मुख्य समाचार:
  1. वर्चुअल आधार का क्या है जुगाड़?

वर्चुअल आधार का क्या है जुगाड़?

यूजर जितनी बार चाहे उतनी बार 16 अंकों का वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा. यह आईडी सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैलिड रहेगी.

January 11, 2018 11:03 AM
uidai, virtual aadhar, aadhar card, aadhar saftey, secure aadhar card, आधार कार्ड, वर्चुअल आईडी, वर्चुअल आधार कार्ड, यूआडीएआई यूजर जितनी बार चाहे उतनी बार 16 अंकों का वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा. यह आईडी सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैलिड रहेगी.

पहले की तरह अब हमें किसी सेवा लेने के लिए बार-बार आधार नंबर पहचान कराने की जरुरत नहीं रह जाएगी. आधार और भी ज्यादा सुरक्षित होने वाला है. आधार कार्ड की सुरक्षा को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं इसी को ध्यान में रखते हुए बदलाव किए जा रहे हैं. यूआडीएआई (भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण) ने कहा है कि वह वर्चुअल आधार आईडी लाने वाली है जिसमें 16 अंकों के अस्थायी नंबर होंगे और जिसे आप आधार नंबर के बदले साझा कर सकते हैं. यूआडीएआई, वर्चुअल आधार पर महीनों से काम कर रहा है. यानी अब लोगों को अपना 12 अंकों की बायोमेट्रिक आईडी देने की जरूरत नहीं होगी. यह सुविधा एक मार्च से आने की उम्मीद की जा रही है.

यूजर जितनी बार चाहे उतनी बार वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकेगा. यह आईडी सिर्फ कुछ समय के लिए ही वैलिड रहेगी और तय समय के बाद यूजर को अपना नया आईडी जारी करना होगा. इस वर्चुअल आईडी में 16 रैंडम अंक होंगे. वर्चुअल आईडी से फोन कंपनियां या बैंकों को आधार धारक की सीमित जानकारी मिलेगी जैसे कि नाम, पता और फोटोग्राफ जो उस व्यक्ति की पहचान साबित करने के लिए पर्याप्त होगा. वर्चुअल आईडी से आधार नंबर की जानकारी नहीं मिल सकेगी.

वर्चुअल आईडी कि खास बात यह होगी कि कोई भी इसमें आपके आधार के साथ छेड़छाड़ नहीं कर सकेगा, क्योंकि इसके लागू होते ही यूजर खुद अपने आधार जेनेरेट कर सकता है. यूआडीएआई की वेबसाइट पर जाकर 16 अंकों के इस नंबर को जेनरेट किया जा सकता है. साथ ही उसे वापस, रद्द या फिर बदला भी जा सकेगा.

किसी कंपनी द्वारा किसी के व्यक्ति के पहचान की पुष्टि के लिए अनुरोध करने पर यूआईडीएआई, यूआईडी टोकन जारी करेगा. यह टोकन विशेष आधार नंबर और खास एजेंसी के लिए एक समान होगा. हालांकि, कुछ के लिए यह अलग-अलग हो सकता है.

Go to Top