मुख्य समाचार:

Budget 2020: आर्थिक हालातों ने रोकी बड़े सुधारों की राह: बजट पर इंडिया इंक

Budget 2020: बजट पर उद्योग जगत की तरफ से मिली जुली प्रतिक्रिया रही है.

February 1, 2020 9:04 PM
Budget 2020 industry reaction economic situation stops government for taking big steps to improve economyबजट पर उद्योग जगत की तरफ से मिली जुली प्रतिक्रिया रही है.

Budget 2020: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश 2020- 21 के बजट पर उद्योग जगत की तरफ से मिली जुली प्रतिक्रिया रही है. उद्योगों के एक वर्ग का मानना था कि बजट में आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये साहसिक सुधारों की कमी दिखाई दी है जबकि कुछ दूसरों ने माना कि वित्त मंत्री के सामने ठोस सुधारों को लेकर गुंजाइश बहुत कम थी. सीतारमण ने नई सदी का पहला बजट पेश करते हुए बजट को आकांक्षी भारत, सभी के लिये आर्थिक विकास और वंचितों और गरीबों की चिंता करने वाला समाज के ईदगिर्द तैयार किया गया बजट बताया.

आर्थिक सुधार की उम्मीद कम: किरण मजूमदार शॉ

बायकोन की चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक किरण मजूमदार शॉ ने ट्वीट करके कहा कि हालांकि, बजट को लेकर उनकी त्वरित प्रतिक्रिया सकारात्मक रही है, लेकिन अब जबकि उन्होंने इस पर गौर किया है तो उन्हें मजबूत आर्थिक सुधार की उम्मीद कम लगती है. लाभांश वितरण कर हटने से व्यक्तिगत करदाताओं को नुकसान होगा और इससे उपभोक्ता खर्च प्रभावित होगा. बजट में कोई निर्यात प्रोत्साहन क्यों नहीं दिया गया.

डॉ. रेड्डीज लैबोरेटरीज के चेयरमैन सतीश रेड्डी ने कहा कि इस बजट से उद्योग जगत को काफी उम्मीदें थी. अर्थव्यवस्था की स्थिति देखते हुए यह बड़े सुधारों की पहल करने का मौका था जिसमें वित्त मंत्री चूक गई. इस लिहाज से कुछ मामलों में बजट से निराशा हुई. डाबर इंडिया के सीईओ मोहित मल्होत्रा ने साल 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में उठाये गये कदमों की सराहना की. उन्होंने कहा बजट प्रस्तावों से ग्रामीण उपभोक्ताओं की खरीद क्षमता बढ़ेगी.

भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के अध्यक्ष विक्रम किर्लोस्कर ने वित्त मंत्री का यह कहते हुये बचाव किया कि सीतारमण को बहुत कठिन परिस्थितियों में यह बजट तैयार करना पड़ा है. उन्होंने कठिन वित्तीय स्थिति के बीच निवेश और खपत को बढ़ाने के लिये ऊंची सरकारी व्यय जरूरतों को पूरा करने में संतुलन साधा है.

भारती एंटरप्राइजिज के संस्थापक और चेयरमैन सुनील भारती मित्तल ने कहा कि उन्हें इस बजट से सबसे बड़ा सबक यही मिला है कि संपत्ति का सृजन करने वालों को सम्मान दिया जायेगा. उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से यह कारोबारियों का विश्वास बढ़ाने और उद्यमशीलता की बेहतरी की दिशा में बड़ी पहल है. इससे संकेत मिलता है कि सरकार नया भारत बनाने को लेकर गंभीर है जिसमें कि भारत का उद्याग जगत और नई प्रौद्योगिकी के उद्यम साझीदार होंगे.

करदाता, कारोबारी, किसान और युवा: बजट से क्या मिला? ‘न्यू इंडिया’ की राह पर कितना बढ़े कदम

सरकार ने सराहनीय काम किया: FICCI

उद्योग मंडल फिक्की की अध्यक्ष संगीता रेड्डी ने कहा कि परिस्थितियों को देखते हुये यह बजट व्यापक वक्तव्य के साथ आया है. सरकार ने सराहनीय काम किया है और बजट में घोषित उपायों से भारत को उद्योग जगत और लोगों को मजबूती मिलेगी.

पीएचडी मंडल के अध्यक्ष डॉ. डी के अग्रवाल ने प्रभावशाली बजट पेश करने और जीवन के मानकों के सुधार के लिए समाज के सभी वर्गों की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए वित्त मंत्री को बधाई दी. उन्होंने कहा कि संपूर्ण तौर पर बजट में सभी वर्गों का ख्याल रखने का सफल प्रयास किया गया है. 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए 16 सूत्रीय कार्य योजना के साथ कृषि क्षेत्र पर बजट का ध्यान अत्यधिक उत्साहजनक है. धन लक्ष्मी योजना कृषि क्षेत्र में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाएगी. डॉ.अग्रवाल ने कहा कि कृषि उद्योग योजना खाद्य क्षेत्र में अपव्यय को कम करने में मदद करेगी जिससे किसानों को अपनी कृषि आय बढ़ाने में सुविधा होगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. कारोबार बाजार
  3. Budget 2020: आर्थिक हालातों ने रोकी बड़े सुधारों की राह: बजट पर इंडिया इंक

Go to Top