सर्वाधिक पढ़ी गईं

4QFY21: खत्म होगा कमाई का सूखा या अर्निंग पर कोरोना पड़ेगा भारी? इन लॉर्जकैप और मिडकैप पर रखें नजर

4QFY21 Preview: मार्च तिमाही में क्या कंपनियों की अर्निंग पटरी पर आ जाएगी या कोविड 19 की चुनौतियों से उम्मीदें धुल जाएंगी.

Updated: Apr 12, 2021 12:25 PM
4QFY21 Preview4QFY21 Preview: मार्च तिमाही में क्या कंपनियों की अर्निंग पटरी पर आ जाएगी या कोविड 19 की चुनौतियों से उम्मीदें धुल जाएंगी.

4QFY21 Preview: वित्त वर्ष 2021 शेयर बाजार के लिए कुछ अलग ही रहा है. वित्त वर्ष के शुरूआत में लॉकडाउन की वजह से जहां बाजार में भारी गिरावट आई, वहीं वित्त वर्ष के अंतिम महीनों में सेंसेक्स और निफ्टी ने रिकॉर्ड स्तर टच किए. ओवरआल साल के अंत में कई शेयरों ने निवेशकों को हाई रिटर्न दिया. अर्थव्यवस्था के सुधरने की उम्मीद, कॉरपोरेट अर्निंग में रिकवरी की उम्मीद और कोरोना वैक्सीनेशन के चलते बाजार के सेंटीमेंट बेहतर हुए. आज से टीसीएस के नतीजों के साथ मार्च तिमाही के लिए अर्निंग सीजन शुरू हो रहा है. ऐसे में यह देखना दिलचस्प रहेगा कि मार्च तिमाही में क्या कंपनियों की अर्निंग पटरी पर आ जाएगी. या फिर कोविड 19 की चुनौतियों की वजह से उम्मीदें पूरी नहीं हो पाएंगी. इस बारे में ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल ने एक रिपोर्ट दी है.

निफ्टी कंपनियों की अर्निंग ग्रोथ डबल डिजिट में!

ब्रोकरेज हाउस मोतीलाल ओसवाल के मुताबिक अर्थव्यवस्था और कॉरपोरेट अर्निंग में रिकवरी की उम्मीद से मार्च तिमाही बाजार के लिए बेहतर साबित हुआ है. उम्मीद है कि वित्त वर्ष 2021 के अंत में निफ्टी कंपनियों की अर्निंग ग्रोथ 13 फीसदी रह सकती है. ऐसा होता है तो यह वित्त वर्ष 2011 के बाद सबसे बेहतर ग्रोथ रहेगी.

रिपोर्ट के अनुसार मार्च तिमाही में कंपनियों के PBT/PAT में सालाना आधार पर 98%/76% ग्रोथ दिख सकती है. ऐसा इकोनॉमिक रिकवरी और लो बेस के चलते संभव दिख रहा है. 20 में से 14 सेक्टर में सालाना ग्रोथ 20 फीसदी या इससे ज्यादा रह सकती है. मार्च तिमाही में सालाना आधार पर मेटल, प्राइवेट बेंक और आटोमोबाइल में 60 फीसदी तक PAT ग्रोथ रह सकती है.

सेल्स ग्रोथ

मार्च तिमाही में सालाना आधार पर निफ्टी सेल्स/EBITDA/PBT/PAT में 18%/26%/77%/65% ग्रोथ रहने की उम्मीद है. निफ्टी FY21 EPS में 1 फीसदी की मामूली कमी दिख सकती है. जबकि निफ्टी FY22/FY23 EPS स्टेबल रहने का अनुमान है. ओवरआल कोविड 19 की चुनौतियों के बाद भी अन्रिंग सीजन मजबूत रहने की उम्म्मीद है.

किन सेक्टर मेंं दिख सकती है ग्रोथ

रिपोर्ट के अनुसार ब्रोकरेज हाउस माोतीलाल ओसवाल ने IT, मेटल, सीमेंट सेक्टर को ओवरवेट रेटिंग दी है. BFSI में न्सूट्रल से मार्जिनली ओवरवेट रेटिंग कर दी है. कैपिटल गुड्स को भी ओवरवेट कटेगिरी में रखा है.

वहीं टेलिकॉम और हेल्थकेयर पर रेटिंग ओवरवेट से घटाकर न्यूट्रल कर दिया है. कंज्यूमर और आटो में न्यूट्रल रेटिंग बनाए रखा है. जबकि एनर्जी और यूटिलिटी को अंडरवेट कटेगिरी में रखा है. BFSI में चोला फाइनेंस और SBI कार्ड की रेटिंग बढ़ाई है. एसबीआई की रेटिंग भी बढ़ाई है. कंज्यूमर सेक्टर में ब्रिटानिया, हेल्थ में ग्लैंड फार्मा और डिवाइस लैब, कैपिटल गुड्स में L&T और मिडकैप स्पेस में फेडरल बैंक, व्हर्लपूल, गुजरात गैस और LTTS पर वेट ऐड किया है.

टॉप आइडिया

Large-caps: ICICI बैंक, SBI, इंफोसिस, HCL टेक, अल्ट्राटेक सीमेंट, M&M, HUVR, टाइटन कंपनी, डिवाइस लैब, हिंडाल्को, SBI कार्ड
Mid-caps: SAIL, IEX, L&T टेक्नोलॉजी, चोला फाइनेंस, ग्लैंड फार्मा, ईमामी, गुजरात गैस, ओरिएंट इलेक्ट्रिकल्स, वरुण बेवरेजेज, फेडरल बैंक

(नोट: हमने यहां जानकारी ब्रोकरेज हाउस की रिपोर्ट के आधार पर दी है. बाजार में जोखिम होते हैं, इसलिए निवेश के पहले अपने स्तर पर एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें.)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. 4QFY21: खत्म होगा कमाई का सूखा या अर्निंग पर कोरोना पड़ेगा भारी? इन लॉर्जकैप और मिडकैप पर रखें नजर

Go to Top