मुख्य समाचार:

ऑटो इंडस्ट्री को जरूरी सेवाओं में शामिल किए जाने की मांग, SIAM ने सरकार से मांगी कामकाज शुरू करने की इजाजत

भारत के ऑटोमोबाइल सेक्टर के मुख्य उघोग संगठनों ने शुक्रवार को साथ मिलकर सरकार से संचालन शुरू करने की मंजूरी मांगी है.

May 2, 2020 6:15 PM
auto industry demands to be part of essential services SIAM writes to government demanding to resume operations भारत के ऑटोमोबाइल सेक्टर के मुख्य उघोग संगठनों ने शुक्रवार को साथ मिलकर सरकार से संचालन शुरू करने की मंजूरी मांगी है.

भारत की ऑटोमोबाइल सेक्टर के मुख्य उघोग संगठनों ने शुक्रवार को साथ मिलकर सरकार से संचालन शुरू करने की मंजूरी मांगी है. इसमें सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM), ऑटोमेटिव कंपोनेंट मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ACMA) और फेडरेशन ऑफ ऑटोमेटिव डीलर्स एसोसिएशन (FADA) शामिल हैं. गृह सचिव को लिखी चिट्ठी में उघोग संगठनों ने पूरी वैल्यू चैन को दोबारा शुरू करने की मांग की है जिसमें वाहन की मैन्युफैक्चरिंग, कंपोनेंट, डीलर्स और सर्विस वर्कशॉप शामिल हैं.

पूरी चैन को शुरू करने की मांग

ACMA, SIAM और FADA द्वारा संयुक्त तौर पर गृह सचिव अजय भल्ला को दिए गए खत में कहा गया है कि ऑटोमोबाइल की वैल्यू चेन बहुत ज्यादा एकीकृत और एक-दूसरे पर निर्भर है. एक निर्माता कामकाज को दोबारा शुरू नहीं कर सकता है, अगर सप्लायर में से कोई एक भी अपने उत्पादन को फिर से शुरू नहीं कर पाता. इसमें यह भी कहा गया है कि अगर डीलरों को वाहनों को बेचने की मंजूरी नहीं दी गई, तो उत्पादन भी बेकार है और इससे केवल इनवेंटरी जमा होती रहेगी.

कोरोना वायरस फैलने के खतरो की चिंता के बारे में 1 मई को भारी उद्योग सचिव अरुण गोयल को भी साथ में लिखे खत में जिक्र है कि हम आपको यह दोबारा आश्वासन देते हैं कि पूरी इंडस्ट्री ने विस्तृत सुरक्षा के लिए SoPs बनाए हैं और सरकार द्वारा बताए गए सोशल डिस्टैंसिंग के नियमों, इन दोनों का बेहद सख्ती के साथ पालन किया जाएगा.

लॉकडाउन में ‘जीरो सेल्स’: अप्रैल में मारुति की एक भी नहीं बिकी कार, 22 मार्च से बंद है ऑपरेशन

रोजाना 2,300 करोड़ रुपये का नुकसान

चिट्ठी में कहा गया है कि इंडस्ट्री को जरूरी सेवाओं के तौर पर देखे जाने की जरूरत है. उसे स्टील और सिमेंट सेक्टर की तरह काम करने की मंजूरी दी जानी चाहिए. इसमें इस बात पर जार दिया गया है कि इंडस्ट्री को रोजाना 2,300 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है. उद्योग संगठनों ने अपील की है कि सेक्टर में आर्थिक गतिविधियों को दोबारा शुरू करना जरूरी है.

इसके अलावा चिट्ठी में कहा गया है कि ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री की नाजुक स्थिति और उसके आर्थिक योगदान को देखते हुए वे यह लिख कर प्रार्थना कर रहे हैं कि पूरी ऑटोमेटिव वैल्यू चैन को खुलने और कामकाज को दोबारा शुरू करने की इजाजत दी जाए. इसमें वाहन निर्माता (OEMs), कंपोनेंट सप्लायर्स, डीलर, सर्विस वर्कशॉप और रीजनल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी शामिल होंगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. ऑटो
  3. ऑटो इंडस्ट्री को जरूरी सेवाओं में शामिल किए जाने की मांग, SIAM ने सरकार से मांगी कामकाज शुरू करने की इजाजत

Go to Top