सर्वाधिक पढ़ी गईं

Budget 2021: मैटालर्जिकल कोक, कोकिंग कोल समेत प्रमुख कच्चे माल पर घटे इंपोर्ट ड्यूटी- स्टील इंडस्ट्री

कच्चे माल के अच्छी गुणवत्ता और मात्रा में उपलब्ध नहीं होने से स्टील इंडस्ट्री की ग्रोथ में रुकावट पैदा होती है.

Updated: Jan 03, 2021 2:49 PM
Union Budget 2021: Steel sector seeks relief in customs duty on key raw materials, budget 2021, budget demands, steel industry, ciiImage: Reuters

Union Budget 2021: घरेलू स्टील इंडस्ट्री ने सरकार से बजट 2021 में एंथ्रेसाइट कोल, मैटालर्जिकल कोक, कोकिंग कोल और ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड जैसे प्रमुख कच्चे माल पर बेसिक कस्टम्स ड्यूटी घटाने की मांग की है. कनफेडरशेन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (CII) ने स्टील इंडस्ट्री के लिए अपनी बजट सिफारिशों में कहा कि इन कच्चे माल के अच्छी गुणवत्ता और मात्रा में उपलब्ध नहीं होने से स्टील इंडस्ट्री की ग्रोथ में रुकावट पैदा होती है.

एंथ्रेसाइट कोल पर इस वक्त बेसि​क कस्टम्स ड्यूटी 2.5 फीसदी है. इस कच्चे माल पर ड्यूटी शून्य किए जाने की सिफारिश के साथ सीआईआई ने कहा कि देश में इसकी अच्छी गुणवत्ता में उपलब्धता घट रही है और स्टील इंडस्ट्री नियमित रूप से इसके आयात पर पूरी तरह निर्भर हो सकती है.

मैटालर्जिकल कोक पर 2.5% की जाए ड्यूटी

मैटालर्जिकल कोक को लेकर सीआईआई ने सुझाव दिया कि इस पर इंपोर्ट ड्यूटी को मौजूदा 5 फीसदी से घटाकर 2.5% किया जाए. लो ऐश मैटालर्जिकल कोक HS Code 2704 स्टील बनाने का एक प्रमुख कच्चा माल है. कुल कच्चा माल लागत में से लगभग 46 फीसदी लागत मैटालर्जिकल कोक के इस प्रकार की है. इस पर इंपोर्ट ड्यूटी घटने से घरेलू स्टील इंडस्ट्री को मूल्य प्रतिस्पर्धी बनने में मदद मिलेगी.

कोकिंग कोल से हटे इंपोर्ट ड्यूटी

अपनी सिफारिशों में सीआईआई ने कोकिंग कोल पर से इंपोर्ट ड्यूटी हटाने का भी सुझाव दिया है. इस वक्त कोकिंग कोल पर ड्यूटी 2.5 फीसदी है. सीआईआई ने कहा कि कोकिेंग कोल की घरेलू आपूर्ति पर्याप्त नहीं है. इसलिए जरूरत को पूरा करने के लिए इसका आयात करना पड़ता है. लिहाजा कोकिंग कोल पर इंपोर्ट ड्यूटी को घटाकर शून्य करना चाहिए. इससे मेट कोक के ड्यूटी स्ट्रक्चर को भी तार्किक बनाने में मदद मिलेगी, जो कि कोकिंग कोल के लिए एंड प्रॉडक्ट है.

Budget 2021: डिजिटल हेल्थ को लेकर पॉलिसी बनाए सरकार, हेल्थकेयर सेक्टर की बजट से उम्मीदें

ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड को लेकर क्या सिफारिश

सीआईआई ने आगे कहा कि ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड भी स्टील बनाने में प्रमुख कच्चा माल है. भारत के स्टील उत्पादक इसका आयात करने पर मजबूर हैं क्योंकि देश में उत्पादित होने वाले ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड में से लगभग 60 फीसदी का निर्यात हो जाता है. इससे देश में इसकी कमी पैदा हो रही है. ऐसे में उच्च ड्यूटी से लागत पर बोझ बढ़ता है. ग्रेफाइट इलेक्ट्रोड पर इंपोर्ट ड्यूटी को मौजूदा 7.5 फीसदी से घटाकर शून्य करना चाहिए.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Budget 2021: मैटालर्जिकल कोक, कोकिंग कोल समेत प्रमुख कच्चे माल पर घटे इंपोर्ट ड्यूटी- स्टील इंडस्ट्री

Go to Top