सर्वाधिक पढ़ी गईं

Automatic vs Manual Transmission: ऑटोमैटिक या गियर वाली कार? अपने लिए बेहतर का इस तरह करें चुनाव

Automatic vs Manual Transmission in Cars: आज ऐसा समय आ गया है कि कई लोगों के घर में एक से अधिक कारें हैं. हालांकि इसी के चलते उलझन भी शुरू हो गई कि ऑटोमैटिक कार ली जाए या गियर वाली.

March 26, 2021 7:51 AM
Automatic vs manual transmission in cars Pros and cons explained then choose better for your dream carसुविधा के तौर पर देखा जाए तो ऑटोमैटिक कार बेहतर हैं लेकिन कम मेंटनेंस खर्च इत्यादि के चलते मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारें भी अपना दबदबा बनाए हुए है. (Represntative Image)

Automatic vs Manual Transmission in Cars: अपनी एक कार का सपना लगभग सभी का होता है और इसे पूरा करने के लिए वे कोशिशें करते हैं. हालांकि कार के सपने को सच करने में एक उलझन तब होती है जब ऑटोमैटिक या मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कार में से किसी एक को चुनना होता है. कार होना लंबे समय तक स्टेटस सिंबल समझा जाता रहा है और एक समय इसमें सिर्फ तीन गियर वाली कारें लोगों के लिए उपलब्ध थीं. आज ऐसा समय आ गया है कि कई लोगों के घर में एक से अधिक कारें हैं. हालांकि इसी के चलते उलझन भी शुरू हो गई कि ऑटोमैटिक कार ली जाए या गियर वाली. हालांकि सुविधा के तौर पर देखा जाए तो ऑटोमैटिक कार बेहतर हैं लेकिन कम मेंटनेंस खर्च इत्यादि के चलते मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारें भी अपना दबदबा बनाए हुए है.

ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के पॉजिटिव्स

  • सुविधा के मामले में ऑटोमैटिक कारें बेहतर हैं.
  • पहली बार कार चलाना सीखने वाले के लिए यह बेहतर है.
  • इन कारों में सिर्फ दो पेडल्स होते हैं जिसके चलते कार चलाने के लिए अधिक चीजों पर ध्यान नहीं देना होता है.
  • ऑटोमैटिक कारों में अगर कोई मशीनी गड़बड़ी नहीं है तो वे बीच रास्ते बंद नहीं होंगी.
  • आजकल एएमटी, डुएल क्लच, सीवीटी, आईएमटी और टॉर्क कंवर्टर जैसे ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के कई वैरायटी बाजार में मौजूद है.

ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के निगेटिव्स

  • ऑटोमैटिक कार चलाने की आदत हो जाने पर मैनुअल कार चलाने में असुविधा होती है.
  • ऑटोमैटिक कारों में ब्रेक्स का इस्तेमाल अधिक होता है जिसके चलते इसे मेंटनेंस की जरूरत अधिक पड़ती है.
  • कैटगरी और सर्विस इंटरवल के मुताबिक ऑटोमैटिक कारों में भी ट्रांसमिशन प्लड्स की जरूरत पड़ती है.
  • ऑटो ट्रांसमिशन को बदलना या उसे ठीक करना बहुत महंगा है.
  • अगर ऑटो कार के ब्रेक्स डाउन हो गए तो इसे धक्का देकर स्टार्ट नहीं कर सकते और धक्का देकर सड़क किनारे भी नहीं कर सकते.
  • ऑटोमैटिक कारों की रिपेयरिंग हर जगह नहीं उपलब्ध नहीं है.
  • ऑटोमैटिक कारों की कीमत अधिक होती है.
  • अधिकतर ऑटोमैटिक कारों की ईंधन खपत अधिक है.

मैनुअल ट्रांसमिशन पॉजिटिव्स

  • इन कारों का इस्तेमाल बड़ी संख्या में होता है.
  • मैनुअल ट्रांसमिशन कार चलाने वाले ड्राइवर ऑटोमैटिक कार आसानी से चला सकते हैं.
  • हालांकि यह पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता लेकिन मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारों को चलाने में लोगों को अधिक आनंद आता है.
  • इमरजेंसी स्थिति में कुछ गियर्स कम करने पर प्रभावी तरीके से कार रोकी जा सकती है.
  • इनकी रिपेयरिंग आसान होती है और ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन की तुलना में अधिक महंगा भी नहीं होता है.
  • इनकी कीमत कम होती है और माइलेज अधिक होता है.

मैनुअल ट्रांसमिशन निगेटिव्स

  • क्लच पेडल के चलते ट्रैफिक में इन कारों को चलाना बहुत थकान भरा होता है.
  • अगर क्लच प्लेट्स बाहर निकल गए हैं तो इससे माइलेज पर असर पड़ता है.
  • अगर इन कारों को चलाना सीख रहे हैं तो किसी चढ़ाव वाले रास्ते पर गियर बदलना बहुत मुश्किल भरा काम होता है.
    (Article: Lijo Mathai)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. ऑटो
  3. Automatic vs Manual Transmission: ऑटोमैटिक या गियर वाली कार? अपने लिए बेहतर का इस तरह करें चुनाव

Go to Top