Scrap Policy: अपनी पुरानी कार को भेजें कबाड़ में, इन राज्यों में हैं स्क्रैप सेंटर

राजधानी दिल्ली में 10 साल से पुरानी डीजल गाड़ियों और 15 साल पुरानी पेट्रोल गाड़ियों चलाने की मंजूरी नहीं है. इन गाड़ियों को स्क्रैप पॉलिसी के तहत कबाड़ में तब्दील करवा सकते हैं जिसके बदले में आपको नई गाड़ी के लिए डिस्काउंट मिल सकता है.

vehicle scrap policy know about functional vehicle scrapping centres know here where to apply online
मोदी सरकार ने पिछले साल 2021 में बजट में स्क्रैप पॉलिसी का ऐलान किया था और अगस्त में इसे लागू कर दिया गया था.

राजधानी दिल्ली में 10 साल से पुरानी डीजल गाड़ियों और 15 साल पुरानी पेट्रोल गाड़ियों चलाने की मंजूरी नहीं है. इन गाड़ियों को स्क्रैप पॉलिसी के तहत कबाड़ में तब्दील करवा सकते हैं जिसके बदले में आपको नई गाड़ी के लिए डिस्काउंट मिल सकता है. पुरानी गाड़ी को कबाड़ में बदलवाने के इसे नज़दीकी स्क्रैप सेंटर में ले जाना होगा. केंद्रीय सड़क परिवहन और हाईवे मंत्री नितिन गडकरी ने बुधवार को राज्य सभा में एक प्रश्न के जवाब में बताया कि दिल्ली/ एनसीआर, गुजरात और हरियाणा में कुल 6 स्क्रैप सेंटर खोल दिए गए हैं.

https://www.kooapp.com/koo/PIB_India/252580d2-4ed5-4a8a-828d-edc34458e7e8

दिल्ली एनसीआर में तीन स्क्रैप सेंटर

इस समय देश में छह स्क्रैंपिंग सेंटर काम कर रहे हैं जिसमें से तीन दिल्ली-एनसीआर में हैं. इसके अलावा हरियाणा में दो सेंटर और गुजरात में एक स्क्रैपिंग सेंटर हैं.

Koo App का नया फीचर है कमाल का, बिना दिक्कत देश भर में कहीं भी घूमें, भाषा की नहीं होगी दिक्कत

कैसे कर सकते है आवेदन

आप घर बैठे ही ऑनलाइन अपनी कार को स्क्रैप करने के लिए आवेदन कर सकते हैं. इसके लिए नेशनल सिंगल विंडो सिस्टम वेबसाइट https://www.ppe.nsws.gov.in/portal/scheme/scrappagepolicy पर आवेदन करना होगा.

पुरानी गाड़ी स्क्रैप कराने पर आपको क्या मिलेगा?

ग्राहक को अपनी पुरानी गाड़ी स्क्रैप करवाने से पैसे मिलते हैं. पॉलिसी के मुताबिक जब आप नई गाड़ी खरीदने जाएंगे तो आपको डिस्काउंट मिल सकता है. डिस्काउंट हासिल करने के लिए विभाग से मिला स्क्रैप सर्टिफिकेट नई गाड़ी खरीदने के समय जमा करना होगा. इसी के साथ आपको नई गाड़ी के रजिस्ट्रेशन करवाने के समय भी डिस्काउंट मिल सकता है.

छोटे कारोबारियों को आसानी से मिलेगा कर्ज, SIDBI लाएगा स्पेशल रेटिंग सिस्टम, जानिए क्या है खास बात

पिछले साल बजट में हुआ था ऐलान

मोदी सरकार ने पिछले साल 2021 में बजट में इस पॉलिसी का ऐलान किया था और अगस्त में इसे लागू कर दिया गया था. इसके तहत एक तय सीमा से अधिक पुरानी गाड़ियों का फिटनेस टेस्ट होता है और इसके आधार पर इनका रजिस्ट्रेशन रिन्यू होता है या रद्द करके कबाड़ बना दिया जाता है. इसका मुख्य लक्ष्य अनफिट गाड़ियों को हटाकर सड़कों पर होने वाली दुर्घटनाओं को थामना और प्रदूषण पर लगाम लगाना है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News