ट्रे़ड कर रहे थे. अडाणी पोर्ट्स के शेयर 9% गिरावट के साथ तो अडाणी पावर 5% गिरावट के साथ बंद हुआ. यही हाल अडाणी टोटल गैस और अडाणी ट्रांसमिशन का भी रहा. हालांकि अडाणी ग्रीन के शेयर शुरुआती कारोबार में हुए पूरे नुकसान की भरपाई करने केबाद 0.68% की मामूली बढ़त के साथ बंद हुए.

सुबह एक रिपोर्ट से मची खलबली

जिन तीन FPI के एकाउंट NSDL द्वारा फ्रीज़ किए जाने की खबर आई उनके नाम अलबुला इनवेस्टमेंट फंड (Albula Investment Fund), क्रेस्टा फंड (Cresta Fund) और एपीएमएस इनवेस्टमेंट फंड (APMS Investment Fund) बताए गए. द इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में बताया गया कि इन तीनों FPI का अडाणी ग्रुप की कंपनियों में कुल निवेश 43,500 करोड़ रुपये से ज्यादा है. रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि तीनों FPI खातों के खिलाफ कार्रवाई मनी लॉन्डरिंग निरोधक कानून (PMLA) के तहत की गई है, क्योंकि इनमें बेनेफीशियल ओनर यानी खातों से लाभ कमाने वाले मालिकों के बारे में पर्याप्त जानकारी का खुलासा नहीं किया गया था. यह भी बताया गया कि तीनों खाते मॉरीशस में खोले गए हैं और इन्हें फ्रीज़ करने की कार्रवाई पिछले महीने के अंत से पहले ही कर दी गई थी.

रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया था कि एकाउंट फ्रीज़ किए जाने की वजह से अब इन तीनों खातों के जरिए अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों की खरीद-फरोख़्त नहीं की जा सकेगी. यही वजह है कि इन खातों को फ्रीज़ किए जाने की खबर आते ही अडाणी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट आ गई.

एक साल में अडाणी ग्रुप का कमाल

पिछले एक साल में गौतम अडाणी की लिस्टेड कंपनियों के शेयरों की कीमतों में जबरदस्त उछाल आया है. रिपोर्ट के मुताबिक इसी बात ने मार्केट रेगुलेटर SEBI का ध्यान खींचा. जून 2020 से अब तक अडाणी एंटरप्राइजेज के शेयर में 857 फीसदी की सपनों जैसी उड़ान देखने को मिली है. इसी अवधि के दौरान अडाणी ट्रांसमिशन के शेयर 625 फीसदी और अडाणी ग्रीन के शेयर 234 फीसदी बढ़े हैं. पावर ट्रांसमिशन के बिजनेस में सक्रिय कंपनी अडाणी पावर के शेयरों में पिछले एक साल के दौरान 275 फीसदी की धांसू बढ़त देखी गई है. अडाणी टोटल गैस के शेयर इस साल अब तक 324 फीसदी बढ़े हैं.

अडाणी ग्रुप के प्रमुख गौतम अडाणी को हाल ही में मुकेश अंबानी के बाद एशिया का दूसरा सबसे रईस अरबपति घोषित किया गया है. एक साल ही में ही अडाणी की दौलत 43.2 अरब डॉलर बढ़ी, जिससे उनकी कुल नेटवर्थ 77 अरब डॉलर पर जा पहुंची. ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स में अडाणी को दुनिया का 14वां सबसे दौलतमंद शख्स माना गया है.

निवेशकों को क्या सलाह दे रहे हैं जानकार

एंजेल ब्रोकिंग के इक्विटी रिसर्ट एसोसिएट यश गुप्ता ने हाल के डेवपलपमेंट पर टिप्पणी करते हुए कहा कि आज से अडाणी ग्रुप के चार शेयर ट्रेड टू ट्रेड (T2T) की श्रेणी में डाल दिए गए हैं, जिसका मतलब यह हुआ कि इन शेयरों में अब इंट्राडे ट्रेडिंग की इजाजत नहीं होगी और निवेशकों को किसी भी ट्रेड के लिए शेयर को होल्ड करना पड़ेगा. इस आधार पर गुप्ता ने निवेशकों को अडाणी ग्रुप के शेयरों में निवेश करते समय बेहद सावधानी से काम लेने की सलाह दी है. उनका मानना है कि ग्रुप की कंपनियों के शेयर वैसी ही दूसरी कंपनियों के मुकाबले बेहद ऊंची कीमतों पर ट्रेड कर रहे हैं. उनका मानना है कि वे मौजूदा स्थिति में इन शेयरों को गिरावट के समय खरीदने या एवरेजिंग करने की सलाह भी नहीं देंगे.

अडाणी ग्रुप ने रिपोर्ट को गलत बताया

अडाणी ग्रुप की कंपनियों ने इन रिपोर्ट्स पर प्रतिक्रिया देते हुए एक्सचेंज में लिखित बयान पेश किया है. सभी कंपनियों के बयान एक जैसे हैं, जिनमें कंपनियों ने अपने निवेशकों के खाते फ्रीज होने की खबरों को पूरी तरह गलत और निवेशकों को गुमराह करने वाली बताया है. इन फाइलिंग्स में कंपनियों ने कहा है कि “प्रकाशित खबर की गंभीरता और इसके माइनॉरिटी निवेशकों पर बुरे असर को देखते हुए हमने रजिस्ट्रार एंड ट्रांसफर एजेंट से अनुरोध किया कि वे खबर में बताए गए फंड्स के डिमैट एकाउंट्स की स्थिति अपनी तरफ से साफ करें. हमें 14 जून 2021 को ही ईमेल के जरिए उनका लिखित कनफर्मेशन प्राप्त हुआ है, जिसमें साफ-साफ कहा गया है कि उपरोक्त फंड्स ने अपने जिन डीमैट एकाउंट्स में कंपनी के शेयर रखे हैं, उन्हें फ्रीज़ नहीं किया गया है.”

NSDL की वेबसाइट कुछ और बता रही है

अडाणी समूह की कंपनियों ने भले ही स्टॉक्स एक्सचेंज को लिखा हो कि उनमें निवेश करने वाले फंड्स के खाते फ्रीज़ होने की खबर गलत है, लेकिन समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक NSDL की वेबसाइट पर तीनों फंड्स के खातों को फ्रीज़ ही दिखाया जा रहा है. पीटीआई के मुताबिक अलबुला इनवेस्टमेंट फंड लिमिटेड (Albula Investment Fund Ltd, PAN No. AAHCA3597Q), एपीएमएस इनवेस्टमेंट फंड (APMS Investment Fund Ltd, PAN No. AAECM5148A) और क्रेस्टा फंड (Cresta Fund Ltd, PAN No. AADCC2634A) के खातों के आगे एकाउंट लेवल फ्रीज़ (account level freeze) लिखा हुआ है. हालांकि वेबसाइट पर एकाउंट फ्रीज़ होने की कोई वजह नहीं बताई गई है. हालांकि पीटीआई के मुताबिक अडाणी ग्रुप से जुड़े एक स्रोत ने दोहराया कि रजिस्ट्रार ने उन्हें लिखकर दिया है कि उनके समूह की कंपनियों के शेयर रखने वाले खाते फ्रीज़ नहीं किए गए हैं.

(Story updated with PTI inputs)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Adani Group ने कहा, हमारे विदेशी निवेशकों के एकाउंट फ्रीज नहीं, लेकिन NSDL की वेबसाइट तीनों FPI खातों को बता रही है फ्रीज

Go to Top