मुख्य समाचार:

IOC के पेट्रोल पंप पर सिर्फ 2 मिनट में बदलवाएं इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी, इस शहर से हुई शुरुआत

IOC ने पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर शुरुआत की. इसके तहत नई दिल्ली, गुरुग्राम और अन्य शहर भी शमिल होंगे.

Updated: Jun 26, 2020 5:17 PM
IOC foray into EV charging launches battery swapping facility for quick recharge of EVsIOC का देश के करीब 50 फीसदी फ्यूल रिटेल मार्केट पर कब्जा है. कंपनी ने अब ईवी चार्जिंग सेगमेंट में कदम रखा है. (Reuters)

देश की शीर्ष तेल कंपनी इंडियन ऑयल (IOC) ने EV चार्जिंग में कदम रखते हुए शुक्रवार को अपने पेट्रोल पंपों पर इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए बैटरी स्वैपिंग सुविधा लॉन्च की. कंपनी की इस सुविधा के तहत महज 2 मिनट में पूरी तरह डिस्चार्ज बैटरी को पूरी तरह चार्ज बैटरी से बदला जा सकता है. कंपनी के चेयरमैन संजीव सिंह ने बताया कि IOC ने बैटरी स्वैपिंग को एक पायलट प्रोजेक्ट के रूप में चंडीगढ़ के अपने एक आउटलेट से शुरू की है. कंपनी जल्द इस सुविधा को 20 स्टेशनों पर उपलब्ध कराएगी. इस प्रोजेक्ट के तहत नई दिल्ली, गुरुग्राम और अन्य शहर भी शमिल होंगे.

बैटरी स्वैपिंग तकनीक से जहां धीमी चार्जिंग का विकल्प बनेगी वहीं, वाहन चालक अपने काम के घंटों का अधिक से अधिक इस्तेमाल कर सकेंगे. संजीव सिंह ने बताया कि बैटरी स्वैपिंग मॉडल को अभी कॉमर्शियल गाड़ियों जैसेकि इलेक्ट्रिक आटो, रिक्सा और इलेक्ट्रिक टूव्हीलर्स और इलेक्ट्रिक व्हीकल्स, जो पहले से फैक्ट्री फिटेड हो या जिनमें बैटरी फिट कराया चुका है, को ध्यान में रखकर पेश किया गया है.

आईओसी देश की टॉप फ्यूल ​रिटेलर है. उसका देश के करीब 50 फीसदी बाजार पर कब्जा है. लेकिन अब उसे ईवी चार्जिंग में कदम रखा है. कंपनी ने इसके लिए सन मोबिलिटी से साथ करार किया है, जिसके तहत बैटरी स्वैपिंग फैसेलिटी जिसे क्विक इंटरचेंज स्टेशन (QIS) कहते हैं, स्थापित की जाएगी.

EV इकोसिस्टम में QIS निभाएंगे अहम रोल

आईओसी चेयरमैन ने बताया कि कोई भी अपनी इलेक्ट्रिक गाड़ी लेकर आईओसी के क्यूआईएस पंप पर आ सकता है और डिस्चार्ज बैटरी डिस्पेंसिंग स्टेशन में डालकर पूरी तरह चार्ज बैटरी सिर्फ 1-2 मिनट में ले सकता है. इलेक्ट्रिक गाड़ी की सभी तीन/चार बैटरी QIS पर एकबार में बदली जा सकती है. इसकी प्रक्रिया पूरी हो जाने पर बैटरी की चार्जिंग के लिए एक बिल जेनरेट हो जाएगा. आईओसी चेयरमैन ने बताया कि पायलट QIS पर 14 बैटरी, स्वैपिंग प्रीलोडेड कार्ड के लिए एक टचस्क्रीन और एक इलेक्ट्रिसिटी सबमीटर है. ये स्टेशन थ्रीव्हीलर सेगमेंट में अल्टरनेटिव एनर्जी सॉल्यूशन उपलब्ध कराने में एक अहम रोल निभाएंगे.

पिछले साल सिर्फ 4000 ​ईवी बिकी

आईओसी चेयरमैन सिंह ने बताया कि पिछले साल 35 लाख गाड़ियां बिकी, इनमें से सिर्फ 4000 इलेक्ट्रिक गाड़ियां थी. ईवी की बिक्री कम होने की सबसे बड़ी वजह चार्जिंग में लगने वाला समय है. यूजर्स हालांकि ईवी पर शिफ्ट होना चाहते हैं लेकिन वह चार्जिंग की लगने वाले बेकार के समय से बचना चहता हैं.ऐसे में बैटरी स्वैपिंग सुविधा कारगार साबित होगी. तीन और QIS को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर जल्द शुरू किया जाएगा. इनमें चंडीगढ़ में एक और, एक अमृतसर और एक बेंगलुरू में होगा. इस प्रोजेक्ट के तहत नई दिल्ली, गुरुग्राम और अन्य शहर भी शमिल होंगे.

 

Input: PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. ऑटो
  3. IOC के पेट्रोल पंप पर सिर्फ 2 मिनट में बदलवाएं इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी, इस शहर से हुई शुरुआत

Go to Top