मुख्य समाचार:
  1. अडाणी समूह को ऑस्ट्रेलिया में चुनाव बाद कोल खनन की मंजूरी, दो वजहों से रूका था प्रोजेक्ट

अडाणी समूह को ऑस्ट्रेलिया में चुनाव बाद कोल खनन की मंजूरी, दो वजहों से रूका था प्रोजेक्ट

अडाणी समूह ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया की विवादित कार्माइकल कोयला खदान परियोजना पर काम शुरू करने की अंतिम बाधा पार कर ली.

June 13, 2019 5:25 PM
अडाणी, adani power, adani energy, adani australia, australia coal mine, adani coal mine project in australia, adani project in australia, gautam adani, अडाणी समूह, ऑस्ट्रेलिया में पर्यावरणीय चिंताओं को लेकर विरोध हो रहे. (Image-Express)

अडाणी समूह ने गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया की विवादित कार्माइकल कोयला खदान परियोजना पर काम शुरू करने की अंतिम बाधा पार कर ली. क्वींसलैंड राज्य के अधिकारियों ने कंपनी की भूजल प्रबंधन योजना को मंजूर कर लिया. इस तरह कंपनी को यह आखिरी नियामकीय अनुमति भी मिल गई है. अडाणी समूह की यह परियोजना लंबे समय से अटकी हुई थी. अडाणी समूह को अपने इस महत्त्वाकांक्षी परियोजना के लिए यह अंतिम अनुमति ऑस्ट्रेलिया में चुनाव के बाद मिली है. इस चुनाव में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरीसन के नेतृत्व वाले कोयला समर्थक गठबंधन की जीत हुई है.

दो प्रमुख वजहों से रूकी थी परियोजना की मंजूरी

इससे पहले 31 मई को क्वींसलैंड राज्य सरकार ने कंपनी की विलुप्त प्राय, काली गर्दन वाले फिंच पक्षी के संरक्षण की योजना को मंजूरी दे दी थी. यह खनन परियोजना क्षेत्र पर कंपनी की अहम पर्यावरण सुरक्षा योजना का हिस्सा है. इस परियोजना पर काम शुरू करने को लेकर अडाणी समूह के सामने फिंच पक्षी का संरक्षण और भूजल का प्रबंधन ही दो प्रमुख बाधाएं थीं. अब मंजरी मिलने के बाद कंपनी के खनन स्थल पर कुछ दिनों में निर्माण शुरू करने की उम्मीद है.

इससे पहले ग्राउंड वॉटर मैनेजमेंट की दर्जन भर योजनाएं रिजेक्ट

राज्य के पर्यावरण एवं विज्ञान विभाग ने एक बयान में कहा कि उसने समूह द्वारा कुछ ही दिन पहले उपलब्ध करायी गयी एकदम नयी योजना को स्वीकार कर लिया है. विभाग ने कहा कि यह योजना बेहतर आकलन और सबसे अच्छे उपलब्ध वैज्ञानिक समाधान पर आधारित है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इससे पहले कंपनी ने भूजल प्रबंधन की दर्जन भर योजनाएं विभाग को सौंपी थीं लेकिन उनमें से किसी को भी मंजूरी नहीं मिली. बता दें कि अडाणी की इस परियोजना को लेकर ऑस्ट्रेलिया में पर्यावरणीय चिंताएं व्यक्त की गई थी और विरोध हो रहा था.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop