आम चुनाव 2019 से ठीक पहले मोदी सरकार ने बजट के जरिए किसानों, कामगारों से लेकर रीयल एस्टेट और मिडिकल क्लास को साधने की पूरी कोशिश की है. बजट ऐलान से बाजार में भी अच्छी रैली देखी गई और ऑटो व कंजम्पशन शेयरों में तेजी रही. एक्सपर्ट भी मान रहे हैं कि मिडिल क्लास और किसानों का पैसा बढ़ने से कंजम्पशन बढ़ेगा. हालांकि एलटीसीजी टैक्स पर राहत न मिलने जैसे फैक्टर भी हैं. फिलहाल एक्सपर्ट का कहना है कि बजट से बाजार में नया जोश देखने को मिलेगा. इसका लांग टर्म इंपैक्ट बेहतर रहने वाला है और बाजार नया हाई देख सकता है.
मुख्य समाचार:
  1. बजट 2019 लंबी अवधि में बाजार में भरेगा जोश, इन शेयरों में बनेगा निवेशकों का पैसा

बजट 2019 लंबी अवधि में बाजार में भरेगा जोश, इन शेयरों में बनेगा निवेशकों का पैसा

Budget Impact On Stocks: एक्सपर्ट का कहना है कि बजट का लांग टर्म इंपैक्ट बेहतर रहने वाला है और बाजार नया हाई देख सकता है.

February 4, 2019 9:37 AM
Budget Impact On Stocks, After Budget Invest In These Stocks, Auto, FMCG, Consumption, Realty, Stock Tips, Invest In StocksWherer To Invest After Budget 2019: एक्सपर्ट का कहना है कि बजट का लांग टर्म इंपैक्ट बेहतर रहने वाला है और बाजार नया हाई देख सकता है.

Budget 2019 Impact On Stocks: आम चुनाव 2019 से ठीक पहले मोदी सरकार ने बजट के जरिए किसानों, कामगारों से लेकर रीयल एस्टेट और मिडिकल क्लास को साधने की पूरी कोशिश की है. बजट ऐलान से बाजार में भी अच्छी रैली देखी गई और ऑटो व कंजम्पशन शेयरों में तेजी रही. एक्सपर्ट भी मान रहे हैं कि मिडिल क्लास और किसानों का पैसा बढ़ने से कंजम्पशन बढ़ेगा. हालांकि एलटीसीजी टैक्स पर राहत न मिलने जैसे फैक्टर भी हैं. फिलहाल एक्सपर्ट का कहना है कि बजट से बाजार में नया जोश देखने को मिलेगा. इसका लांग टर्म इंपैक्ट बेहतर रहने वाला है और बाजार नया हाई देख सकता है.

बनेगा नया हाई, गिरावट पर करें खरीददारी

CapitalAim के रिसर्च हेड देबाब्रत भट्टाचारजी का कहना है कि बजट मध्यम वर्ग और किसानों के लिए बेहतर बजट है. आम चुनाव के देखते हुए दोनों वर्ग के लिए काफी कुछ किया गया है. आम आदमी को जहां करीब 6.5 लाख तक की सालाना आय पर टैक्स छूट मिलेगी, वहीं छोटे किसानों को 6 हजार रुपये सालाना का सपोर्ट प्रावधान बजट में किया गया है. ये दोनों निर्णय लंबी अवधि में बाजार को अच्छा सपोर्ट दे सकते हैं. बाजार सरकार द्वारा लिए गए फिस्कल पॉलिसीज पर रिएक्ट करता है. ऐसे में नियर टर्म में बाजार में भले ही हल्का करेक्शन आए, लेकिन मौजूदा सरकार के फिर से चुने जाने की उम्मीद में बाजार में पॉजिटिव रिएक्शन देखने को मिलेगा. आने वाले महीनों में बाजार नया हाई देख सकता है.

भट्टाचारजी का कहना है कि निफ्टी जो 10900 के स्तर के आसपास है, अगर 11000 की ऊपरी सीमा को तोड़ता है तो यह आसानी से 11200 के स्तर तक पहुंच सकता है, जहां इसे रजिस्टेंस मिल रहा है. हालांकि यह अमेरिका और अन्य बाजारों से मिलने वाले संकतों पर भी निर्भर है. नियर टर्म में किसी भी गिरावट पर खरीदारी की रणनीति अपनानी चाहिए. नीचे की ओर देखें तो शॉर्ट टर्म में अगर निफ्टी 10600 के स्तर को तोड़ता है तो यह 10500-10400 का स्तर देख सकता है, जहां खरीदददारी का बेहतर मौका बनेगा.

किन शेयरों में बनेगा पैसा

देबाब्रत भट्टाचारजी ने डाबर, हिंदुस्तान यूनिलीवर (HUL), मैरिको, TVS मोटर, हीरो मोटोकॉर्प, बजाज आटो और जुबिलेंट फूड पर दांव लगाने की सलाह दी है. रीयल्टी सेक्टर में शोभा डेवलपर्स और पार्श्वनाथ डेवलपर्स को चुना है.

ऑटो, कंजम्पशन और रीयल्टी में दिखेगी हलचल

एपिक रिसर्च के सीईओ नदीम मुस्तफा का कहना है कि सरकार ने इलेक्ट्रिक व्हीकल कम्पोनेंट्स पर इंपोर्ट ड्यूटी कम करने का ऐलान किया है. बजट के जरिए यह संकेत दिया है कि 2030 तक देश में इलेक्ट्रिक व्हीकल सेग्मेंट में क्रांति लाई जाएगी. मिडिल क्लास को टैक्स छूट से अपनी आय बढ़ाने में मदद मिलेगी. इससे आने वाले दिनों में बाजर में भी लिकिव्डिटी बढ़ेगी. किसानों की आय बढ़ाने की योजना से खासतौर ट्रैक्टर और टू व्हीलर सेग्मेंट को फायदा होगा.

बजट में रियल एस्टेट सेक्टर को सरकार ने बड़ा बूस्टर डोज दिया है. अफोर्डेबल हाउसिंग को बढ़ावा देने के लिए बिल्डरों और घर खरीदारों दोनों का राहत मिली है. बिल्डर्स के लिए सस्ते घरों के लिए इनकम टैक्स छूट 1 साल के लिए बढ़ी है. 80 (आईबीए) की सीमा मार्च 2020 तक बढ़ाई गई है. वहीं घर खरीददारों को 1 घर बेचकर 2 घर लेने पर कैपिटल गेन्स टैक्स नहीं देना होगा. घर पर मिलनेवाली ये छूट एक ही बार मिलेगी और दूसरे घर के नोशनल रेंट पर टैक्स नहीं देना होगा. सालाना 2.40 लाख तक हाउस रेंट पर टीडीएस नहीं देना होगा.

किन शेयरों में बनेगा पैसा

मुस्तफा नदीम ने हीरो मोटोकॉर्प, महिंद्रा एंड महिंद्रा (M&M), अशोक लेलैंड, DLF, शोभा डेवलपर्स, दिलीप बिल्डकॉन पर दांव लगाने की सलाह दी है.

ये भी पढ़ें: RBI MPC मीटिंग: ब्याज दरों में कटौती की संभावना नहीं, वित्तीय मोर्चे की चुनौतियां और क्रूड की कीमतें बनेंगी वजह

(नोट-यहां निवेश की सलाह एक्सपर्ट्स के द्वारा दी गई हैं. कृपया अपने स्तर पर या अपने एक्सपर्ट्स के जरिए किसी भी तरह की सलाह की जांच कर लें. मार्केट में निवेश के अपने जोखिम हैं, इसलिए सतर्कता जरूरी है.)

Go to Top