मुख्य समाचार:
  1. भाजपा को हराने के लिए समान सोच वाले दलों को जोड़ेंगे: सोनिया गांधी

भाजपा को हराने के लिए समान सोच वाले दलों को जोड़ेंगे: सोनिया गांधी

आम चुनाव लगभग एक साल बाद होने हैं लेकिन हमें तैयार रहना होगा. हम भाजपा को 2004 की तरह चुनाव हरा सकते हैं.

February 8, 2018 4:22 PM
sonia gandhi, elections 2019, upa, nda, bjp, inc, सोनिया गांधी, भाजपा, कांग्रेस, चुनाव 2019 आम चुनाव लगभग एक साल बाद होने हैं लेकिन हमें तैयार रहना होगा. हम भाजपा को 2004 की तरह चुनाव हरा सकते हैं. (Reuters)

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने गुरुवार को 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन की बात करते हुए कहा कि इस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को हराने के लिए वह समान सोच वाली पार्टियों के साथ काम करेंगी. कांग्रेस के संसदीय दल की बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने पार्टी सदस्यों से अगले संसदीय चुनावों के लिए कड़ी मेहनत का आह्वान किया.

सैनिटरी पैड पर 12 फीसदी जीएसटी सही: मेनका गांधी

सोनिया गांधी ने कहा कि भाजपा को हराने के लिए वह कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और समान सोच वाले अन्य दलों के नेताओं से संपर्क रखने वाले पार्टी नेताओं के साथ मिलकर रणनीति बनाने का काम करेंगी. उन्होंने कहा, “कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष के तौर पर मैं कांग्रेस अध्यक्ष और अन्य साथियों के साथ काम कर समान सोच वाली अन्य पार्टियों के नेताओं से मंत्रणा करूंगी जिससे अगले चुनाव में भाजपा की हार सुनिश्चित हो सके और भारत लोकतांत्रिक, धर्मनिरपेक्ष, सहिष्णु और आर्थिक प्रगति के मार्ग पर लौट सके.”

कांग्रेस ने 82 फीसदी NPA को 36 फीसदी बताया, मैं जानकार भी चुप था: नरेंद्र मोदी

लोकसभा चुनाव 2014 में पार्टी की करारी हार को ‘असामान्य’ बताते हुए सोनिया ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वे मोदी सरकार के खिलाफ लोगों की नाराजगी को सही दिशा दिखाएं. उन्होंने कहा, “आम चुनाव लगभग एक साल बाद होने हैं लेकिन हमें तैयार रहना होगा. वे (भाजपा) 2004 की तरह इससे पहले भी चुनाव करा सकते हैं.”

उत्तराखंड सरकार ने चाय-नाश्ते पर खर्च किए 68.59 लाख रुपये

सोनिया गांधी ने कहा, “हमारे देश में समाज के हर तबके के लोगों का वर्तमान सरकार से मोह भंग हो चुका है. अब हमें उनकी इस नाराजगी को विपक्ष के समर्थन में लाना है.” उन्होंने कहा, “हम पहले भी वापसी कर चुके हैं और अब हमें वही दोहराना है. इसके लिए हमें मोदी सरकार की असफलताओं को तो जनता के सामने लाना ही होगा, लेकिन इससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है कि हमें सार्वजनिक हितों के मुद्दों पर सकारात्मक और जिम्मेदार माहौल बनाना होगा.”

  1. No Comments.

Go to Top