मुख्य समाचार:
  1. आधार छोड़ने का मिलेगा अधिकार! सरकार लगा सकती है मुहर

आधार छोड़ने का मिलेगा अधिकार! सरकार लगा सकती है मुहर

नागरिक के आधार छोड़ने के बाद उसका नाम आधार डाटा हट जाएगा और उसका सारा डेटा भी हमेशा के लिए डिलीट कर दिया जाएगा.

December 6, 2018 4:58 PM
you can surrender your aadhaar facility may be introduce soonहालांकि आधार छोड़ने के बाद नागरिक को सब्सिडी नहीं मिलेगी.

भारतीय नागरिकों को जल्द ही आधार नंबर  सरेंडर करने यानी उसे छोड़ने की सुविधा मिल सकती है. सरकार इस मामले में एक नए प्रस्ताव पर काम कर रही है. इसके तहत नागरिक के आधार छोड़ने के बाद उसका नाम आधार डाटा हट जाएगा और उसका सारा डेटा भी हमेशा के लिए डिलीट कर दिया जाएगा.

CNBC आवाज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, आधार जारी करने वाली अथॉरिटी UIDAI ने इस मामले में नोट जारी कर दिया है और जल्द ही कैबिनेट द्वारा इस पर मुहर लगाई जा सकती है. इस प्रस्ताव को जांच के लिए लॉ​ मिनिस्ट्री को भेजा जा चुका है. उसके बाद मंत्रालय ने इसे अपनी सिफारिशों के साथ कैबिनेट को भेजा है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि हालांकि आधार छोड़ने के बाद नागरिक को सब्सिडी नहीं मिलेगी.

बच्चे 18 साल पूरा होने के बाद छोड़ सकेंगे आधार

बच्चों के पास 18 साल का होने के बाद आधार से बाहर निकलने का विकल्प होगा. इस उम्र तक पहुंचने के बाद सरकार उन्हें 6 महीने का समय देगी जहां उन्हें ये चुनना होगा कि वो आधार कार्ड को रखना चाहते हैं या उससे बाहर निकलना चाहते हैं.

पैन कार्ड धारकों को नहीं हो सकेगा फायदा

अगर यह सुविधा अमल में आ जाती है तो इससे उन लोगों को फायदा होगा, जिनके पास पैन कार्ड नहीं है. इसकी वजह है कि अभी भी PAN बनवाने के लिए आधार जरूरी है और बाद में PAN-आधार लिंकिंग भी जरूरी है. इसका अर्थ है कि PAN धारक, आधार कार्ड नहीं छोड़ पाएंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने दिया था आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को आदेश दिया था कि नागरिकों के पास आधार से बाहर होने का भी विकल्प होना चाहिए. इसलिए इस दिशा में कदम उठाया जाए. सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को लेकर कई नए नियम बना दिए हैं. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार सेक्शन 57 के तहत अब प्राइवेट कंपनियों के पास बिलकुल ये हक नहीं है कि वो वेरिफिकेशन के लिए आधार डेटा का इस्तेमाल करें. इसके अलावा कई कामों के लिए आधार की अनिवार्यता को भी समाप्त कर दिया गया है.

Go to Top