मुख्य समाचार:
  1. RBI डिजिटल करंसी लाने की तैयारी में!

RBI डिजिटल करंसी लाने की तैयारी में!

डिजिटल करंसी लाने को लेकर एक कमिटी का गठन किया गया है जो जून तक अपनी रिपोर्ट रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को सौंपेगा.

April 6, 2018 10:43 AM
digital currency in india, is bitcoin legal in india, is digitial coin legal in india, rbi on digital currency, reserve bank of india, business news in hindi डिजिटल करंसी लाने को लेकर एक कमिटी का गठन किया गया है जो जून तक अपनी रिपोर्ट रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को सौंपेगा. (Reuters)

रिजर्व बैंक ने बिटकाइन जैसी निजी आभासी मुद्राओं के उपयोग को हतोत्साहित करने के लिये नियमों को आज कड़ा किया. पर इसके साथ ही उसने देश में अधिकृत डिजिटल मुद्रा पेश करने की संभावना के बारे में अध्ययन कराने के लिए एक समूह गठित करने की भी घोषणा की जिसे केंद्रीय बैंक जारी कर सकता है. यह समूह तीन महीने में रपट देगा.

रिजर्व बैंक ने कहा कि ‘ केंद्रीय बैंक की एक डिजिटल मुद्रा’ पेश करने की ‘‘ वांछनीयता और व्यवहारिकता’’ का अध्ययन करने तथा उसके बारे में कुछ दिशानिर्देश सुझाने के लिये एक अंतर-विभागीय समूह का गठन किया गया है. समूह जून तक अपनी रिपोर्ट सौंपेगा. द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा के बाद डिप्टी गवनर्लर बी पी कानूनगो ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कई केंद्रीय बैंक अधिकृत डिजिटल मुद्रा पेश करने की संभावना पर चर्चा कर रहे हैं. निजी डिजिटल टोकन (करेंसी) के विपरीत अधिकृत डिजिलटल मुद्राएं केंद्रीय बैंक जारी कर सकते हैं. इसमें केंद्रीय बैंक की जवाबदेही होगी और यह मौजूदगा कागजी मुद्रा के अलावा होगी.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने आरबीआई के अंतर्गत आने वाली इकाइयों के मामले में आभासी मुद्राओं से निपटने के जोखिम को लेकर शिकंजा कसा है. इन इकाइयों को उन लोगों या कंपनियों के साथ कारोबारी संबंधों को तत्काल रोकने की जरूरत है जो आभासी मुद्रा में काम कर ती हैं. उन्हें तीन महीने के भीतर मौजूदा संबंधों को खत्म करना होगा.’ कानूनगो ने यह भी कहा कि इस प्रकार की मुद्रा से कागजी मुद्रा की छपाई और उसे परिचालन में लाने की लागत की बचत होगी,

उन्होंने कहा कि बिटकाइन जैसी डिजिटल मुद्राओं की रीढ़ ‘ब्लाकचेन’ या वितरित लेजर प्रौद्योगिकी है. उनका व्यापक अर्थव्यवस्था के लिये काफी महत्व है और हमें इसे अपनाने की जरूरत है. डिप्टी गवर्नर ने कहा, ‘‘हमारा यह भी मानना है कि अर्थव्यवस्था के लाभ के लिये उसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए.’’ उल्लेखनीय है कि दुनिया भर में बिटकाइन और उसकी सुरक्षा को लेकर काफी चिंता है. इसका कारण यह है कि सरकार या केंद्रीय बैंक इसका नियमन नहीं करते. इससे मनी लॉन्ड्रिंग का जोखिम है.

  1. Ujjwal Rajput
    Apr 7, 2018 at 12:40 am
    people are not much worried about withdrawing money. they are saying on social media not to vote this government in 2019.
    Reply
    1. Ujjwal Rajput
      Apr 7, 2018 at 12:35 am
      I'm asking RBI ki kya INR se money laundering nhi hoti, smuggling nhi hoti, bank fraud nhi hote, kya stock market risky nhi hai,mutual funds me risk nhi hai kya. If you try to understand chain and bitcoin you can't take this type of immature decisions .This is only dictatorship.the results of this will reflect in elections of 2019.Cryptocurrencies are not alcohol, Ganja, charas, smack, tobacco and other harmful things.Govt. shoul ban these bad things but it doesn't. Crypto should be regulated with valid rules.I suggest you(financial express) and gov to check the technology of Ethereum, EOS, Cardano and Ripple on their sites and then take decision.i don't think RBI' cryptocurrency will supported and appreciated by real crypto lovers.The technology of their cryptocurrency will be nothing before Cardano and EOS. It looks like they are banning revolution and technology like internet, but they will not able to do so and feel ashamed and guilty on their decisions. Thanks.#isupporcrypto
      Reply

      Go to Top