मुख्य समाचार:

क्या वाकई ओला/उबर के चलते नहीं बिक रहीं कारें? कैलकुलेशन से समझें कौन सी राइड है सस्ती

क्या वाकई ओला और उबर की सर्विस खुद की कार से पड़ रही है सस्ती?

September 12, 2019 3:50 PM
Buying New Car Vs Ola Or Uber, auto sector slowdown, cheaper ride, financial planning, ओला और उबर, कार से सस्ती सर्विस, Car Vs Ola/Uber, calculate ride expense, car value after 6 years, scrapping valueक्या वाकई ओला और उबर की सर्विस खुद की कार से पड़ रही है सस्ती

देश में नई कारों की बिक्री लगातार गिर रही है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ऑटो क्षेत्र में नरमी के पीछे ओला और उबर जैसे टैक्सी एग्रीगेटर्स को जिम्मेदार बताया है. उनका कहना है कि युवाओं की सोच बदल रही है और लोग अब खुद का वाहन खरीदकर मंथली ईएमआई भरने की बजाए ओला और उबर बुकिंग को तरजीह दे रहे हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या सही में नई कार खरीदने की बजाए ओला और उबर हायर करना खर्च के लिहाज से ज्यादा फायदेमंद है. क्या इससे बचत और बढ़ाई जा सकती है. इसे एक कैलकुलेशन से ऐसे समझ सकते हैं.

केस स्टडी: अगर आप कार खरीदते हैं तो प्रति दिन का खर्च

  • एक नॉर्मल कीमत वाली कार: 6 लाख रुपये
  • 6 साल बाद स्क्रैप वैल्यू: 1 लाख रुपये
  • 6 साल में कार खरीदने पर नेट खर्च: 5 लाख रुपये
  • प्रति दिन का खर्च: 5,00,000/2200 = 230 रु/दिन
  • सालाना इंश्योरेंस का खर्च: 15 हजार रुपये
  • इंश्योरेंस पर प्रति दिन खर्च: 41 रु/दिन
  • रोज पेट्रोल का खर्च: 150 रु/दिन
  • हर 3 साल में टायर और बैटरी पर खर्च: 25 हजार रुपये यानी 23 रु/दिन
  • सालाना मेंटिनेंस: 9000 रुपये यानी 25 रु/day
  • इंटरेस्ट लॉस: 131 रु/दिन

ऐसे में नई कार खरीदने पर रोज का खर्च करीब 850 रुपये बैठेगा.

(नोट: यहां कार की औसत कीमत 6 लाख रुपये और औसत लाइफ 6 साल मानी गई है. मेंटिनेंस और पेट्रोल आदि का खर्च मध्य वर्ग को ध्यान में रखते हुए एक सामान्य खर्च के रूप में लिया गया है. खर्च इससे भी ज्यादा या कम हो सकता है.)

अगर Ola या Uber हायर करते हैं

ऊपर कार के केस में रोज पेट्रोल का खर्च 150 रुपये दिखाया गया है. इस लिहाज से यह मानकर चल सकते हैं कि रोज कार से 25 से 30 किलोमीटर ट्रैवल हो रहा है. वहीं, खुद ओला और उबर को दिए गए पेमेंट की स्टडी की गई तो इसमें यह निकलकर आया कि 15 किलोमीटर तक की जर्नी करते हैं तो इसका बिल 170 से 215 रुपये (फ्लेक्सी फेयर) के बीच हो सकता है. जो 30 किलोमीटर के लिहाज से 340 से 430 रुपये के बीच होगा. इसे औसतन 450 रुपये रोज का खर्च मान सकते हैं.

यह भी पढ़ें…वित्त मंत्री के बयान पर मारुति की दो टूक; ओला-उबर से नहीं आई है मंदी, स्टडी की जरूरत

दोनों में तुलना

साफ है कि जहां कार पर रोल 850 रुपये खर्च हो रहा है, वहीं ओला और उबर पर यह खर्च 400 से 450 रुपये रुपये के बीच ही आएगा. यानी कार की बजाए टैक्सी सर्विस लेने पर कम से कम 400 रुपये रोज की बचत हो सकती है.

फाइनेंशियल एडवाइजर फर्म BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कहना है कि आज के दौर में जहां खर्चें बहुत ज्यादा हैं, बहुत से लोग इसे और नहीं बढ़ाना चाहेंगे. इस वजह से खासतौर से युवाओं को टैक्सी एग्रीगेटर्स की सर्विस लेना ज्यादा फायदेमंद लगेगा. इससे उन्हें सेफ्टी का भी अहसास होगा, वहीं पार्किंग या दूसरे कामों से समय की भी बचत होगी. उनका कहना है कि इससे जो बचत होगी, उसे सेविंग्स के कई विकल्पों मसलन SIP, एफडी या पीपीएफ जैसे विकल्पों में लगाया जा सकता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. ऑटो
  3. क्या वाकई ओला/उबर के चलते नहीं बिक रहीं कारें? कैलकुलेशन से समझें कौन सी राइड है सस्ती

Go to Top